NDTV Khabar

Chandra Grahan 2018: बिहार के कई जगहों पर नहीं दिखा चंद्र ग्रहण

चंद्रग्रहण को देखने के कई इलाके में इंतजार करते रहे लोग.

89 Shares
ईमेल करें
टिप्पणियां
Chandra Grahan 2018: बिहार के कई जगहों पर नहीं दिखा चंद्र ग्रहण

चंद्रग्रहण की फाइल फोटो

खास बातें

  1. बादल की वजह से नहीं दिख पाया चंद्रग्रहण
  2. बिहार के कुछ इलाके में दिखा ग्रहण
  3. ग्रहण देखने के लिए इंतजार कर रहे थे लोग
नई दिल्ली: Chandra Grahan को देखने से इस राज्य के कई इलाके के लोग अछूते रह गए. यहां रहने वाले लोग शाम से ही चंद्रग्रहण को देखने का इंतजार कर रहे थे. दरअसल, बिहार के कई इलाकों में शाम से ही बादल छाए हुए थे. इस वजह से ही यहां लोग चंद्रग्रहण नहीं देख पाए. जिन इलाकों में ग्रहण नहीं दिखा उनमें भागलपुर, कटिहार, मुजफ्फरपुर, पटना शामिल हैं. 

यह भी पढ़ें: अंतरिक्ष से चंद्रग्रहण का अद्भुत नजारा, देखें खूबसूरत तस्वीरें

देश के अलग-अलग शहरों में ग्रहण के दिखने का समय अलग है. शाम करीब 4.22 बजे से शुरू हुए इस ग्रहण को सबने देखा. बड़े शहरों की अगर बात करें तो देश में सबसे पहले चंद्र ग्रहण गुवाहाटी में शाम 5.01 मिनट पर दिखा. इसके बाद पटना में 5.28 मिनट पर, राजधानी दिल्ली में 5.57 मिनट पर और मुंबई में यह 6.29 मिनट पर देखा गया. भारत में बुधवार शाम 4.22 मिनट पर यह शुरू हुआ. शाम 5.18 मिनट पर आंशिक ग्रहण की शुरुआत हुई. वहीं शाम 6.22 मिनट पर इसे पूर्ण रूप में देखा गया. शाम 7 बजे ग्रहण अपने मध्य स्थिति में पहुंचा. जबकि शाम 7.38  बजे पूर्ण ग्रह समाप्त हुआ. रात करीब 8.41 बजे इसका आंशिक रूप दिखना बंद हुआ. 

यह भी पढ़ें:  जानिए देश में किस शहर में कब शुरू हुआ ग्रहण

कब होता है चंद ग्रहण
चंद्र ग्रहण तब होता है जब सूर्य, पृथ्वी एवं चंद्रमा ऐसी स्थिति में होते हैं कि कुछ समय के लिए पूरा चांद अंतरिक्ष धरती की छाया से गुजरता है. लेकिन पृथ्वी के वायुमंडल से गुजरते वक्त सूर्य की लालिमा वायुमंडल में बिखर जाती है और चंद्रमा की सतह पर पड़ती है. इसे ब्लड मून भी कहा जाता है. ये तीनों एक ही रात को पड़ेगा. जिसे सुपर ब्लू ब्लड मून भी कहा जा रहा है.

क्यों अलग है चंद्र ग्रहण
सूर्य ग्रहण की तरह आपको इसे चश्मों के साथ देखने की ज़रूरत नहीं. बल्कि आप चंद्र ग्रहण को नंगी आंखों से देख सकते हैं.

टिप्पणियां
VIDEO: इस वजह से खास होता है चंद्रग्रहण


वहीं, सूर्य ग्रहण को खास सोलर फिल्टर वाले चश्मों से देखने की सलाह दी जाती है जिन्हें सोलर-व्युइंग ग्लासेस, पर्सनल सोलर फिल्टर्स या आइक्लिप्स ग्लासेस कहा जाता है.हालांकि अगर आप चाहे तो खुले मैदान या फिर पास के किसी पार्क में जाकर चांद का दीदार कर सकते हैं. (इनपुट एजेंसी से) 


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement