Citizenship Act: इंडिया गेट पर धरने के बाद बोलीं प्रियंका गांधी, 'छात्रों के साथ मारपीट देश की आत्मा पर हमला'

नागरिकता कानून (Citizenship Act) और जामिया में छात्रों पर पुलिसिया कार्रवाई के खिलाफ कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी (Priyanka Gandhi) इंडिया गेट पर धरना दिया. 2 घंटे के धरने के बाद कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने कहा कि छात्रों के साथ मारपीट देश की आत्मा पर हमला है.

Citizenship Act: इंडिया गेट पर धरने के बाद बोलीं प्रियंका गांधी, 'छात्रों के साथ मारपीट देश की आत्मा पर हमला'

Citizenship Act: कांग्रेस नेताओं के साथ इंडिया गेट पर धरने पर बैठीं प्रियंका गांधी (Priyanka Gandhi).

खास बातें

  • 'छात्रों के साथ मारपीट देश की आत्मा पर हमला'
  • 'हमें एकजुट होकर सरकार के ख़िलाफ़ आना होगा'
  • PM को रोज़गार पर बोलना चाहिए: प्रियंका
नई दिल्ली:

नागरिकता कानून (Citizenship Act) और जामिया में छात्रों पर पुलिसिया कार्रवाई के खिलाफ कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी (Priyanka Gandhi) इंडिया गेट पर धरना दिया. 2 घंटे के धरने के बाद कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने कहा कि छात्रों के साथ मारपीट देश की आत्मा पर हमला है. उन्होंने कहा कि हमें एकजुट होकर सरकार के खिलाफ आगे आना होगा. उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री को इस बात पर जवाब देना चाहिए कि कल विश्वविद्यालय में क्या हुआ? किसकी सरकार ने छात्रों के साथ मारपीट की? उन्हें डूबती अर्थव्यवस्था पर बोलना चाहिए. उनकी पार्टी के विधायक ने एक लड़की के साथ बलात्कार किया, उन्होंने उस पर बात क्यों नहीं की? बता दें कि इससे पहले प्रियंका गांधी के साथ धरने पर पूर्व रक्षा मंत्री एके एंटनी, पीएल पुनिया, अहमद पटेल और अंबिका सोनी भी हैं. इससे पहले प्रियंका गांधी ने जामिया मिल्लिया इस्लामिया में दिल्ली पुलिस की कार्रवाई के खिलाफ केंद्र सरकार पर हमला बोलते हुए कहा कि देश का माहौल 'खराब' हो गया है. वाड्रा ने कहा, 'देश का वातावरण खराब है. पुलिस विश्वविद्यालय में घुसकर (छात्रों को) पीट रही है. सरकार संविधान से छेड़छाड़ कर रही है. हम संविधान के लिए लड़ेंगे.'
 

जामिया के छात्रों ने उठाई CBI जांच की मांग
जामिया के सैकड़ों छात्र एक दिन पहले उनके सहपाठियों पर की गई पुलिस कार्रवाई के खिलाफ सोमवार को सर्दी के बावजूद परिसर के बाहर सड़कों पर उतर आए. प्रदर्शनकारियों में विभिन्न राज्यों से आई छात्राएं भी शामिल थीं. स्थानीय लोग और कुछ परिजन भी प्रदर्शन कर रहे छात्रों के समर्थन में सामने आए. छात्रों का एक समूह हाड़ कंपाने वाली ठंड में सुबह कमीज उतारकर विश्वविद्यालय के प्रवेश द्वारों के बाहर खड़ा हो गया. अन्य ने 'पुलिस बर्बरता' के खिलाफ विरोध जताने के लिए बड़ी संख्या में मानव श्रृंखला बनाई.

जामिया और AMU के छात्रों के साथ आए तीन IITs के छात्र, कहा- यदि हम अब भी कुछ नहीं बोले तो...


छात्रों के समूह ने 'इंकलाब जिंदाबाद' के नारे लगाए और मार्च निकाला. उन्होंने 'पुलिस की बर्बरता' की सीबीआई जांच कराए जाने की मांग की. हाथ में तिरंगा लिए हुए, छात्रों ने तालियां पीटीं और केंद्र सरकार और दिल्ली पुलिस के खिलाफ नारेबाजी की. उन्होंने कहा, 'यह सरकार अल्पसंख्यक विरोधी, छात्र विरोधी और गरीब विरोधी है. हम यह बर्दाश्त नहीं करेंगे. हम चुप नहीं बैठेंगे.' 


तीन और मेट्रो स्टेशन बंद
जामिया मिल्लिया इस्लामिया और एएमयू के छात्रों पर पुलिसिया कार्रवाई के खिलाफ इंडिया गेट तथा जंतर-मंतर पर प्रदर्शनों के मद्देनजर सोमवार को मध्य दिल्ली के तीन और मेट्रो स्टेशनों के प्रवेश और निकास द्वार बंद कर दिए गए हैं. दिल्ली मेट्रो रेल निगम (DMRC) ने ट्वीट किया, 'पटेल चौक, केंद्रीय सचिवालय और उद्योग भवन स्टेशनों के प्रवेश और निकास द्वारा बंद कर दिए गए हैं. पटेल चौक और उद्योग भवन पर ट्रेनें नहीं रुकेंगी.' डीएमआरसी ने तीन स्टेशनों को बंद करने की घोषणा से पहले जामिया मिल्लिया इस्लामिया स्टेशन को भी बंद करने की जानकारी दी थी जो अब भी बंद है.

VIDEO: जामिया यूनिवर्सिटी में पुलिस की कार्रवाई के खिलाफ मौलाना आजाद विवि के छात्रों का प्रदर्शन

 
Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com