NDTV Khabar

आधुनिक हथियारों से लैस 22 'ब्लैक कैट' कमांडो के घेरे में रहते थे सपा मुखिया अखिलेश यादव, लेकिन अब...

केंद्र सरकार उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव (Akhilesh Yadav) को दिया गया जेड प्लस श्रेणी का ‘ब्लैक कैट’ सुरक्षा कवच वापस लेने जा रही है.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
आधुनिक हथियारों से लैस 22 'ब्लैक कैट' कमांडो के घेरे में रहते थे सपा मुखिया अखिलेश यादव, लेकिन अब...

उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव (फाइल फोटो)

नई दिल्ली :

केंद्र सरकार  उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव (Akhilesh Yadav) को दिया गया जेड प्लस श्रेणी का ‘ब्लैक कैट' सुरक्षा कवच वापस लेने जा रही है. आधिकारिक सूत्रों के मुताबिक केंद्रीय सशस्त्र पुलिस बलों (सीएपीएफ) के तहत सुरक्षा प्राप्त वीआईपी लोगों की सुरक्षा की व्यापक समीक्षा गृह मंत्रालय द्वारा की गई, जिसके बाद समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष को उपलब्ध कराया गया विशिष्ट राष्ट्रीय सुरक्षा गार्ड (एनएसजी) कवर वापस लेने का फैसला किया गया. अभी यह स्पष्ट नहीं हुआ कि अखिलेश को किसी दूसरी केंद्रीय सुरक्षा एजेंसी की सेवा मुहैया कराई जाएगी या उनका केंद्रीय सुरक्षा कवच पूरा हटा लिया गया है. उन्होंने कहा कि यादव के पिता और सपा के क्षत्रप मुलायम सिंह यादव का एनएसजी ‘ब्लैक कैट' सुरक्षा कवच पहले की तरह बरकरार रहेगा. 

SP को मुस्लिम वोट बैंक संजोने की चिंता, मायावती के अलग होने के बाद अखिलेश की बढ़ी चुनौती


टिप्पणियां

केंद्र में संप्रग सरकार के दौरान 2012 में अखिलेश (Akhilesh Yadav) को सर्वोच्च वीआईपी श्रेणी की सुरक्षा मुहैया कराई गई थी. अत्याधुनिक हथियारों से लैस 22 एनएसजी कमांडो का एक दल सुरक्षा कवच के तौर पर अखिलेश के साथ तैनात रहता था. ऐसी उम्मीद है कि इस संदर्भ में आदेश जारी होने के बाद उन्हें वापस बुला लिया जाएगा. सूत्रों ने कहा कि केंद्र और राज्य (उत्तर प्रदेश) की खुफिया एजेंसियों की रिपोर्ट के आधार पर गृह मंत्रालय ने खतरे के आकलन के आधार पर यह फैसला किया. उन्होंने कहा कि कम से कम दो दर्जन अन्य वीआईपी लोगों की सुरक्षा या तो वापस ली जाएगी या घटाई जाएगी. अधिकारी ने कहा कि आधिकारिक आदेश जल्द ही जारी होगा. (इनपुट-भाषा) 

VIDEO: सपा-बसपा गठबंधन टूटने के बाद उपचुनाव को लेकर क्या सोचते हैं उनके कार्यकर्ता?



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement