Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com
NDTV Khabar

कश्मीर घाटी में मोबाइल सेवाएं बंद होने के बावजूद भी लोगों का आ रहा है बिल 

घाटी में रहने वाले कई लोगों को कहना है कि उन्हें बंद पड़ी सेवाओं को लिए भी बिल भेजा जा रहा है.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
कश्मीर घाटी में मोबाइल सेवाएं बंद होने के बावजूद भी लोगों का आ रहा है बिल 

प्रतीकात्मक चित्र

नई दिल्ली:

कश्मीर घाटी में बीते डेढ़ महीने से ज्यादा समय से भले ही मोबाइल और इंटरनेट सेवाएं बंद हो लेकिन मोबाइल कंपनियां यहां लोगों को बिल जरूर दे रही हैं. घाटी में रहने वाले कई लोगों को कहना है कि उन्हें बंद पड़ी सेवाओं को लिए भी बिल भेजा जा रहा है. सफाकदल के निवासी ओबैद नबी ने कहा कि पांच अगस्त से कश्मीर में मोबाइल फोन और इंटरनेट सेवाएं काम नहीं कर रही हैं , लेकिन फिर भी एयरटेल की ओर से 779 रुपये का बिल दिया गया है. मैं यह समझ नहीं पर रहा हूं कि हम शुल्क क्यों लगाया जा रहा है. वहीं , बीएसएनएल का कनेक्शन इस्तेमाल करने वाले मोहम्मद उमर ने कहा कि उनका महीने का मोबाइल बिल करीब 380 रुपये आता था , लेकिन वह जिस दौरान सेवाएं बंद है उस समय के लिए बिल आने से हैरान हूं. उसने कहा कि पिछले महीने के लिए मुझे 470 रुपये का बिल भेजा गया है.

टिप्पणियां

र्रियत कांफ्रेंस के नेता मीरवाइज फारूक ने अपनी रिहाई के लिए भरा बांड


हैरानी करने वाली बात यह है कि पिछले डेढ महीने से फोन सेवाएं काम नहीं कर रही हैं. कई ग्राहकों ने कहा कि वे उम्मीद कर रहे थे कि दूरसंचार बंद होने के कारण इस अवधि के लिए उनका शुल्क (बिल) माफ कर दिया जाएगा क्योंकि कश्मीर में 2016 के आंदोलन और 2014 की बाढ़ के बाद भी ऐसा किया गया था. इस संबंध में भेजे गए ई - मेल का जवाब भारती एयरटेल ने नहीं दिया है. वहीं, वोडाफोन आइडिया और रिलायंस जियो ने भी कोई जवाब नहीं दिया है. बीएसएनएल के चेयरमैन पी . के पुरवार ने बताया कि यह छूट 3,000 मामलों को छोड़कर सभी में लागू की गई है. विशिष्ट मामलों में भी जब ग्राहक बिल का भुगतान करने के लिए आएगा तो उसे छूट दी जाएगी. 



(हेडलाइन के अलावा, इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है, यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


 Share
(यह भी पढ़ें)... UP के पूर्व राज्यपाल का आरोप- CAA विरोधी प्रदर्शनों में 'पाकिस्तान जिंदाबाद' बोलने वाले सरकार के लोग

Advertisement