राम मंदिर पर बोली कांग्रेस: बीजेपी ‘कलयुग की कैकेयी', भगवान राम को 30 साल से वनवास पर भेज रखा है, मगर

अयोध्या में राम मंदिर को लेकर एक बार फिर से कांग्रेस ने भारतीय जनता पार्टी और आरएसएस पर हमला बोला है.

राम मंदिर पर बोली कांग्रेस: बीजेपी ‘कलयुग की कैकेयी', भगवान राम को 30 साल से वनवास पर भेज रखा है, मगर

कांग्रेस के प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला (फाइल फोटो)

नई दिल्ली:

अयोध्या में राम मंदिर को लेकर एक बार फिर से कांग्रेस ने भारतीय जनता पार्टी और आरएसएस पर हमला बोला है. कांग्रेस ने राष्ट्रीय स्वंयसेवक संघ (आरएसएस) के प्रमुख मोहन भागवत के राम मंदिर से जुड़े ताजा बयान को लेकर बुधवार को उन पर निशाना साधा और आरोप लगाया कि ‘कलयुग की कैकेयी’ भाजपा ने भगवान राम को 30 वर्षों से वनवास पर भेज रखा है तथा चुनाव के समय उन्हें राम की याद आती है. 

राम बहुसंख्यक आबादी के इष्टदेव, विपक्षी पार्टियां भी खुलकर अयोध्या में मंदिर का विरोध नहीं कर सकती : मोहन भागवत

पार्टी के मुख्य प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने संवाददाताओं से कहा, ‘‘मोहन भागवत जी का बयान हमने देखा. बारिश और चुनाव के मौसम में बहुत सारे मेंढक आवाज करते हैं, पर हर आवाज यथार्थ और सच्चाई में नहीं बदल जाती. भगवान राम तो कण-कण में हैं, देश के मन-मन में है.’ उन्होंने कहा, ‘सतयुग में कैकेयी ने भगवान राम को 14 वर्ष का वनवास दिलवाया था. कलयुग की कैकेयी भाजपा और आरएसएस ने तो भगवान राम को 30 साल से वनवास पर भेज रखा है. हर चुनाव के बाद भगवान राम को वनवास पर भेज देते हैं और चुनाव से चार महीने पहले फिर भगवान राम को याद कर लेते हैं.’    

मोहन भागवत ने संघ के स्वयंसेवकों से कहा, समाजिक समरसता के लिये काम करें

सुरजेवाला ने कहा, ‘भाजपा और आरएसएस का चरित्र क्या है? मुंह में राम और मस्तिष्क में नाथूराम. ये है भारतीय जनता पार्टी की सच्चाई.’ उन्होंने कहा, ‘भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस ने स्पष्ट तौर से वर्षों से कहा है कि राम जन्मभूमि - बाबरी मस्जिद का जो मामला है वह न्यायालय में विचाराधीन है. जो निर्णय न्यायालय करे वह सब पक्षों को मानना चाहिए और सरकार को उसे लागू करना चाहिए.’

BJP ने अपने बूथ मैनेजरों को संघ परिवार के साथ ‘‘नियमित संपर्क’’ में रहने का दिया निर्देश

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

गौरतलब है कि बीते दिनों संघ प्रमुख मोहन भागवत ने कहा था कि अयोध्या में राम मंदिर के निर्माण का विरोध विपक्षी दल नहीं कर सकते क्योंकि देश का बहुसंख्‍यक समुदाय भगवान राम की पूजा करता है.

VIDEO: विपक्ष भी नहीं कर सकता राम मंदिर का विरोध!