NDTV Khabar

कांग्रेस ने नोटबंदी पर BJP को घेरा, कहा- अमित शाह जिस कॉपरेटिव बैंक के निदेशक रहे वहां जमा हुए सबसे ज्यादा पैसे

कांग्रेस का आरोप है कि अमित शाह जिस बैंक के निदेशक रहे हैं वह नोटबंदी के दौरान सबसे ज्यादा प्रतिबंधित 500 और 1000 रुपये के नोट जमा करने वाला जिला सहकारी बैंक है.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
कांग्रेस ने नोटबंदी पर BJP को घेरा, कहा- अमित शाह जिस कॉपरेटिव बैंक के निदेशक रहे वहां जमा हुए सबसे ज्यादा पैसे

कांग्रेस प्रवक्‍ता रणदीप सुरजेवाला

खास बातें

  1. नोटबंदी के दौरान काले धन को सफेद किया गया
  2. गुजरात कोऑपरेटिव बैंक में नोटबंदी के दौरान सबसे बड़ा घोटाला किया गया
  3. नोटबंदी घोटाले की जांच के वक़्त सबसे घोटाले के अब सबूत मिले हैं
नई दिल्ली: कांग्रेस ने नोटबंदी को एक घोटाला बताते हुए बीजेपी के राष्‍ट्रीय अध्‍यक्ष अमित शाह पर हमला बोला है. कांग्रेस का आरोप है कि अमित शाह जिस बैंक के निदेशक रहे हैं वह नोटबंदी के दौरान सबसे ज्यादा प्रतिबंधित 500 और 1000 रुपये के नोट जमा करने वाला जिला सहकारी बैंक है. केंद्र सरकार ने आठ नंवबर 2016 में उस समय चलन में रहे 500 और 1000 रुपये के नोटों पर प्रतिबंध लगाकर उन्हें चलन से बाहर कर दिया था. 

कांग्रेस नेता सैफुद्दीन सोज़ ने किया मुशर्रफ़ के कश्‍मीर की आजादी वाले बयान का समर्थन, फंसी पार्टी

कांग्रेस के प्रवक्‍ता रणदीप सुरजेवाला ने शुक्रवार को प्रेस कॉन्‍फ्रेंस कर आरोप लगाया कि नोटबंदी के दौरान काले धन को सफेद किया गया. गुजरात कोऑपरेटिव बैंक में हेरफेरी करके नोटबंदी के दौरान सबसे बड़ा घोटाला किया गया. कांग्रेस का आरोप है कि घोटाले से जुड़े सबूत अब सामने और गुजरात के कई कोऑपरेटिव बैंकों के चेयरमैन BJP नेता हैं. नोटबंदी घोटाले की जांच के वक़्त सबसे घोटाले के अब सबूत मिले हैं. नोटबंदी के दौरान एक बैंक में 745 करोड़ रुपये पांच दिन में जमा हुए. यह वही बैंक है जिसके निदेशक बीजेपी के अध्यक्ष अमित शाह रहे हैं. अहमदाबाद जिला सहकारी बैंक (एडीसीबी) ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा नोटबंदी की घोषणा करने के महज पांच दिन के भीतर 745.59 करोड़ रुपये मूल्य के प्रतिबंधित नोट प्राप्त किए थे.

नोटबंदी के बाद जो आतंकवाद ख़त्म हो गया था, उसी कारण गठबंधन ख़त्म हो गया

गौरतलब है कि नोटबंदी की घोषणा के पांच दिन बाद 14 नवंबर 2016 को सभी जिला सहकारी बैंकों को लोगों से प्रतिबंधित नोट जमा लेने से मना कर दिया गया था क्योंकि यह आशंका जताई गई थी कि सहकारी बैंकों के जरिए काले धन को सफेद किया जा सकता है. बैंक की वेबसाइट के अनुसार, अमित शाह उस समय बैंक में निदेशक पर थे और वह कई साल से इस पद पर बने रहे. वह 2000 में बैंक के अध्यक्ष भी रहे हैं.

नोटबंदी के बाद GDP को लेकर मेरी भविष्यवाणी सही साबित हुई : चिदंबरम

एडीसीबी के पास 31 मार्च 2017 को कुल 5,050 करोड़ रुपये जमा थे और वित्त वर्ष 2017-18 में बैंक का शुद्ध मुनाफा 14.31 करोड़ रहा. एडीसीबी के बाद सबसे ज्यादा प्रतिबंधित नोट जमा करने वाला सहकारी बैंक राजकोट जिला सहकारी बैंक है जिसके अध्यक्ष गुजरात के मुख्यमंत्री विजय रूपाणी की सरकार में कैबिनेट मंत्री जयेशभाई विट्ठलभाई रडाड़िया हैं. इस बैंक ने 693.19 करोड़ रुपये मूल्य के प्रतिबंधित नोट जमा लिए थे. 

VIDEO: पूर्व पीएम मनमोहन सिंह ने कहा, नोटबंदी-जीएसटी इस सरकार की दो बड़ी गलतियां


टिप्पणियां
जाहिर है कि राजकोट गुजरात में भाजपा की राजनीति का केंद्र रहा है और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पहली बार यहीं से 2001 में विधायक चुने गए थे.  गौर करने बात यह है कि अहमदाबाद और राजकोट के जिला सहकारी बैंकों द्वारा जमा प्राप्ति का यह आंकड़ा गुजरात राज्य सहकारी बैंक लिमिटेड द्वारा जमा प्राप्त रकम 1.11 करोड़ रुपये से बहुत ज्यादा है.


 


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement