Citizenship बिल का समर्थन करने वालों पर राहुल गांधी के हमले को उद्धव ठाकरे ने नहीं दी तवज्जो

नागरिकता संशोधन बिल का समर्थन करने वालों पर कांग्रेस नेता राहुल गांधी के तीखे हमले को महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री और शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे ने तवज्जो नहीं दी है.

Citizenship बिल का समर्थन करने वालों पर राहुल गांधी के हमले को उद्धव ठाकरे ने नहीं दी तवज्जो

महाराष्ट्र के CM और शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे ने नागरिकता बिल पर बयान दिया है.

खास बातें

  • राहुल गांधी के बयान पर उद्धव ठाकरे कुछ नहीं बोले
  • नागरिकता बिल पर शिवसेना का यू टर्न
  • राज्यसभा में समर्थन पर रखी शर्त
नई दिल्ली:

नागरिकता संशोधन बिल का समर्थन करने वालों पर कांग्रेस नेता राहुल गांधी के तीखे हमले को महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री और शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे ने तवज्जो नहीं दी है. उनसे जब राहुल गांधी के बयान पर सवाल पूछा गया तो उन्होंने कहा, 'कोई क्या कह रहा है उस पर नहीं मैं जो कह रहा हूं वो पार्टी के लिए है. आपको बता दें कि शिवसेना प्रमुख ने कहा है  कि राज्यसभा में नागरिकता संशोधन बिल का पार्टी जब तक समर्थन नहीं करेगी जब तक की बातें साफ नहीं हो जाती हैं. उन्होंने कहा कि पार्टी की ओर से बिल को लेकर कुछ सुझाव दिए गए थे लेकिन उन पर कोई जवाब नहीं मिला. इसके बाद उन्होंने बीजेपी पर हमला करते हुए कहा कि देश में जो इस भ्रम में जी रहा है कि भाजपा जो कहे और करे वही देशहित है जो विरोध करे वो देशद्रोही है ये भ्रम है इस भ्रम में हमें नहीं रहना चाहिए. महाराष्ट्र के सीएम ने कहा  'जब तक चीजें स्पष्ट नहीं हो जाती, हम बिल का समर्थन नहीं करेंगे. अगर कोई भी नागरिक इस बिल की वजह से डरा हुआ है तो उनके शक दूर होने चाहिए. वे भी हमारे नागरिक हैं, इसलिए उनके सवालों के भी जवाब दिए जाने चाहिए.'

क्या था कहा था राहुल गांधी ने 
'नागरिकता संशोधन विधेयक संविधान पर हमला है. जो कोई भी इसका समर्थन करता है वो हमारे देश की बुनियाद पर हमला और इसे नष्ट करने का प्रयास कर रहा है.' 

क्या था शिवसेना का सुझाव
लोकसभा में शिवसेना ने भले ही सरकार के समर्थन में वोट किया हो लेकिन उसका सुझाव था कि नई नागरिकता पाने वालों को 25 साल तक वोट का अधिकार नहीं मिलना चाहिए. 

शिवसेना के सांसद ने क्या कहा
शिवसेना के  सांसद अरविंद सावंत से पूछा गया कि क्या पार्टी राज्यसभा में बिल का समर्थन करेगी तो उन्होंने कहा, अलग-अलग भूमिका होती क्या हमारी? राष्ट्र हित की भूमिका लेकर शिवसेना खड़ी रहती है इस पर किसी का एकाधिकार नहीं है. वहीं एनडीटीवी से बातचीत में अरविंद सावंत ने साफ किया है कि हमारे बीच कॉमन मिनिमम प्रोग्राम महाराष्ट्र के लिए है.

Newsbeep

CAB: प्रशांत किशोर के बाद अब पवन वर्मा भी नीतीश कुमार के फैसले से खुश नहीं

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com