NDTV Khabar

चंबल डीआईजी करेंगे कॉन्स्टेबल खुदकुशी की जांच, मध्यप्रदेश के गृहमंत्री का फरमान

मध्यप्रदेश के भिंड जिले में गांधी जयंती के मौके पर फावड़े से सफाई करने से इनकार करने पर एक थाना प्रभारी पर आरोप है कि उसने हेड कॉन्स्टेबल को अपशब्द कहे और उसे पीटा. बाद में कॉन्स्टेबल ने जहर पीकर खुदकुशी कर ली.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
चंबल डीआईजी करेंगे कॉन्स्टेबल खुदकुशी की जांच, मध्यप्रदेश के गृहमंत्री का फरमान

प्रतीकात्मक तस्वीर.

खास बातें

  1. थाना प्रभारी पर कॉन्स्टेबल को अपशब्द कहने और पीटने का आरोप
  2. मृतक के परिजनों ने थाना प्रभारी के खिलाफ मामला दर्ज करने की मांग की
  3. परिजनों ने एसपी को हटाने की मांग को लेकर रौन थाने का घेराव भी किया
भोपाल: मध्यप्रदेश के भिंड जिले में गांधी जयंती के मौके पर फावड़े से सफाई करने से इनकार करने पर एक थाना प्रभारी पर आरोप है कि उसने हेड कॉन्स्टेबल को अपशब्द कहे और उसे पीटा. बाद में कॉन्स्टेबल को एसपी से भी फटकार मिली. इससे दुखी होकर उसने जहर पीकर खुदकुशी कर ली. मामले में गृहमंत्री ने जांच के आदेश दिए हैं.

यह भी पढ़ें : राजस्थान: घरेलू अनबन के बाद कांस्टेबल ने पत्नी को गोली मारने के बाद खुदकुशी की

2 अक्तूबर को पूरे देश में स्वच्छता दिवस मनाया गया. उस दिन भिंड ज़िले के रौन थाने में पदस्थ हेड कॉन्स्टेबल राम कुमार शुक्ला का पहले अपने थानेदार से फावड़े को लेकर सफाई के नाम पर झगड़ा हुआ. अस्पताल पहुंचने के बाद मोबाइल पर हुई रिकॉर्डिंग में रामकुमार शुक्ला ने कहा था पता नहीं क्यों थाना इंचार्ज मुझसे 3-4 दिनों से दुश्मनों की तरह बर्ताव कर रहे हैं. मैंने फावड़ा चलाने से मना किया तो मुझे उससे पीट दिया. मेरे ख़िलाफ झूठी कार्रवाई की. मैंने एसपी को बताया तो उन्होंने भी मुझे डांट दिया और कोई कार्रवाई नहीं की. हालांकि एसपी इस घटना से इंकार कर रहे हैं.
 
VIDEO: डीएनडी पर खुदकुशी करने वाले शख्स को बचाया
घटना के बाद अपने सरकारी घर में शुक्ला ने जहर पी ली. परिजन उन्हें ग्वालियर के अस्पताल ले गए जहां उन्होंने दम तोड़ दिया. मृतक के परिजनों ने थाना प्रभारी के खिलाफ मामला दर्ज करने और एसपी को हटाने की मांग को लेकर रौन थाने का घेराव किया. सरकार ने मामले में जांच के आदेश दे दिए हैं.

जांच रिपोर्ट आने के बाद होगी कार्रवाई
गृहमंत्री भूपेन्द्र सिंह ने कहा कि डीआईजी चंबल मामले की जांच करेंगे. जांच के रिपोर्ट आने पर ही कार्रवाई होगी. कुछ दिनों पहले सबलगढ़ के एसडीओपी ने खुद को सर्विस रिवॉल्वर से गोली मारी, अब एक हेड कॉन्स्टेबल ने खुदकुशी कर ली. सरकार हर मामले में जांच की बात कह रही है, लेकिन एक बात तय है कि सबकी सुरक्षा में हमेशा लगे पुलिसवालों की मानसिक हालत कहीं ना कहीं असुरक्षित होती जा रही है. 


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement