सूखा प्रभावित महाराष्ट्र के लिए चीन ने की क्लाउड सीडिंग टेक्नीक की पेशकश

सूखा प्रभावित महाराष्ट्र के लिए चीन ने की क्लाउड सीडिंग टेक्नीक की पेशकश

इस साल मराठवाड़ा में इतिहास का सबसे भयानक सूखा पड़ा (फाइल फोटो)

बीजिंग:

सूखा प्रभावित महाराष्ट्र में बारिश करा सकने वाली तकनीक ‘क्लाउड सीडिंग’ उपलब्ध कराने को लेकर चीन लगातार भारत से बात कर रहा है। मौसम विभाग के स्थानीय कर्मचारियों को भी इस तकनीक का प्रशिक्षण दिया जाएगा।

बीजिंग, शंघाई और चीन के पूर्वी अन्हुई प्रांत के वैज्ञानिकों एवं अधिकारियों के एक दल ने महाराष्ट्र की हालिया यात्रा के दौरान सहयोग की पेशकश की। महाराष्ट्र पिछले दो साल से भारी सूखे का सामना कर रहा है।

चीन कई वर्षों से क्लाउड सीडिंग रॉकेटों का इस्तेमाल करता रहा है, जिसमें बारिश कराने वाला सिल्वर आयोडाइड मौजूद रहता है। बारिश के लिए इन रॉकेटों को बादलों की जरूरत होती है।

अखबार चाइना डेली ने अधिकारियों के हवाले से कहा कि यदि चर्चा सफल रहती है तो चीनी विशेषज्ञ भारतीय मौसम विभाग के अधिकारियों को आधुनिक क्लाउड सीडिंग तकनीक से जुड़ी ट्रेनिंग उपलब्ध कराएंगे। इस प्रशिक्षण का उद्देश्य जरूरत पड़ने पर वर्ष 2017 की गर्मियों में महाराष्ट्र के मराठवाड़ा क्षेत्र में बारिश कराने का होगा।

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

मई की शुरूआत में शंघाई के शीर्ष अधिकारी हान झेंग और महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस के बीच मुंबई में बैठक हुई थी। अखबार में कहा गया कि हान ने फडणवीस से पूछा था कि क्या चीन महाराष्ट्र में सूखे से राहत के लिए कुछ कर सकता है? चीन ने वर्ष 1958 में क्लाउड सीडिंग तकनीक का इस्तेमाल शुरू कर दिया था और आज उसके पास दुनिया की सबसे आधुनिक प्रणालियों में से एक प्रणाली है।

(इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है)