CAA के खिलाफ प्रदर्शन के चलते यूपी में लगी धारा 144 तो NDTV से बोले DGP- विरोध के दूसरे भी तरीके हैं, आप खत लिखिए

उत्तर प्रदेश के डीजीपी ओपी सिंह (OP Singh) ने प्रदर्शनकारियों को नसीहत देते हुए कहा कि विरोध के और भी तरीके होते हैं, वह लोग लिख सकते हैं.

CAA के खिलाफ प्रदर्शन के चलते यूपी में लगी धारा 144 तो NDTV से बोले DGP- विरोध के दूसरे भी तरीके हैं, आप खत लिखिए

यूपी के डीजीपी ओपी सिंह ने प्रदर्शनकारियों को सलाह दी है. (फाइल फोटो)

खास बातें

  • नागरिकता संशोधन कानून का विरोध
  • प्रदर्शनकारियों से बोले UP के DGP ओपी सिंह
  • 'विरोध के और भी तरीके, आप लिख सकते हैं'
लखनऊ:

नागरिकता संशोधन कानून (Citizenship Amendment Act) के विरोध को लेकर देशभर में प्रदर्शन और प्रदर्शनकारियों को हिरासत में लिए जाने की खबरें मिल रही हैं. 'स्वराज इंडिया' के संयोजक योगेंद्र यादव (Yogendra Yadav), मशहूर इतिहासकार व लेखक रामचंद्र गुहा (Ramachandra Guha) सहित सैकड़ों प्रदर्शनकारियों को हिरासत में लिया गया है. इस बीच लखनऊ में भी भारी संख्या में लोग सड़कों पर निकलकर इस नए कानून का विरोध कर रहे हैं. उत्तर प्रदेश के डीजीपी ओपी सिंह (OP Singh) ने प्रदर्शनकारियों को नसीहत देते हुए कहा कि विरोध के और भी तरीके होते हैं, वह लोग लिख सकते हैं.

डीजीपी ओपी सिंह ने कहा, '19 दिसंबर को उत्तर प्रदेश में धारा 144 लगा दी गई है. लोगों से अपील है कि वह किसी भी तरह के प्रदर्शन में शामिल नहीं हों. अभिभावकों से भी गुजारिश है कि वह अपने बच्चों का काउंसिलिंग करें.' डीजीपी से जब लोकतांत्रिक तरीके से प्रदर्शन करने पर पाबंदी लगाए जाने को लेकर सवाल किया गया तो उन्होंने कहा, 'विरोध करने के काफी सारे तरीके होते हैं. संविधान आपको विरोध करने का अधिकार देता है लेकिन आपके पास लोकतांत्रिक तरीके से विरोध करने के और भी तरीके हैं. आप अपनी बात को लिख सकते हैं, वह लोग पत्र क्यों नहीं लिखते.' डीजीपी ने आगे कहा कि सभी जिलों के पुलिस कप्तान ने महसूस किया कि उनके जिलों में बैन लगाने की जरूरत है, जिसके बाद ही ऐसा फैसला लिया गया.

बॉलीवुड सिंगर अरमान मलिक ने देश के मौजूदा हालात पर किया ट्वीट, बोले- दुआ करो सिर्फ...

समाजवादी पार्टी भी राज्य में नागरिकता कानून का विरोध कर रही है. उनके अलावा कई राजनीतिक दल व मुस्लिम संगठनों ने भी आज (गुरुवार) लोगों से विरोध प्रदर्शन में शामिल होने का आह्वान किया है. यूपी के मऊ में मंगलवार को हिंसक प्रदर्शन की खबरें आई थीं, जिसके बाद वहां भारी संख्या में पुलिस बल की तैनाती कर दी गई. यूपी के कई कॉलेज के छात्रों ने जामिया मिल्लिया इस्लामिया और अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी के छात्रों के साथ मारपीट का विरोध दर्ज कराते हुए प्रदर्शन किया. जामिया और एएमयू के छात्र नागरिकता कानून का विरोध कर रहे थे. दोनों ही जगहों पुलिस पर जबरन यूनिवर्सिटी कैंपस और हॉस्टल में घुसने का आरोप लगा है. पुलिसकर्मियों ने छात्रों के हॉस्टल में घुसकर उनपर लाठियां बरसाईं व आंसू गैस के गोले दागे.

VIDEO: जामिया के हिंसक प्रदर्शन के बाद लाइब्रेरी और बाथरूम के वीडियो सामने आए

 
Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com