NDTV Khabar

बाल विवाह की शिकार 40 फीसदी लड़कियां पश्चिम बंगाल से : सर्वे

रिपोर्ट में कहा गया कि बाल विवाह का सबसे कम प्रतिशत पंजाब और केरल में दर्ज किया गया. इन दोनों राज्यों में यह प्रतिशत कुल 7.6 है.

127 Shares
ईमेल करें
टिप्पणियां
बाल विवाह की शिकार 40 फीसदी लड़कियां पश्चिम बंगाल से : सर्वे

खास बातें

  1. बाल विवाह की शिकार महिलाएं पश्चिम बंगाल से
  2. दूसरे स्थान पर बिहार और तीसरे पर झारखंड
  3. सबसे कम प्रतिशत पंजाब और केरल में
नई दिल्ली: सुप्रीम कोर्ट में सौंपे गए एक सर्वेक्षण के नतीजों में दावा किया गया कि​ बाल विवाह का शिकार हुई सबसे ज्यादा लड़कियां पश्चिम बंगाल में हैं. नाबालिग पत्नी से यौन संबंध को बलात्कार करार देने का ऐतिहासिक फैसला सुनाने वाले सुप्रीम कोर्ट ने अपने आदेश में इस सर्वे का हवाला देते हुए कहा कि​ बाल विवाह का शिकार हुई 40.7 फीसदी लड़कियों का यह आंकड़ा भारत के पूर्वी राज्य बंगाल के ग्रामीण इलाकों में बढ़कर 47 फीसदी तक हो जाता है.

बिहार में नीतीश कुमार की मुहिम ला रही है रंग, कई दूल्हे पहुंचे जेल, जानें क्या है मामला

रिपोर्ट में कहा गया कि बाल विवाह का सबसे कम प्रतिशत पंजाब और केरल में दर्ज किया गया. इन दोनों राज्यों में यह प्रतिशत कुल 7.6 है.

राष्ट्रीय परिवार स्वास्थ्य सर्वेक्षण 2015-16 के मुताबिक, बाल विवाह का शिकार हुई लड़कियों के मामले में दूसरे और तीसरे पायदान पर बिहार (39 फीसदी) और झारखंड (38 फीसदी) हैं. न्यायमूर्ति एमबी लोकुर और न्यायमूर्ति दीपक गुप्ता की पीठ के समक्ष यह रिपोर्ट सौंपी गई थी. इस पीठ ने फैसला सुनाया है कि 18 साल से कम उम्र की पत्नी के साथ यौन संबंध बनाना आईपीसी के तहत अपराध होगा और इसके जुर्म में 10 साल तक की जेल की सजा सुनाई जा सकती है.

बाल विवाह पर सुप्रीम कोर्ट ने जताई चिंता, कहा - ये मैरिज नहीं मिराज है

शीर्ष न्यायालय के फैसले की रोशनी में काफी अहमियत रखने वाले इस आंकड़े के मुताबिक, राष्ट्रीय राजधानी ​दिल्ली में 2015-16 में बाल विवाह का शिकार हुई लड़कियों की संख्या 16 फीसदी थी जबकि 2005-06 में यह आंकड़ा 22.7 फीसदी था. रिपोर्ट के मुताबिक- राजस्थान, महाराष्ट्र और गुजरात में बाल विवाह का शिकार हुई लड़कियों की संख्या क्रमश: 35.4 फीसदी, 25 फीसदी और 24.9 फीसदी है.

(हेडलाइन के अलावा, इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है, यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement