CISF जवान की सजगता, दिल्‍ली मेट्रो के यात्री की यूं बचाई जान...

सीपीआर यानी कॉर्डियोपल्मोनरी रिससिटेशन, आपात स्थिति में जान बचा सकने वाली ऐसी प्रक्रिया होती है, जिसका इस्तेमाल हृदयगति रुक जाने के बाद किया जाता है. 

CISF जवान की सजगता, दिल्‍ली मेट्रो के यात्री की यूं बचाई जान...

सीआईएसएफ जवान की सजगता से दिल्‍ली मेट्रो के यात्री की जान बच गई (प्रतीकात्‍मक फोटो)

नई दिल्‍ली:

केंद्रीय औद्योगिक सुरक्षा बल (CISF) के एक कांस्टेबल ने दक्षिण दिल्ली में दिल्ली मेट्रो स्टेशन पर बेहोश हुए एक व्यक्ति की सीपीआर (Cardiopulmonary resuscitation) चिकित्सकीय प्रक्रिया के जरिए जान बचाई. सीपीआर यानी कॉर्डियोपल्मोनरी रिससिटेशन, आपात स्थिति में जान बचा सकने वाली ऐसी प्रक्रिया होती है, जिसका इस्तेमाल हृदयगति रुक जाने के बाद किया जाता है. अधिकारियों ने सोमवार को बताया कि यह घटना हुडा सिटी सेंटर की ओर जा रही ट्रेन में घिटोरनी स्टेशन पर उस समय हुई, जब पंजाब निवासी भारत भूषण (50) बेहोश हो गए. 

दिल्‍ली में मेट्रो पुल के नीचे इस शख्‍स ने बनाया ऐसा स्कूल, पढ़ते हैं 300 गरीब बच्‍चे

भूषण की बेटी ने ट्रेन ड्राइवर को सूचित किया कि उसके पिता असहज महसूस कर रहे हैं और उन्हें मदद की जरूरत है. उन्होंने बताया कि यह संदेश घिटोरनी स्टेशन नियंत्रक के पास भेजा गया, जिसने CISF के प्रभारी उपनिरीक्षक एसके यादव को आपात स्थिति से अवगत कराया.अधिकारियों ने बताया कि सीआईएसएफ के अधिकारी, यात्री की मदद के लिए अपनी टीम के साथ उसके पास पहुंचे और उसे ट्रेन से बाहर निकाला गया, लेकिन वह प्लेटफार्म पर ही बेहोश हो गया.

उन्होंने बताया कि सीआईएसएफ के कांस्टेबल रतन प्रसाद गुप्ता ने यात्री पर सीपीआर चिकित्सकीय प्रक्रिया का तत्काल इस्तेमाल किया, जिसके बाद वह होश में आ गया. दिल्ली मेट्रो नेटवर्क की सुरक्षा की जिम्मेदारी CISF निभाता है. 
उन्होंने बताया कि एक एंबुलेंस बुलाई गई और यात्री को साकेत स्थित एक अस्पताल में भर्ती कराया गया है.

Newsbeep

मेट्रो में यात्रा के लिए नियम तय

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com




(इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)