किसान बिल पर विवाद : चिदंबरम बोले- PM मोदी ने "कांग्रेस के घोषणा पत्र को तोड़-मरोड़कर" पेश किया

पूर्व वित्त मंत्री चिदंबरम ने कहा कि हमने यह स्पष्ट किया था कि APMC अधिनियन को समाप्त करने से पहले किसानों के लिए "कई कृषि बाजार" बनाए जाएंगे.

किसान बिल पर विवाद : चिदंबरम बोले- PM मोदी ने

चिदंबरम ने किसान बिल को लेकर प्रधानमंत्री मोदी पर साधा निशाना

खास बातें

  • किसान बिल को लेकर चिदंबरम का मोदी सरकार पर निशाना
  • चिदंबरम ने कहा- पीएम मोदी ने कांग्रेस के मेनिफेस्टो को 'तोड़ा-मरोड़ा'
  • ट्वीट के जरिए भी सरकार पर बोला हमला
नई दिल्ली:

कांग्रेस सांसद और पूर्व वित्त मंत्री पी चिदंबरम (P Chidambaram) ने किसानों से जुड़े विधेयकों को लेकर शनिवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) और बीजेपी प्रवक्ताओं पर निशाना साधा है. चिदंबरम मे आरोप लगाया है कि प्रधानमंत्री मोदी और बीजेपी प्रवक्ताओं ने कांग्रेस के 2019 के घोषणापत्र को "गलत इरादे से" तोड़ मरोड़ करके पेश कर रही है. बता दें कि किसानों से जुड़े बिलों को लेकर सत्ता पक्ष और विपक्ष आमने-सामने हैं. वहीं, किसान भी इन विधेयकों को लेकर प्रदर्शन कर रहे हैं. 

पिछले साल आम चुनाव से पहले कांग्रेस ने कृषि कानूनों में बदलाव का सुझाव दिया था, जिसे कृषि बाजार उत्पादन समिति (AMPC) अधिनियम को खत्म करने के रूप में देखा जा रहा था. नरेन्द्र मोदी सरकार द्वारा प्रस्तावित विधेयक भी कुछ इसी तरह है और भाजपा अपने बचाव के लिए इसी का सहारा ले रही है. 

हालांकि, पूर्व वित्त मंत्री चिदंबरम ने कहा कि हमने यह स्पष्ट किया था कि APMC अधिनियन को समाप्त करने से पहले किसानों के लिए "कई कृषि बाजार" बनाए जाएंगे ताकि किसान अपनी फसल आसानी से बेच सकें.

चिदंबरम ने बयान में कहा, "प्रधानमंत्री और बीजेपी के प्रवक्ताओं ने जानबूझकर और दुर्भावनापूर्ण रूप से कांग्रेस के घोषणा तोड़-मरोड़कर पेश कर रही है... किसानों को कई ऐसे बाजारों की जरूरत है, जहां वे आसानी से पहुंचे सकें और अपनी फसल को खुलकर बेच सकें. कांग्रेस के प्रस्ताव में किसानों के लिए यही कहा गया था."

पूर्व वित्त मंत्री ने कहा कि हमने अपने घोषणा पत्र में यह वादा भी किया था कि कृषि उत्पादक कंपनियों/संगठनों को प्रोत्साहित करेंगे ताकि किसानों की लागत, प्रौद्योगिकी और बाजार तक पहुंच हो सके. हमने यह भी कहा था कि उचित बुनियादी ढांचे तथा बड़े गांवों एवं छोटे कस्बों में सहयोग से कृषि बाजार स्थापित किए जाएंगे ताकि किसान अपनी उपज ला सकें और खुलकर बेच सकें. एक बार यह काम पूरा होने के बाद, APMC कानूनों को बदला जा सकता है. 

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

चिदंबरम ने अपने एक ट्वीट में कहा, "मोदी सरकार द्वारा जो कानून पारित करने की कोशिश की जा रही है वो MSP के सिद्धांत और सार्वजनिक खरीद प्रणाली को बर्बाद कर देगा." 

वीडियो: कृषि विधेयक के विरोध में आज भी किसानों का प्रदर्शन