दिल्‍ली में कोरोना के कारण स्थिति उतनी गंभीर नहीं जैसा अंदेशा जताया जा रहा था: CM केजरीवाल

केजरीवाल ने कहा कि हमने फिलहाल स्थिति को कंट्रोल कर लिया है. 60,000 के मुकाबले सिर्फ 26000 एक्टिव केस दिल्ली में अभी हैं.15000 बेड की जरूरत उस समय नजर आ रही थी लेकिन आज सिर्फ 5800 बेड्स पर मरीज़ हैं.

नई दिल्ली:

Covid19 Pandemic: देश की राजधानी दिल्‍ली में कोरोना वायरस के केसों की संख्‍या (Corona Cases In Delhi) बढ़ते हुए 87 हजार के पार पहुंच गई है, इसमें एक्टिव केसों की संख्‍या करीब 26 हजार है. दिल्‍ली में कोरोना संक्रमण के मुद्दे पर मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल (CM Arvind Kejriwal) बुधवार को डिजिटल प्रेस कांफ्रेंस के जरिये मीडिया से रूबरू हुए. उन्‍होंने कहा कि दिल्‍ली में कोरोना की महामारी उस खतरनाक स्थिति में नहीं है जिसका पहले अंदेशा जताया जा रहा था. उन्‍होंने कहा कि सामूहिक प्रयासों से ही हम ऐसा करने में सफल हो पाए हैं. सीएम ने कहा, 'जब लॉकडाउन खोला तब उम्मीद तो थी कि केस बढ़ेंगे लेकिन इतनी तेजी की उम्मीद नहीं थी. उन्‍होंने कहा कि केंद्र सरकार की एक वेबसाइट है, वह वेबसाइट हमें यह बताती है कि आने वाले समय में कोरोना के क्या प्रोजेक्शन होंगे. उस वेबसाइट में अनुमान लगाया गया था कि जिस स्पीड से केस दिल्ली में बढ़ रहे थे, उसके मुताबिक 30 जून को दिल्ली में एक लाख के करीब केस (Coronavirus Pandemic) होंगे उसमें से लगभग 60,000 एक्टिव केस होंगेऔर लगभग 15000 बेड की जरूरत होगी
.केजरीवाल ने कहा-यानी स्थिति गंभीर थी. हम लोग हाथ पर हाथ रखकर नहीं बैठे हमने मेहनत डबल कर दी जिससे हो सकता था, सबसे मदद मांगी. 

मुख्‍यमंत्री ने कहा, 'मैं मदद मांगने के लिए सबके पास गया. सारे सरकारी अस्पतालों को ठीक किया. हम सारे होटलवालों से मिले. हम पर होटल वालों ने केस कर दिया लेकिन फैसला हमारे हक में आया. हमने समाजसेवी संस्थाओं, केंद्र सरकार, एनजीओ सबसे मदद मांगी. अब मुझे यह कहते हुए खुशी हो रही है कि पिछले एक महीने में सभी लोगों की मेहनत से जो भयावह स्थिति हमें नजर आ रही थी, उसमें काफी सुधार हुआ है. उस समय 60,000 एक्टिव केस का प्रेडिक्शन था आज लगभग 26000 हैं. यह सारे दिल्ली वालों की मेहनत का नतीजा है डॉक्टर और नर्स की मेहनत का नतीजा है.' 

केजरीवाल ने कहा कि हमने फिलहाल स्थिति को कंट्रोल कर लिया है. 60,000 के मुकाबले सिर्फ 26000 एक्टिव केस दिल्ली में अभी हैं.15000 बेड की जरूरत उस समय नजर आ रही थी लेकिन आज सिर्फ 5800 बेड्स पर मरीज़ हैं. पिछले 1 हफ्ते में 450 मरीज कम हुए हैं. आज हमने 15000 बेड का इंतजाम कर लिया है, लेकिन मरीज़ केवल 5800 हैं. उन्‍होंने कहा कि दिल्ली में ठीक होने वालों की संख्या दिन-प्रतिदिन बढ़ती जा रही है. आज से 1 महीना पहले 38 फ़ीसदी मरीज ठीक हुए थे लेकिन आज करीब 67 % मरीज ठीक हो चुके हैं. कुल 58000 मरीज ठीक हो चुके हैं. उन्‍होंने कहा कि 23 जून को दिल्ली में करीब 4000 मामले सामने आए लेकिन कल लगभग 2200 मामले सामने आए. पिछले एक हफ्ते में रोजाना वाले मामले भी लगभग आधे हो गए हैं.

सीएम केजरीवाल ने दावा किया कि दिल्ली में कोरोना की वजह से मौत कम हो रही है. एक दिन लगभग 125 मौत हो गई थी लेकिन अब 60-65 के आसपास हो रही हैं. हमने टेस्ट की संख्या बहुत बढ़ाई है. पहले 100 लोगों का टेस्ट करते थे तो उसमें से लगभग 31 लोग पॉजिटिव पाए जाते थे लेकिन अब 100 में से केवल 13 कोरोना पॉजिटिव पाए जाते हैं. यह सारी चीजें दिखाती हैं कि स्थिति काफी कंट्रोल में आ गई है. यह हम सब लोगों की मेहनत का नतीजा है मिले-जुले प्रयास का नतीजा है. लेकिन इससे खुश होकर हमें हाथ पर हाथ रखकर नहीं बैठना है. यह वायरस ऐसा है कि इसके बारे में यह नहीं पता कि यह कल क्या करते या परसों क्या करते. हो सकता है कल को केस फिर से बढ़ जाए. मुख्‍यमंत्री ने कहा, 'मैं अपनी तरफ से सरकार अपनी तरफ से पूरी कोशिश जारी रखेंगे. हम अपनी मेहनत में कोई कमी नहीं आने देंगे दोगुनी मेहनत करेंगे ताकि अगर आने वाले समय में केस बढ़ते हैं तो हम उसका मुकाबला कर सके.' उन्‍होंने लोगों से मास्क पहनते रहने और सोशल डिस्टेंसिंग बनाए रखने की भी अपील की.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com