NDTV Khabar

इस बार की अमरनाथ यात्रा में बच्चों और बुजुर्गों को ले जाने की अनुमति नहीं, पढ़ें और क्या हैं नियम

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
इस बार की अमरनाथ यात्रा में बच्चों और बुजुर्गों को ले जाने की अनुमति नहीं, पढ़ें और क्या हैं नियम

अमरनाथ यात्रा के 29 जून से शुरू होने की संभावना है (फाइल फोटो)

नई दिल्ली: हर साल होने वाली पवित्र अमरनाथ यात्रा 29 जून से शुरू होने की उम्मीद की जा रही है. इस यात्रा में 13 साल से कम उम्र के बच्चे और 75 साल से ज्यादा की उम्र के बुजुर्गो को शामिल होने की अनुमति नहीं दी जायेगी. श्री अमरनाथ श्राइन बोर्ड ने इस यात्रा के बारे में कहा है कि महिला तीर्थयात्री, तीर्थ यात्रा के दौरान साड़ी न पहनें और उन्हें सलवार-कमीज, पैंट शर्ट या ट्रैक सूट पहनने की सलाह दी गई है. छह हफ्ते से ज्यादा गर्भवती महिलाओं को इस यात्रा में हिस्सा लेने की अनुमति नहीं होगी. यही नहीं इस यात्रा में 13 साल से कम उम्र के बच्चे और 75 साल से ज्यादा उम्र के बुजुर्गों को नहीं शामिल किया जाएगा.

बोर्ड ने एक महीने तक चलने वाली इस तीर्थयात्रा के बारे में सभी के लिए परामर्श जारी करते हुए कहा है कि वे अपने साथ पर्याप्त मात्रा में उनी कपड़े लेकर चलें क्योंकि कभी-कभी अचानक तापमान काफी गिर जाता है. इसमें कहा गया है कि यात्रा क्षेत्र में मौसम का पूर्वानुमान संभव नहीं है इसलिये वॉटरप्रूफ जूते, रेनकोट, विंड चीटर और छाता साथ ले जायें. इसके अलावा उपयुक्त वॉटरप्रूफ बैग में अपने कपड़े और खाने की सामग्री रखें. आपात स्थिति को ध्यान में रखकर यात्रा के दिन से ही अपने नाम, पता और मोबाइल फोन नंबर अपनी जेब में जरूर रखें. इसके अलावा खुद का पहचान पत्र, ड्राइविंग लाइसेंस और यात्रा अनुमति पत्र अपने साथ रखें, समूह में यात्रा करें और सामान ढोने के लिये कुली, घोड़े या खच्चर का इस्तेमाल करें.

परामर्श में यह सुनिश्चित करने के लिए भी कहा गया है कि तीर्थ यात्रियों की नजरें समूह में शामिल लोगों पर रहें जिससे आप समूह से बिछड़ न पाएं. आपके समूह का कोई सदस्य लापता हो जाए तो तुरंत पुलिस की मदद लें. बोर्ड के परामर्श में कहा गया है कि चेतावनी लगी सूचनाओं वाली जगहों पर कभी न ठहरें। सिर्फ निर्धारित रास्ते पर ही चलें। यात्रा के दौरान अचानक तापमान गिर जाता है इसलिए हर समय उनी कपड़ों में रहें और नंगे पांव न चलें। पवित्र गुफा के रास्ते बेहद सीधी चढ़ाई वाले होते हैं और ढलान भी तीखी होती हैं इसलिए चप्पलें कभी न पहनें। इस दौरान पहाड़ी रास्तों पर चढ़ाई लायक फीते वाले जूते पहनें।

इसके अलावा कहा गया है कि यात्रा के दौरान कभी भी छोटे रास्तों का प्रयोग करने से बचें. ये खतरनाक हो सकते हैं. खाली पेट यात्रा शुरू न करें क्योंकि इससे आपको स्वास्थ्य संबंधी गंभीर समस्या का सामना करना पड़ सकता है. परामर्श में कहा गया है कि जम्मू कश्मीर में प्लास्टिक के थैलों के इस्तेमाल पर प्रतिबंध है इसलिए इन्हें लेकर यात्रा न करें क्योंकि यह कानूनी रूप से दंडनीय हैं. अमरनाथ यात्रा 29 जून से 7 अगस्त के बीच होने की उम्मीद है.


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement