'महागठबंधन' के नेताओं ने सीट बंटवारे पर लालू यादव से की मुलाकात तो चिराग पासवान बोले- जेल के रास्ते...

राम विलास पासवान के बेटे चिराग पासवान ने बिना किसी का नाम लिए हुए कहा, 'यह एक विडंबना है कि महागठबंधन के वरिष्ठ नेता भ्रष्टाचार मामले के दोषी से मुलाकात के लिए लाइन लगाए हुए खड़े हैं.'

'महागठबंधन' के नेताओं ने सीट बंटवारे पर लालू यादव से की मुलाकात तो चिराग पासवान बोले- जेल के रास्ते...

लोक जनशक्ति पार्टी के नेता चिराग पासवान. (फाइल तस्वीर)

खास बातें

  • चिराग पासवान का निशाना
  • कहा- जेल से सरकार बनाने की कोशिश
  • नाम लिए बिना लालू प्रसाद यादव पर निशाना
पटना:

बिहार में 'महागठबंधन' के नेताओं के लालू प्रसाद यादव (Lalu Prasad Yadav) से मुलाकात करने पर भाजपा के सहयोगी दल लोक जनशक्ति पार्टी (Lok Janshakti Party) ने निशाना साधा है. राम विलास पासवान के बेटे चिराग पासवान (Chirag Paswan) ने बिना किसी का नाम लिए हुए कहा, 'यह एक विडंबना है कि महागठबंधन (Mahagathbandhan)के वरिष्ठ नेता भ्रष्टाचार मामले के दोषी से मुलाकात के लिए लाइन लगाए हुए खड़े हैं.' साथ ही उन्होंने कहा, 'जेल के रास्त से सरकार बनाना चाह रहे हैं.' पासवान लालू प्रसाद यादव की तरफ इशारा कर रहे थे, जो अभी चारा घोटाले के मामले में जेल में सजा काट रहे हैं. हालांकि, लालू प्रसाद यादव अभी रांची में रिम्स में अपना इलाज करवा रहे हैं. 

चिराग पासवान का यह बया तब आया है, जब राष्ट्रीय लोक समता पार्टी के प्रमुख उपेंद्र कुशवाहा, हिन्दुस्तानी आवाम मोर्चा के अध्यक्ष जीतन राम मांझी, लोकतांत्रिक जनता दल के शरद यादव, विकासशील इंसान पार्टी के मुकेश सहनी ने बिहार में 'महागठबंधन' की रूपरेखा तैयार होने से पहले रांची में लालू प्रसाद यादव से मुलाकात की थी.

एनडीए के बाद महागठबंधन में 'माछ भात' से शुरू होगी सीटों के बंटवारे पर बात, लेकिन घोषणा संक्रांति के बाद

कुछ दिन पहले बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने भी मजाक उड़ाते हुए कहा था कि सीटों के बंटवारे के लिए नेता होटवार जेल में आरजेडी प्रमुख के सामेन दंडवत होने के लिए जा रहे हैं. सूत्रों के मुताबिक महागठबंधन में आरजेडी अहम भूमिका निभा रही है, इसलिए सीटों के बंटवारे पर लालू यादव की मंजूरी जरूरी है. वहीं लालू प्रसाद यादव की गैर-मौजूदगी में आरजेडी संभाल रहे तेजस्वी यादव ने कहा, 'हमारी प्राथमिकता एनडीए को हराना है.' 

JDU नेता ने मीसा भारती की तुलना 'शूर्पणखा' से की, गुस्साए तेज प्रताप ने कही यह बात...

तेजस्वी के आवास पर महागठबंधन के नेताओं की बैठक 
राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद से रांची में मुलाकात के बाद महागठबंधन के घटक दलों के नेताओं की पहली औपचारिक बैठक सोमवार को पूर्व उपमुख्यमंत्री और लालू के छोटे पुत्र तेजस्वी यादव के पटना स्थित आवास पर होगी. तेजस्वी के आवास पर महागठबंधन के घटक दलों के नेताओं की सोमवार की शाम 6 बजे प्रस्तावित इस महत्वपूर्ण बैठक में रालोसपा प्रमुख उपेन्द्र कुशवाहा, हिंदुस्तानी अवाम मोर्चा (सेक्युलर) के राष्ट्रीय अध्यक्ष व पूर्व मुख्यमंत्री जीतन राम मांझी, लोकतांत्रिक जनता दल के अध्यक्ष शरद यादव और वीआईपी पार्टी के अध्यक्ष मुकेश सहनी के शामिल होने की संभावना है. इस बैठक में महागठबंधन के घटक दलों के नेताओं के बीच आगामी लोकसभा चुनाव को लेकर बिहार की 40 सीटों को लेकर आपस में चर्चा होने की संभावना जतायी जा रही है. बैठक में सभी दलों के बीच औपचारिक सहमति बनने के बाद सीट साझेदारी के फार्मूले को मूर्त रूप दिया जा सकता है.

2019 में 'बुआ-भतीजा' का साथ, कमजोर कर देगा 'हाथ'! BJP को फायदा या नुकसान, जानें UP का सियासी समीकरण

गौरतलब है कि शनिवार को कुशवाहा, मांझी और शरद रांची जाकर चारा घोटाला मामले में सजायाफ्ता राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद से मुलाकात कर चुके हैं. कांग्रेस नेताओं में पार्टी के झारखंड प्रभारी सुबोधकांत सहाय और बिहार कांग्रेस के वरिष्ठ नेता शकील अहमद भी लालू से मिल चुके हैं. राजग के घटक दलों भाजपा, जदयू और लोजपा के बीच बिहार में सीट साझेदारी की घोषणा के बाद से सीट शेयरिंग को लेकर महागठबंधन लगातार विरोधियों के निशाने पर है और राजद प्रमुख से घटक दलों के नेताओं की मुलाकात के बाद विपक्ष ने राजनीतिक हमले और भी तेज कर दिए हैं. तेजस्वी के आवास पर कल प्रस्तावित बैठक को महागठबंधन की सीट बंटवारे पर फार्मूला तय कर अपने विरोधियों का मुंह बंद करने की एक कोशिश के रूप में देखा जा रहा है.

(इनपुट- एजेंसियां)

चिराग पासवान बोले, राम मंदिर मुद्दे को बेवजह तूल न दे NDA, चुनाव में हो सकता है नुकसान

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

VIDEO- रणनीति: अपनों के दबाव में BJP?