नागरिकता कानून पर बोले जामा मस्जिद के शाही इमाम बुखारी- इसका भारत के मुसलमानों से कोई लेना-देना नहीं

नागरिकता संशोधन कानून (Citizenship Amendment Act) के खिलाफ विरोध-प्रदर्शन के दौरान मंगलवार को दिल्ली के सीलमपुर-जाफराबाद इलाके में हिंसा भड़क गई थी.

नागरिकता कानून पर बोले जामा मस्जिद के शाही इमाम बुखारी- इसका भारत के मुसलमानों से कोई लेना-देना नहीं

जामा मस्जिद के शाही इमाम सैयद अहमद बुखारी.

नई दिल्ली:

नागरिकता संशोधन कानून को लेकर दिल्ली की जामा मस्जिद के शाही इमाम ने लोगों से कहा है कि प्रदर्शन उनका लोकतांत्रिक अधिकार, लेकिन इस दौरान संयम बरता जाना चाहिए. इसके साथ ही उन्होंने कहा कि नागरिकता कानून का भारत में रह रहे मुस्लिमों से कोई लेना देना नहीं. उन्होंने साथ ही कहा कि एनआरसी अभी कानून नहीं बना है. नागरिकता संशोधन बिल के विरोध में देश की कई कॉलेजों में विरोध-प्रदर्शन हो रहा है. इस कानून के तहत पाकिस्तान, अफगानिस्तान और बांग्लादेश से आने वाले गैर-मुस्लिम शरणार्थियों को नागरिकता दी जाएगी. इसका विरोध करने वाले और विपक्षी पार्टियों का कहना है कि यह कानून मुसलमानों से भेदभाव करता है और धर्म के आधार पर नागरिकता देना संविधान के खिलाफ है. 

न्यूज एजेंसी एएनआई को दिए बयान के मुताबिक शाही इमाम सैयद अहमद बुखारी ने मंगलवार को कहा, 'प्रदर्शन करना भारत के लोगों का लोकतांत्रिक अधिकार है, ऐसा करने से हमें कोई नहीं रोक सकता. हालांकि, यह भी अहम है कि इस दौरान संयम बरता जाना चाहिए और भावनाओं पर नियंत्रण रखना भी अहम है.'

नागरिकता संशोधन कानून पर केंद्र को SC का नोटिस, कोर्ट ने कहा- देखना होगा क्या एक्ट पर स्टे दिया जा सकता है?

इसके साथ ही उन्होंने कहा कि नागरिकता कानून का भारत में रहने वाले मुस्लिमों पर कोई असर नहीं पड़ेगा. इसका असर पाकिस्तान, अफगानिस्तान और बांग्लादेश शरणार्थियों पर पड़ेगा.

उन्होंने कहा, 'नागरिकता संशोधन कानून और एनआरसी में फर्क है. एक नागरिकता संशोधन एक्ट है जो कि कानून बन चुका है और दूसरा एनआरसी है, जिसका अभी ऐलान ही किया गया है. नागरिकता कानून के तहत पाकिस्तान, अफगानिस्तान और बांग्लादेश से आने वाले मुस्लिम शरणार्थी भारत की नागरिकता नहीं ले पाएंगे. इसका भारत में रहने वाले मुस्लिमों से कोई लेना-देना नहीं.'

नागरिकता संशोधन कानून के खिलाफ हिंसक प्रदर्शन के बाद दिल्ली के उत्तर-पूर्व जिले में लगाई गई धारा-144: ANI

बता दें, नागरिकता संशोधन कानून (Citizenship Amendment Act) के खिलाफ विरोध-प्रदर्शन के दौरान मंगलवार को दिल्ली के सीलमपुर-जाफराबाद इलाके में हिंसा भड़क गई. इस मामले में पुलिस ने कुल तीन एफआईआर दर्ज की हैं. पुलिस ने इस मामले में छह लोगों को गिरफ्तार भी कर लिया है. वहीं, बाकी लोगों को गिरफ्तार करने के लिए छापेमारी जारी है. एक एफआईआर ब्रजपुरी में पथराव की घटना को लेकर भी दर्ज की गई है. बताया जा रहा है कि प्रदर्शन में आपराधिक किस्म के लोग भी थे, जिन्होंने हिंसा भड़काई. साथ ही दिल्ली के उत्तर-पूर्वी जिले में धारा 144 लागू कर दी गई है.

सीलमपुर-जाफराबाद हिंसा: पुलिस ने दर्ज की 3 FIR, 6 लोग गिरफ्तार, बाकी लोगों की गिरफ्तारी के लिए छापेमारी जारी

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

इसके अलावा रविवार को जामिया इलाके में जामिया मिल्लिया इस्लामिया यूनिवर्सिटी के छात्रों और पुलिस के बीच हिंसक झड़प हुई थी. पुलिस पर पत्थरबाजी की गई थी, जिसके जवाब में पुलिस ने लाठीचार्ज किया और आंसू गैस के गोले छोड़े. इसमें कई छात्र और पुलिसकर्मी जख्मी हो गए थे.

VIDEO: NDTV Exclusive: कन्हैया कुमार का नरेंद्र मोदी पर निशाना-पीएम बनते ही भूल गए सभी मुद्दे