सोनिया गांधी ने मजदूरों का रेल किराया देने की पेशकश की तो सरकार की तरफ से आया यह रिएक्शन... 

सोनिया गांधी (Sonia Gandhi) की इस पेशकश के बाद सरकार की तरफ से रिएक्शन आया. सरकार ने उच्च पदस्थ सूत्रों ने इसका खंडन करते हुए टिप्पणी की कि हम 'भारत के गांवों के इटली नहीं बनने देना चाहते.' 

सोनिया गांधी ने मजदूरों का रेल किराया देने की पेशकश की तो सरकार की तरफ से आया यह रिएक्शन... 

सोनिया गांधी ने कहा कि प्रवासी मजदूरों का किराया कांग्रेस देगी.

नई दिल्ली:

देश में जारी कोरोना संकट के बीच कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने सोमवार को ऐलान किया कि देशभर में फंसे मजदूरों के घर वापस जाने के लिए रेलयात्रा का खर्च कांग्रेस पार्टी उठाएगी. कांग्रेस ने ट्वीट किया, 'भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस ने यह निर्णय लिया है कि प्रदेश कांग्रेस कमेटी की हर इकाई हर जरूरतमंद श्रमिक व कामगार के घर लौटने की रेल यात्रा का टिकट खर्च वहन करेगी व इस बारे जरूरी कदम उठाएगी.' सोनिया गांधी की इस पेशकश के बाद सरकार की तरफ से रिएक्शन आया. सरकार ने उच्च पदस्थ सूत्रों ने इसका खंडन करते हुए टिप्पणी की कि हम 'भारत के गांवों के इटली नहीं बनने देना चाहते.'  

'भव्य लेकिन निराधार घोषणाओं से विपक्ष को मदद मिल सकती है, लेकिन लोगों तक मदद पहुंचाने के लिए सरकार को उचित प्रक्रिया और पूरी जवाबदेही के साथ काम करना सुनिश्चित करना है.'

इससे पहले सोनिया गांधी ने कहा 'श्रमिक व कामगार देश की रीढ़ की हड्डी हैं. उनकी मेहनत और कुर्बानी राष्ट्र निर्माण की नींव है. सिर्फ चार घंटे के नोटिस पर लॉकडाऊन करने के कारण लाखों श्रमिक व कामगार घर वापस लौटने से वंचित हो गए. 1947 के बंटवारे के बाद देश ने पहली बार यह दिल दहलाने वाला मंजर देखा कि हजारों श्रमिक व कामगार सैकड़ों किलोमीटर पैदल चल घर वापसी के लिए मजबूर हो गए. न राशन, न पैसा, न दवाई, न साधन, पर केवल अपने परिवार के पास वापस गांव पहुंचने की लगन. उनकी व्यथा सोचकर ही हर मन कांपा और फिर उनके दृढ़ निश्चय और संकल्प को हर भारतीय ने सराहा भी. पर देश और सरकार का कर्तव्य क्या है? आज भी लाखों श्रमिक व कामगार पूरे देश के अलग अलग कोनों से घर वापस जाना चाहते हैं, पर न साधन है, और न पैसा. दुख की बात यह है कि भारत सरकार व रेल मंत्रालय इन मेहनतकशों से मुश्किल की इस घड़ी में रेल यात्रा का किराया वसूल रहे हैं. '

साथ ही उन्होंने कहा, 'श्रमिक व कामगार राष्ट्रनिर्माण के दूत हैं. जब हम विदेशों में फंसे भारतीयों को अपना कर्तव्य समझकर हवाई जहाजों से निशुल्क वापस लेकर आ सकते हैं, जब हम गुजरात के केवल एक कार्यक्रम में सरकारी खजाने से 100 करोड़ रु. ट्रांसपोर्ट व भोजन इत्यादि पर खर्च कर सकते हैं, जब रेल मंत्रालय प्रधानमंत्री के कोरोना फंड में 151 करोड़ रु. दे सकता है, तो फिर तरक्की के इन ध्वजवाहकों को आपदा की इस घड़ी में निशुल्क रेल यात्रा की सुविधा क्यों नहीं दे सकते?'

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने कहा, 'भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस ने मेहनतकश श्रमिकों व कामगारों की इस निशुल्क रेलयात्रा की मांग को बार बार उठाया है. दुर्भाग्य से न सरकार ने एक सुनी और न ही रेल मंत्रालय ने. इसलिए, भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस ने यह निर्णय लिया है कि प्रदेश कांग्रेस कमेटी की हर इकाई हर जरूरतमंद श्रमिक व कामगार के घर लौटने की रेल यात्रा का टिकट खर्च वहन करेगी व इस बारे जरूरी कदम उठाएगी. मेहनतकशों के साथ कंधे से कंधा मिलाकर खड़े होने के मानव सेवा के इस संकल्प में कांग्रेस का यह योगदान होगा.'

VIDEO: लॉकडाउन में फंसे मजदूरों का रेल किराया देगी कांग्रेस