NDTV Khabar

तृणमूल के सुखेंदु शेखर रॉय हो सकते हैं उपसभापति पद के लिए विपक्ष के साझा प्रत्याशी

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी की पार्टी तृणमूल कांग्रेस के सुखेंदु शेखर रॉय ही राज्यसभा के उपसभापति पद के चुनाव के लिए विपक्ष के साझा प्रत्याशी हो सकते हैं.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
तृणमूल के सुखेंदु शेखर रॉय हो सकते हैं उपसभापति पद के लिए विपक्ष के साझा प्रत्याशी

तृणमूल कांग्रेस के सुखेंदु शेखर रॉय ही राज्यसभा के उपसभापति पद के चुनाव के लिए विपक्ष के साझा प्रत्याशी हो सकते हैं.

खास बातें

  1. तृणमूल कांग्रेस के नेता हैं सुखेंदु शेखर रॉय
  2. राज्यसभा के उपसभापति पद के लिए हो सकते हैं विपक्ष के साझा प्रत्याशी
  3. सूत्रों का कहना है कि कांग्रेस ने उन्हें समर्थन देने का निर्णय लिया है
नई दिल्ली:

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी की पार्टी तृणमूल कांग्रेस के सुखेंदु शेखर रॉय ही राज्यसभा के उपसभापति पद के चुनाव के लिए विपक्ष के साझा प्रत्याशी हो सकते हैं. अगर सरकार भी इस पद के लिए प्रत्याशी उतारने का निर्णय लेती है, तो चुनाव की नौबत आना निश्चित है. वर्ष 2019 में होने जा रहे लोकसभा चुनाव से पहले इस चुनाव को भी BJP से मुकाबला करने के लिए विपक्ष के एक साथ आने की संभावनाओं का टेस्ट माना जा रहा है. सूत्रों का कहना है कि कांग्रेस ने ममता बनर्जी के प्रत्याशी को ही समर्थन देने का फैसला किया है, और पार्टी राज्यसभा में खासा संख्याबल होने के बावजूद शांत रहने के लिए तैयार है.

यह भी पढ़ें : तेजस्वी की दो टूक, नीतीश कुमार के लिए 'महागठबंधन' के दरवाजे हमेशा के लिए बंद

कांग्रेस के पीजे कुरियन छह साल तक राज्यसभा के उपसभापति रह चुके हैं. राज्यसभा में 51 सीटों के साथ कांग्रेस की स्वाभाविक दावेदारी बनती है, लेकिन पार्टी को एहसास है कि गैर-BJP प्रत्याशी की जीत सुनिश्चित करने के लिए उन्हें तृणमूल कांग्रेस के प्रत्याशी को समर्थन देना होगा, ताकि बीजू जनता दल और तेलंगाना राष्ट्र समिति के अहम वोट हासिल किए जा सकें, जो पहले से तृणमूल कांग्रेस के प्रत्याशी को समर्थन दे रहे हैं. इस पद के लिए अंतिम बार चुनाव की नौबत वर्ष 1992 में आई थी. तब कांग्रेस प्रत्याशी नजमा हेपतुल्ला (जो अब BJP के साथ हैं) तथा विपक्ष की प्रत्याशी रेणुका चौधरी के बीच मुकाबला हुआ था.


यह भी पढ़ें : मॉनसून सत्र को लेकर विपक्ष ने सरकार की मंशा पर उठाए सवाल, कहा - मोदी गवर्नमेंट संसद को लेकर गंभीर नहीं

इस चुनाव में नजमा हेपतुल्ला ने रेणुका चौधरी को मिले 95 वोटों के मुकाबले 128 वोट हासिल कर जीत दर्ज की थी. इस बार भी मुकाबला होना लगभग तय लग रहा है, क्योंकि BJP सामूहिक विपक्ष के प्रत्याशी के सामने हार स्वीकार करने के लिए तैयार नहीं दिख रही है, हालांकि सत्तारूढ़ गठबंधन के पास पर्याप्त संख्याबल नहीं है. नामांकन तथा चुनाव प्रक्रिया संसद के मॉनसून सत्र के दौरान होगी.

टिप्पणियां

यह भी पढ़ें : विपक्षी दलों को 2019 में बीजेपी से मुकाबला करने के लिए अहंकार छोड़ना होगा : तेजस्वी यादव  

VIDEO: मुकाबला : क्या कांग्रेस को गठबंधन बनाने के लिए कम सीटों पर लड़ना होगा?



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement