NDTV Khabar

बच्चों के कथित रेप के वीडियो और न्यूड फोटो...चाइल्ड पोर्न नेटवर्क चलाने वाला गिरफ्तार

केरल के कोझिकोड का एकाउंटेंट शारफ अली मामले में मुख्य आरोपी है जो कि कथित तौर पर चाइल्ड पोर्न चैट ग्रुप 'पूमबट्टा', यानि कि 'तितली' चला रहा था. इसके अलावा ऑनलाइन पोर्न चैनल 'नादान थोंड' भी संचालित कर रहा था.

647 Shares
ईमेल करें
टिप्पणियां
बच्चों के कथित रेप के वीडियो और न्यूड फोटो...चाइल्ड पोर्न नेटवर्क चलाने वाला गिरफ्तार

चाइल्ड पोर्न नेटवर्क चलाने वाले केरल के एकाउंटेंट शारफ अली को गिरफ्तार कर लिया गया है.

खास बातें

  1. चाइल्ड पोर्न नेटवर्क चलाने वाले केरल के शारफ अली को गिरफ्तार किया गया
  2. पुलिस के अनुसार करीब दो साल से चलाए जा रहे ग्रुपों में हजारों मेंबर
  3. ग्रुप मेंबरों के बीच वीडियो बनाने के लिए बच्चों की उम्र को लेकर बहस हुई
मलप्पुरम (केरल) : एक वीडियो है जिसमें एक चार साल की बच्ची का दो लोगों द्वारा बलात्कार किया जा रहा है...एक आठ साल की लड़की के नग्न फोटो इस मैसेज के साथ पोस्ट किए गए कि ''बच्चे कुछ नहीं समझते इसलिए इन क्षणों का आनंद उठाया.'' उसके पिता ने...  यह सब और इससे कहीं अधिक परेशान करने वाली सामग्री मैसेजिंग ऐप 'टेलीग्राम' पर चैट ग्रुप 'पूमबट्टा' में शेयर की गई. इसमें विशेष रूप से बच्चों से जुड़े अश्लील वीडियो साझा किए गए. इस ग्रुप को 28 नवंबर को बंद कर दिया गया, क्योंकि कुछ विवरण ऑनलाइन लीक हो गए थे.
 
इस मामले में मुख्य आरोपी कोझिकोड का एक महत्वाकांक्षी एकाउंटेंट, 24 वर्षीय शारफ अली है. उसे गुरुवार को केरल के मलप्पुराम से गिरफ्तार कर लिया गया. वह कथित रूप से चैट समूह के साथ-साथ एक ऑनलाइन अश्लील चैनल 'नादान थोंड' भी चला रहा था. पुलिस ने एनडीटीवी को बताया कि इस मामले में छह अन्य लोगों की पहचान की है जिन्हें जल्द ही गिरफ्तार किया जाएगा.

यह भी पढ़ें : हैदराबाद : चाइल्ड पोर्न सामग्री इंटरनेट पर डालने के आरोप में अमेरिकी नागरिक गिरफ्तार

मलप्पुरम पुलिस के मुताबिक चैनल के अलावा अली के करीब 5000 फॉलोअरों के साथ टेलीग्राम पर चार ग्रुप थे, जहां फॉलोअर को केवल एडमिन की अनुमति के बाद ही शामिल किया जाता था. फॉलोअर ग्रुपों में वीडियो शेयर कर सकते थे. ऑनलाइन अश्लील चैनल 'नादान थोंड', जिसका हिन्दी अनुवाद 'देसी पोर्न' होता है, पर वीडियो सिर्फ एडमिन ही अपलोड कर सकते थे.

एनडीटीवी को मलयाली ग्रुप 'पुमबट्टा' पर उपयोग किए गए विवादित वीडियो और कन्वर्सेशन मिले हैं.  पुलिस ने इनके कम से कम दो साल पुराने होने की आशंका जाहिर की है.

यह भी पढ़ें : चाइल्ड पोर्न बैन पर बोलीं कंपनियां , 'हम कैसे पता लगाएं किसमें है चाइल्ड पोर्न?'

''ग्रुप में मेंबरों के बीच बच्चों की टारगेट एज को लेकर बहस हुई. एक मेंबर ने सुझाव दिया कि एक से तीन साल के बीच के बच्चों के वीडियो बनाए जाने चाहिए क्योंकि वे चीजों को याद नहीं रख पाते हैं. लेकिन एडमिन ने कहा कि केवल 4 से 15 साल के बच्चों के वीडियो बनाए जाएं.'' यह बात मेडिकल ट्रांसक्रिप्शनिस्ट जलजिथ थोट्टालिल ने बताई जिन्होंने पिछले महीने इस मामले में एक शिकायत दर्ज कराई थी.

टिप्पणियां
VIDEO : व्हाट्सऐप ग्रुप पर अश्लील तस्वीरें


थोट्टालिल अपने मित्र बीनू फालगुनन के साथ एडमिन का विश्वास हासिल करके इस ग्रुप में शामिल हुए थे. उन्होंने सबूत इकट्ठे किए और उनका ब्योरा पुलिस को दिया. इसके बाद मुख्य आरोपी को गिरफ्तार कर लिया गया.


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement