NDTV Khabar

...तो हमारी सेना घुस जाएगी कश्मीर में : चीनी मीडिया

अखबार ने दावा करते हुए  लिखा है कि उसके कूटनीतिक सूत्रों के मुताबिक भूटान को यह पता नहीं भी था कि भारत ने उस इलाके में घुसपैठ कर रखी है. 

2.1K Shares
ईमेल करें
टिप्पणियां
...तो हमारी सेना घुस जाएगी कश्मीर में : चीनी मीडिया

फाइल फोटो

खास बातें

  1. डोकलाम के मुद्दे पर अब चीन की नई चाल
  2. कश्मीर में हस्तक्षेप करने की दी गई धमकी
  3. भारत पर डोकलाम में घुसपैठ का आरोप
नई दिल्ली: डोकलाम के मुद्दे परचीन ने अब एक नई चाल चली है. चीन के सरकारी अखबारग्लोबल टाइम्स ने गुरुवार को लिखा है कि डोकलाम का मसला चीन-भूटान सीमा विवाद है. इसमें भारत को तीसरे पक्ष के रूप में दखल देने का कोई हक नहीं है. अखबार ने आगे लिखा है कि नई दिल्ली के हिसाब से उसका यह तर्क है तो उसके लिए खतरनाक होगा क्योंकि कश्मीर के मसले पर पाकिस्तान कहेगा तो चीन की सेना वहां के विवादित एरिया में घुस जाएगी जिसमें जम्मू- कश्मीर भी शामिल है. अखबार में यह भी लिखा गया है कि भूटान ने भारत से कई मदद नहीं मांगी है फिर भारत वहां पर टांग अड़ा रहा है. अखबार ने दावा करते हुए  लिखा है कि उसके कूटनीतिक सूत्रों के मुताबिक भूटान को यह पता नहीं भी था कि भारत ने उस इलाके में घुसपैठ कर रखी है. 

यह भी पढ़ें :  सिक्किम में तनाव के बीच राष्‍ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल ने की चीनी समकक्ष से मुलाकात

गुरुवार को ही एनएसए डोभाल से हुई मुलाकात
गौरतलब है कि राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल स समय बिक्स देशों के सुरक्षा सम्मेलन में हिस्सा लेने के लिए बीजिंग में हैं. वहां इस सम्मेलन के इतर उनकी मुलाकात चीन के एनएसए से यांग जिची से मुलाक़ात की है. अजीत डोभाल शुक्रवार को राष्ट्रपति शी जिनपिंग से मुलाक़ात कर सकते हैं.

यह भी पढ़ें :  डोकलाम में भारत-चीन के बीच सीमा विवाद युद्ध का कारण बन सकता है : अमेरिकी विशेषज्ञ

अजीत डोभाल का कहना है कि सभी ब्रिक्स देशों को आतंकवाद के खिलाफ एकजुट होना चाहिए. लेकिन इसी बीच चीन ने डोकलाम का मुद्दा उठा दिया है. 


Video :  भारतीय टैंकों की तैनाती से चीन गुस्से में


42 दिनों से सेनाएं आमने-सामने
डोकलाम के मुद्दे पर भारत और चीन की सेनाएं 42 दिनों से आमने-सामने हैं. चीन डोकलाम में सड़क बनाना चाहता है जिसका विरोध भारत कर रहा है. भारत का दावा है कि इस हिस्से में चीन की दखलंदाजी भारत के लिए खतरा है. वहीं यह हिस्सा भूटान का है जहां पर चीन जबरदस्ती घुसना चाहता है. 


 


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement