NDTV Khabar

बिहार टॉपर स्कैम पर बोले CM नीतीश कुमार- जांच के बाद हुई गणेश पर कार्रवाई, परीक्षा में नहीं हुई कोई धांधली

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने सोमवार को कहा कि कला संकाय में टॉप करने वाले गणेश कुमार का रिजल्ट निलंबित कर दिया गया है. साथ ही उसके खिलाफ मुकदमा दर्ज किया गया है. जांच में पता चला है कि गणेश ने दूसरी बार परीक्षा दी थी.

761 Shares
ईमेल करें
टिप्पणियां
बिहार टॉपर स्कैम पर बोले CM नीतीश कुमार- जांच के बाद हुई गणेश पर कार्रवाई, परीक्षा में नहीं हुई कोई धांधली

बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार

खास बातें

  1. बिहार टॉपर स्कैम पर सीएम नीतीश कुमार का बयान
  2. सीएम नीतीश कुमार ने टॉपर गणेश कुमार की गिरफ्तारी को सही बताया
  3. कहा, बिहार बोर्ड की परीक्षा में नहीं हुई कोई धांधली
पटना: बिहार बोर्ड के 12वीं के टॉपर विवाद मामले में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने पहली बार बयान दिया है. मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने सोमवार को कहा कि कला संकाय में टॉप करने वाले गणेश कुमार का रिजल्ट निलंबित कर दिया गया है. साथ ही उसके खिलाफ मुकदमा दर्ज किया गया है. जांच में पता चला है कि गणेश ने दूसरी बार परीक्षा दी थी. इसके बाद कार्रवाई की गई है. सीएम नीतीश ने कहा कि इस बार के रिजल्ट ही बता रहे हैं कि कितनी कड़ाई से परीक्षा ली गई थी. उन्होंने कहा कि परीक्षा में धांधली या किसी प्रकार की गड़बड़ी बर्दाश्त नहीं की जाएगी. उन्होंने कहा कि इस साल जब उत्तर पुस्तिकाओं का मूल्यांकन होना था तब शिक्षक हड़ताल पर चले गए थे. इसके बाद भी कॉपियों के मूल्यांकन में किसी भी प्रकार की गड़बड़ी नहीं होने दी गई. मामले के प्रकाश में आने के बाद पुलिस ने गणेश को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया है.

नीतीश कुमार ने ये भी कहा कि बिहार के लोग ही राज्य की छवि खराब करने का काम कर रहे हैं। इस बार बिहार बोर्ड का रिजल्ट इसलिए खराब है, क्योंकि नकल और चोरी रोकी गई है. परीक्षा में कोई धांधली नहीं हुई है। मुख्यमंत्री ने कहा है कि शिक्षा में सुधार की कोशिश जारी है और काफी हद तक इसका असर भी दिखने लगा है. यह हमारे सामने एक चुनौती है, जिसको हमने स्वीकारा है.

मालूम हो कि बिहार स्कूल एग्जामिनेशन बोर्ड (बीएसईबी) की इंटरमीडिएट (12वीं कक्षा) का रिजल्ट आने के बाद घोटाले का पर्दाफाश हुआ. 1990 में मैट्रिक की परीक्षा पास करने वाले 42 वर्षीय ने इस बार उम्र कम दिखाकर दोबारा 12वीं की बोर्ड परीक्षा दी और कला संकाय में टॉप कर गया. 1990 में गणेश कुमार का सही नाम गणेश राम था. पिता का नाम शंकर नाथ राम है. उनकी जन्मतिथि 7 नवंबर, 1975 है. गणेश कुमार ने 1990 में मैट्रिक की परीक्षा सी आर एस स्कूल सरिया गिरिडीह (जो अब झारखंड) में है से दी थी. इसके 25 साल बाद 2015 में गणेश राम ने अपना नाम और जन्मतिथि बदल ली. गणेश ने 2015 में अपनी जन्मतिथि 2 जून 1993 दिखाकर बिहार के समस्तीपुर से मैट्रिक की परीक्षा दी.

गणेश कुमार झारखंड के गिरीडीह का रहने वाला है, लेकिन इंटर की पढ़ाई करने के लिए वह 250 किलोमीटर दूर बिहार के समस्तीपुर पहुंचा. यहां उसने रामनंदन सिंह जगदीश नारायण कॉलेज में 2015 में दाखिला लिया. उसे इस साल 12वीं के रिजल्‍ट में म्‍यूजिक (प्रेक्टिकल) में 70 में से 65 अंक हासिल हुए हैं. जबकि म्‍यूजिक (थ्‍योरी) में 30 में से 18 अंक मिले हैं. उसे कुल 83 अंक मिले हैं और उसने राज्‍य में म्‍यूजिक में टॉप किया है.

पिछले वर्ष भी बिहार इंटर परीक्षा के कला संकाय की टापर्स रही रूबी राय पर सवाल खड़े हो गए थे, जिसके बाद उसकी गिरफ्तारी भी हुई थी.

उल्लेखनीय है कि गत 30 मई को जारी इंटर परीक्षा के परिणाम में 64 प्रतिशत छात्रों के विफल हो जाने से उत्तेजित छात्रों के पटना स्थित इंटर काउंसिल मुख्यालय के समक्ष प्रदर्शन करने के चलते पुलिस को लाठीचार्ज करना पड़ा था.

उल्‍लेखनीय है कि बिहार विद्यालय समिति द्वारा बीते वर्ष आयोजित प्लस-2 परीक्षा में हुए टॉपर्स घोटाला मामले में समिति के अध्यक्ष लालकेश्वर सिंह, उनकी पत्नी एवं पूर्व जदयू विधायक उषा सिन्हा और वैशाली जिला के एक महाविद्यालय के प्राचार्य बच्चा राय सहित कई अन्य लोगों को गिरफ्तार किया गया था.


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement