NDTV Khabar

विरोध के बाद नई शिक्षा नीति के मसौदे में केंद्र ने किया बदलाव, विवादित 'हिंदी क्लॉज' को हटाया

विवार को केंद्र सरकार ने अपना बचाव करते हुए कहा था कि किसी भी राज्य पर हिंदी थोपी नहीं जाएगी.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
विरोध के बाद नई शिक्षा नीति के मसौदे में केंद्र ने किया बदलाव, विवादित 'हिंदी क्लॉज' को हटाया

पिछले शुक्रवार को के. कस्तूरीरंगन समिति ने नई शिक्षा नीति का मसौदा सरकार को सौंपा था.

नई दिल्ली:

गैर हिंदी भाषी राज्यों में हिंदी पढ़ाने का प्रस्ताव देने वाली शिक्षा नीति के मसौदे पर विवाद होने के बाद केंद्र सरकार ने नई शिक्षा नीति के मसौदे में बदलाव किया है. केंद्र सरकार ने विवादित 'हिंदी क्लॉज' को हटा दिया. दक्षिण राज्यों में इस नीति को लेकर विवाद पैदा होने के बाद केंद्री सरकार ने इसमें बदलाव का फैसला लिया है. बता दें, रविवार को केंद्र सरकार ने अपना बचाव करते हुए कहा था कि किसी भी राज्य पर हिंदी थोपी नहीं जाएगी. इसके बाद वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण (Nirmala Sitharaman) और विदेश मंत्री एस जयशंकर (S Jaishankar) ने इस मामले में अपने ट्विटर पर संदेश प्रसारित किए और यह भरोसा दिलाया कि इस ड्राफ्ट को अमल में लाने से पहले इसकी समीक्षा की जाएगी. मोदी सरकार के ये दोनों ही मंत्री तमिलनाडु से हैं.

स्कूलों में त्रिभाषा फार्मूले संबंधी नई शिक्षा नीति के मसौदे पर उठे विवाद के बीच केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री रमेश पोखरियाल ‘निशंक' ने स्पष्ट किया था कि सरकार अपनी नीति के तहत सभी भारतीय भाषाओं के विकास को प्रतिबद्ध है और किसी प्रदेश पर कोई भाषा थोपी नहीं जाएगी. निशंक ने स्पष्ट किया था, ‘हमें नई शिक्षा नीति का मसौदा प्राप्त हुआ है, यह रिपोर्ट है. इस पर लोगों एवं विभिन्न पक्षकारों की राय ली जायेगी, उसके बाद ही कुछ होगा. कहीं न कहीं लोगों को गलतफहमी हुई है.'


हिंदी भाषा विवाद: राज ठाकरे की पार्टी MNS के नेता का बयान- 'हिंदी राष्ट्रीय भाषा नहीं, हमारे माथे पर मत थोपो...'

उन्होंने कहा था कि हमारी सरकार, सभी भारतीय भाषाओं का सम्मान करती है और हम सभी भाषाओं के विकास को प्रतिबद्ध है. किसी प्रदेश पर कोई भाषा नहीं थोपी जायेगी. यही हमारी नीति है, इसलिये इस पर विवाद का कोई प्रश्न ही नहीं है. निशंक ने कहा, ‘कुछ लोग इसे लेकर राजनीतिक विवाद पैदा करने की कोशिश कर रहे हैं. जबकि ऐसा कुछ नहीं है. अभी तो यह केवल मसौदा है.'

'हिंदी विवाद' पर विदेश मंत्री एस जयशंकर ने कहा- कोई भी भाषा थोपी नहीं जाएगी

बता दें, पिछले शुक्रवार को के. कस्तूरीरंगन समिति ने नई शिक्षा नीति का मसौदा सरकार को सौंपा था . इसके तहत नई शिक्षा नीति में तीन भाषा प्रणाली को लेकर केंद्र के प्रस्ताव पर हंगामा मचना शुरू हो गया है. इसे लेकर तमिलनाडु से विरोध की आवाज उठ रही है.

टिप्पणियां

नई शिक्षा नीति के मसौदे में हिंदी को शामिल करने पर तमिलनाडु में उबाल, विरोध शुरू

Video: नई शिक्षा नीति 2019 : दक्षिण में विरोध



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement