यह ख़बर 13 नवंबर, 2014 को प्रकाशित हुई थी

केंद्रीय मंत्री रामशंकर कठेरिया पर लगा मार्कशीट में जालसाजी करने का आरोप

नई दिल्ली:

हाल ही में शपथ लेने वाले मानव संसाधन विकास राज्यमंत्री रामशंकर कठेरिया पर यूनिवर्सिटी की मार्कशीट में जालसाज़ी का मामला चल सकता है। वर्ष 2010 में उनके विरोधी बसपा उम्मीदवार ने उनके खिलाफ जालसाजी और बेईमानी की शिकायत दर्ज करवाई थी, और आरोप लगाया था कि कठेरिया ने अपनी बीए सेकंड ईयर और एमए फाइनल की मार्कशीट में जालसाजी की, ताकि आगरा विश्वविद्यालय में लेक्चरर की नौकरी मिल सके। हालांकि राज्यमंत्री का दावा है कि यह पूरा मामला राजनीतिक और बोगस है, और उन्होंने राज्य के शिक्षा विभाग की जांच में क्लीन चिट मिलने का भी दावा किया।

इलाहाबाद हाईकोर्ट ने कठेरिया के ऐतराज़ को खारिज कर दिया है, और आगरा सेशन कोर्ट को मामले की सुनवाई का आदेश दिया है। मामले की सुनवाई अब 26 नवंबर को होगी। अगर कठेरिया इस मामले में दोषी पाए जाते हैं तो उन्हें सात साल तक की सज़ा हो सकती है।

Newsbeep

एनडीटीवी के पास कोर्ट में पेश की गई मार्कशीट की प्रतियां हैं, जिन्हें फर्जी बताया जा रहा है, और आरोप है कि जालसाजी एक बार नहीं, दो बार की गई। कठेरिया पर एमए फाइनल की मार्कशीट में भी जालसाजी का आरोप है। बताया गया कि साहित्यिक लेखन के सिद्धांतों विषय में उन्हें 38 नंबर मिले था, लेकिन उनकी कथित नकली मार्कशीट 72 नंबर बता रही है। बीए सेकंड ईयर की मार्कशीट भी फर्जी बताई जा रही है, क्योंकि हिन्दी साहित्य में जहां उन्हें 43 नंबर मिले थे, वहीं फर्जी बताई जा रही मार्कशीट में 53 नंबर दर्ज थे। साथ ही इसी तरह अंग्रेज़ी में भी फर्जी मार्कशीट में 52 नंबर मिले दिखाए गए हैं, जबकि बताया गया कि उन्हें वास्तव में 42 नंबर मिले थे।

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


हाल ही में सुप्रीम कोर्ट ने कहा था कि उन्हें यकीन है कि प्रधानमंत्री गंभीर आपराधिक आरोपों वाले किसी नेता को अपने कैबिनेट में शामिल नहीं करेंगे, लेकिन आगरा से दो बार के सांसद रामशंकर कठेरिया को मानव संसाधन विकास मंत्रालय में राज्यमंत्री बनाया गया है। उन पर चार साल पहले भी धोखाधड़ी और बेईमानी के आरोप लगे थे।