Chandrayaan 2: मिलिए, चेन्नई के उस इंजीनियर से जिसने तस्वीरों में खोजा विक्रम लैंडर, फिर दी NASA को जानकारी

Chandrayaan 2 Mission: अमेरिका की अंतरिक्ष एजेंसी नासा (NASA) ने मंगलवार को इसकी घोषणा की है कि विक्रम लैंडर का मलबा मिल गया है और जहां क्रैश हुआ, उस जगह की तस्वीर भी जारी की गई है.

Chandrayaan 2: मिलिए, चेन्नई के उस इंजीनियर से जिसने तस्वीरों में खोजा विक्रम लैंडर, फिर दी NASA को जानकारी

भारतीय इंजीनियर शनमुगा सुब्रमण्यम.

खास बातें

  • चांद की सतह पर मिला मलबा
  • नासा ने ट्वीट कर दी जानकारी
  • नासा ने तस्वीर भी जारी की
नई दिल्ली:

अंतरिक्ष में रुचि लेने वाले एक भारतीय द्वारा अमेरिका के ऑर्बिटिंग कैमरा से चंद्रमा की तस्वीरों का निरीक्षण करने के बाद नासा (NASA) ने कहा कि उसे भारतीय चंद्रयान-2 (Chandrayaan 2 Mission) विक्रम लैंडर का दुर्घटनास्थल और मलबा मिला है. इस जगह का पता शनमुगा सुब्रमण्यम ने पता लगाया, जिन्होंने खुद लूनर रिकनाइसांस ऑर्बिटल कैमरा (एलआरओसी) से तस्वीरें डाउनलोड कीं। इसकी पुष्टि नासा और एरिजोना स्टेट यूनिवर्सिटी ने सोमवार को की. सुब्रमण्यम ने उस मलबे का पता किया, जिसकी तलाश वैज्ञानिक कर रहे थे और उन्होंने वैज्ञानिकों की वह जगह खोजने में मदद की, जहां विक्रम लैंडर क्रैश हुआ था. 

अमेरिका की अंतरिक्ष एजेंसी नासा ने मंगलवार को इसकी घोषणा की है कि विक्रम लैंडर का मलबा मिल गया है और जहां क्रैश हुआ, उस जगह की तस्वीर भी जारी की गई है. नासा ने अपने बयान में कहा, 'शनमुगा ने सबसे पहले मैन क्रैश साइट से लगभग 750 मीटर उत्तर पश्चिम में मलबा देखा.' 

Chandrayaan 2: चंद्रमा की सतह पर विक्रम लैंडर का पता चला, NASA ने ट्वीट की तस्वीर

एनडीटीवी से बात करते हुए सुब्रमण्यम ने कहा, 'मैंने विक्रम लैंडर का संभावित मार्ग खोजने में कड़ी मेहनत की. मैं बहुत खुश हूं. बहुत मेहनत करनी पड़ी. मुझे हमेशा से अंतरिक्ष विज्ञान का शौक रहा है. मैंने कभी भी कोई लॉन्च नहीं छोड़ा.'

नासा ने कहा कि पहली धुंधली तस्वीर दुर्घटनास्थल की हो सकती है जो एलआरओसी द्वारा 17 सितंबर को ली गई तस्वीरों से बनाई गई है. कई लोगों ने विक्रम के बारे में जानने के लिए इस तस्वीर को डाउनलोड किया. नासा ने कहा कि उनमें से एक सुब्रमण्यम ने मलबे की सकारात्मक पहचान के साथ एलआरओसी प्रोजेक्ट से संपर्क किया. एलआरओसी एरिजोना स्टेट यूनिवर्सिटी (एएसयू) में स्थित है.

चंद्रयान-3 परियोजना पर काम शुरू, सरकार ने संसद से 75 करोड़ रुपये आवंटित करने की मांगी मंजूरी

एएसयू ने कहा, 'यह जानकारी मिलने के बाद एलआरओसी टीम ने पहले और बाद की तस्वीरों की तुलना कर पहचान की पुष्टि कर दी.' यूनिवर्सिटी ने कहा कि जब पहले मोजाइक के लिए 17 सितंबर को तस्वीरें ली गईं, तो दुर्घटनास्थल बहुत धुंधला दिख रहा था और आसानी से इसे पहचाना नहीं जा सकता था. लेकिन 14-15 अक्टूबर को और 11 नवंबर को ली गई तस्वीरों के दो क्रम बेहतर थे.

यूनिवर्सिटी ने कहा कि सुब्रमण्यम द्वारा दी गई सूचना पर एलआरओसी टीम ने नए मोजाइक्स में आसपास के क्षेत्र की तलाशी ली और दुर्घटनास्थल तथा मलवे का स्थान देख लिया. यूनिवर्सिटी ने कहा कि दुर्घटनास्थल 70.8810 डिग्री एस, 22.7840 डिग्री ई, 834 मीटर ऊंचाई पर स्थित है. एएसयू ने कहा, "शनमुगा ने सबसे पहले मलबा मुख्य दुर्घटनास्थल से 750 मीटर उत्तर-पश्चिम में देखा.'

NASA ने चंद्रयान -2 के लैंडर को लेकर किया बड़ा खुलासा, कहा - ऑर्बिटर से मिली ताजा फोटो में हमें...

बता दें, छह सितंबर को चंद्रयान-2 से लॉन्चिंग के बाद चंद्रमा के दक्षिणी ध्रुव पर सॉफ्टलैंडिंग करने के प्रयास के दौरान लैंडर विक्रम का भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) से संपर्क टूट गया था.

VIDEO: Chandrayaan 2: चंद्रमा की सतह पर विक्रम लैंडर का पता चला

 
Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com