NDTV Khabar

भारतीय जवानों ने लद्दाख में चीन के सैनिकों की घुसपैठ की कोशिश को नाकाम किया : रिपोर्ट

जब चीनी सैनिकों ने पाया कि उनके सामने भारतीय सैनिक मानव श्रृंखला बनाकर खड़े हैं, तो उन्होंने पत्थर फेंकना शुरू कर दिया.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
भारतीय जवानों ने लद्दाख में चीन के सैनिकों की घुसपैठ की कोशिश को नाकाम किया : रिपोर्ट

भारतीय सैनिकों ने लद्दाख में चीन के सैनिकों की घुसपैठ की कोशिश नाकाम कर दी (प्रतीकात्मक चित्र)

खास बातें

  1. चीन सैनिकों ने लद्दाख में दो इलाकों में की घुसपैठ की कोशिश
  2. भारतीय सैनिक मानव श्रृंखला बनाकर खड़े हो गए
  3. चीनी सैनिकों ने पत्थरबाजी की, भारतीय जवानों ने भी जवाब में पत्थर फेंके
लेह / नई दिल्ली:

भारतीय सीमा पर तैनात सुरक्षा बलों ने मंगलवार को लद्दाख में मशहूर पानगोंग झील के किनारे भारतीय क्षेत्र में घुसने की चीनी सैनिकों की कोशिश को नाकाम कर दिया. इसके बाद पथराव हुआ और उसमें दोनों तरफ के लोगों को मामूली चोटें आई हैं. अधिकारियों ने बताया कि पीपुल्स लिबरेशन आर्मी (पीएलए) के सैनिकों ने सुबह छह बजे से नौ बजे के बीच दो इलाकों- फिंगर फोर और फिंगर फाइव में भारतीय सीमा में दाखिल होने का दो बार प्रयास किया. इन दोनों मौकों पर भारतीय जवानों ने उनके प्रयासों को नाकाम कर दिया.

यह भी पढ़ें: चीन का नया प्रोपेगेंडा: बोला-भारतीय सेना ने क्रॉस किया बॉर्डर, झेलनी पड़ेगी शर्मिंदगी

जब चीनी सैनिकों ने पाया कि उनके सामने भारतीय सैनिक मानव श्रृंखला बनाकर खड़े हैं, तो उन्होंने पत्थर फेंकना शुरू कर दिया जिसके बाद भारतीय जवानों ने तत्काल जवाब देते हुए पथराव किया. इस घटना में दोनों तरफ के लोगों को मामूली चोटें आईं और रस्मी 'बैनर ड्रिल' के बाद स्थिति को नियंत्रण में लाया गया. बैनर ड्रिल के तहत दोनों पक्ष अपने स्थान पर जाने से पहले बैनर दिखाते हैं.


नई दिल्ली में सेना के एक प्रवक्ता ने इस घटना पर टिप्पणी करने से इनकार किया. यह घटना ऐसे समय में हुई है, जब सिक्किम सेक्टर में डोकलाम में दोनों देशों के बीच गतिरोध बना हुआ है. चीनी सैनिक फिंग फोर इलाके में घुसने में कामयाब हो गए थे, जहां से उनको वापस भेजा गया. चीन ने फिंगर फोर तक सड़क का निर्माण कराया था जो सिरी जाप इलाके में आता है और वास्तविक नियंत्रण रेखा से पांच किलोमीटर की दूरी पर है.

टिप्पणियां

VIDEO : आखिर इतना क्यों चिढ़ा हुआ है चीन?
इससे पहले चीनी सैनिकों की गश्त इस झील के उत्तरी और दक्षिणी किनारों से बार-बार होने लगी थी. इस झील का 45 किलोमीटर का हिस्सा भारतीय क्षेत्र में है और 90 किलोमीटर चीनी क्षेत्र में है.

(हेडलाइन के अलावा, इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है, यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

लोकसभा चुनाव 2019 के दौरान प्रत्येक संसदीय सीट से जुड़ी ताज़ातरीन ख़बरों, LIVE अपडेट तथा चुनाव कार्यक्रम के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement