NDTV Khabar

नागरिकता बिल: असम के सिंगर ने BJP से वापस मांगे वोट, कहा- मेरे गाने से मिले वोट वापस कीजिए

असम के मुख्यमंत्री सर्बानंद सोनोवाल को गायक गर्ग ने पहले खत लिखा था, लेकिन उस पर जवाब नहीं आने के बाद गायक ने कहा है कि साल 2016 में उनके गाने से भाजपा को जो वोट मिले थे, वे वापस कर दिए जाएं.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
नागरिकता बिल: असम के सिंगर ने BJP से वापस मांगे वोट, कहा- मेरे गाने से मिले वोट वापस कीजिए

असमिया गायक जुबीन गर्ग.

खास बातें

  1. नागरिकता बिल 2016 का हो रहा है विरोध
  2. सिंगर ने सीएम को लिखा था खत
  3. जवाब नहीं मिला तो वापस मांगे वोट
गुवाहाटी:

नागरिकता बिल, 2016 (Citizenship (Amendment) Bill 2016) के विरोध में असमिया गायक जुबीन गर्ग (Zubeen Garg) ने भारतीय जनता पार्टी (BJP)से मांग की है कि उनकी आवाज से उसे मिले वोट वापस कर दीजिए. असम के मुख्यमंत्री सर्बानंद सोनोवाल (Sarbananda Sonowal) को गायक गर्ग ने पहले खत लिखा था, लेकिन उस पर जवाब नहीं आने के बाद गायक ने कहा है कि साल 2016 में उनके गाने से भाजपा को जो वोट मिले थे, वे वापस कर दिए जाएं. फेसबुक पोस्ट में गायक ने कहा है कि गाने के लिए उन्हें मिले मेहनताना लौटने के लिए भी वे तैयार हैं. गायक का यह पोस्ट वायरल हो गया है. 

उन्होंने लिखा है, 'प्रिय सर्बानंद सोनोवाल, मैंने आपको कुछ दिन पहले आपको खत लिखा था. लगता है कि आप जवाब देने के लिए काले झंडे गिन रहे हैं.' उन्होंने यह बात उस संदर्भ में कही है, जहां राज्य में विरोध प्रदर्शन में काले झंडे दिखाए जा रहे हैं. उन्होंने साथ ही लिखा है, 'साल 2016 में मेरी आवाज का इस्तेमाल करके आपने जो वोट लिए थे, क्या मैं वे वोट वापस ले सकता हूं? मैं मेहनताना वापस करने के लिए तैयार हूं.'


असम: कांग्रेस का सीएम सोनोवाल को ऑफर, बीजेपी छोड़ हमारे साथ आएं, फिर से बना देंगे मुख्यमंत्री

आठ जनवरी को गायक गर्ग ने चेताया था कि सीएम अगर बिल को खत्म करने के लिए सात दिनों के भीतर कोई कदम नहीं उठाते हैं तो वह प्रदर्शन करेंगे. सिंगर ने सीएम को संबोधित करते हुए एक भावुक पत्र सोशल मीडिया पर पोस्ट किया था. उन्होंने कहा था, 'अगर नागरिकता बिल लोकसभा में पास भी हो गया तो सर्बानंद इसे ना कह सकते हैं. बोलो और देखो, बाकी बाद में देखा जाएगा. मैं अभी भी अपने को ठंडा रखा हुआ हूं. मैं एक सप्ताह के लिए असम में नहीं रहूंगा. अगर मेरी वापसी से पहले सर्बानंद कुछ कार्रवाई करे तो अच्छा रहेगा. अन्यथा इस बार, मैं अपने दम पर आंदोलन करूंगा. मैं क्या करूंगा, मुझे नहीं पता.' बता दें, राज्य के एक अन्य गायक, अंगारग महंता (पापोन) ने भी बिल का विरोध किया है, उन्होंने कहा है यह "असमिया भावनाओं" को आहत करता है.

भाजपा नेता की धमकी के बाद असम यूनिवर्सिटी में प्रदर्शन पर लगी रोक

बता दें, नागरिकता (संशोधन) विधेयक के खिलाफ असम में प्रदर्शन लगातार जारी है. काजीरंगा विश्वविद्यालय की ओर जाने वाली सड़क को बाधित करने के प्रयास में सैकड़ों प्रदर्शनकारियों को हिरासत में लिया गया. मुख्यमंत्री सर्वानंद सोनोवाल को वहां दीक्षांत समारोह के लिए जाना था. कृषक मुक्ति संग्राम समिति (केएमएसएस) और जातियताबंदी युवा छात्र परिषद (एजेवाईसीपी) के 100 से प्रदर्शनकारियों ने नारेबाजी की और काले झंडे दिखाए. 

असम के भाजपा कार्यालय में जमकर हुई तोड़फोड़, इस विधेयक पर भड़के थे लोग

हालात पर काबू पाने के लिए पुलिस ने 100 से ज्यादा प्रदर्शनकारियों को हिरासत में ले लिया. कार्यक्रम समाप्त होने के बाद उन्हें छोड़ दिया गया. कार्बी आंगलांग जिले में सैकड़ों प्रदर्शनकारियों ने राष्ट्रीय राजमार्ग-36 को कुछ घंटों तक बाधित रखा. गोलपाड़ा के दुधोनी में राष्ट्रीय राजमार्ग 37 पर जोगी और कलिता समुदाय के लोगों ने विधेयक की प्रतियां जलाई.

लोकसभा चुनाव से पहले बीजेपी को बड़ा झटका, अब इस दल ने छोड़ा साथ

टिप्पणियां

VIDEO- एनआरसी बना असम में लोगों के लिए सिरदर्द

 


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

लोकसभा चुनाव 2019 के दौरान प्रत्येक संसदीय सीट से जुड़ी ताज़ातरीन ख़बरों (Election News in Hindi), LIVE अपडेट तथा इलेक्शन रिजल्ट (Election Results) के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement