कांग्रेसी उम्मीदवारों को सता रहा EVM में सेंधमारी का डर, टेंट लगा खुद कर रहे स्ट्रांग रूम की निगरानी

मामला छत्तीसगढ़ (chhattisgarh assembly election 2018) के कोंडागांव जिले के केशकाल और कोंडागांव विधानसभा सीट की है.

कांग्रेसी उम्मीदवारों को सता रहा EVM में सेंधमारी का डर, टेंट लगा खुद कर रहे स्ट्रांग रूम की निगरानी

टेंट में रहकर निगरानी कर रहे हैं उम्मीदवार

खास बातें

  • उम्मीदवारों को सता रहा है सेंधमारी का डर
  • छत्तीसगढ़ में हो चुके हैं मतदान
  • टेंट में रह रहे हैं उम्मीदवार
रायपुर:

छत्तीसगढ़ विधानसभा चुनाव (chhattisgarh assembly election 2018) में भले ही मतदान हो गया हो लेकिन बावजूद इसके उम्मीदवारों को EVM में सेंधमारी का डर सता रहा है. डर ऐसा कि उम्मीदवार खुद स्ट्रांग रूम के बाहर टेंट लगाकर निगरानी करने बैठ गए हैं. पूरा मामला छत्तीसगढ़ (chhattisgarh assembly election 2018) के कोंडागांव जिले के केशकाल और कोंडागांव विधानसभा सीट की है. हालांकि यहां चुनाव के बाद EVM मशीन को स्ट्रांग रूम में जमा कराकर सील कर दिया गया था.साथ ही उसके साथ कोई छेड़छाड़ न हो इसके लिए सुरक्षा के कड़े इंतजाम किए हैं लेकिन इन दो विधानसभी सीट से कांग्रेस के उम्मीदवार को इसके बाद भी सेंधमारी का डर लग रहा है.

यह भी पढ़ें: राजनाथ सिंह बोले- कांग्रेस की हालत 'बिना दूल्हे की बारात' जैसी, उनके पास एक चेहरा तक नहीं

इस वजह से ही मोहन मरकाम और सन्त नेताम स्ट्रॉन्ग रूम की खुद ही निगरानी कर रहे हैं. इसके लिए बकायदा उन्होंने स्ट्रांग रूम के बाहर टेंट लगाया हुआ है. केशकाल विधानसभा सीट से कांग्रेस प्रत्याशी संत नेताम का कहना है कि आए दिन जिस तरह से वोटिंग मशीन से छेड़छाड़ की खबरें आती रही हैं उसे देखते हुए उन्हें भी डर है कि उन्हें हराने के लिए यहां भी कुछ वैसा ही किया जा सकता है.

VIDEO: छत्तीसगढ़ में किसकी सरकार.

उन्होंने कहा कि हमें डर है कि इतनी सुरक्षा के बाद भी ईवीएम के साथ छेड़छाड़ हो सकती है. और इसलिए हम इसकी निगरानी कर रहे हैं. गौरतलब है कि इससे पहले दिल्ली विधानसभा चुनाव के बाद आम आदमी पार्टी के उम्मीदवारों द्वारा भी ऐसे ही स्ट्रांग रूम की निगरानी करने की खबर आई थी. हालांकि उस दौरान पार्टी का कोई नेता नहीं बल्कि कार्यकर्ता ही स्ट्रांग रूम के आसपास निगरानी रख रहे थे. 
 

 
Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com