NDTV Khabar

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता बोले, अगर पार्टी ने हरियाणा में मजबूती से चुनाव लड़ा होता तो...

मनीष तिवारी (Manish Tewari) ने कहा कि यदि कांग्रेस ने हाल ही में दो राज्यों में हुए चुनावों को कहीं अधिक उत्साह और मजबूती से लड़ा होता, तो पार्टी हरियाणा में सरकार बना सकती थी.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
कांग्रेस के वरिष्ठ नेता बोले, अगर पार्टी ने हरियाणा में मजबूती से चुनाव लड़ा होता तो...

कांग्रेस नेता मनीष तिवारी (फाइल फोटो)

खास बातें

  1. कांग्रेस नेता मनीष तिवारी का बड़ा बयान
  2. कहा, हरियाणा में हमारी सरकार बन सकती थी
  3. अगर हम और मजबूती के साथ चुनाव लड़ते तो
नई दिल्ली :

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता मनीष तिवारी (Manish Tewari) ने बुधवार को कहा कि यदि कांग्रेस ने हाल ही में दो राज्यों में हुए चुनावों को कहीं अधिक उत्साह और मजबूती से लड़ा होता, तो पार्टी हरियाणा में सरकार बना सकती थी तथा महाराष्ट्र में और भी बेहतर प्रदर्शन कर सकती थी. फॉरेन कॉरस्पान्डेन्ट क्लब (एफसीसी) में पत्रकारों से बातचीत करते हुए कांग्रेस प्रवक्ता तिवारी ने कहा कि जब भी सत्ता की निरंकुशता बढ़ती है, इसकी सबसे पहली शिकार संस्थाएं होती हैं और पिछले महीने हरियाणा और महाराष्ट्र विधानसभा चुनावों ने यह प्रदर्शित किया कि लोकतंत्र में स्व-सुधार होना स्वाभाविक है. तिवारी ने कहा कि हरियाणा और महाराष्ट्र के चुनावों ने यह अहम संदेश दिया है कि अर्थव्यवस्था ने देश के लोगों को तकलीफ पहुंचाना शुरू कर दिया है और यह उनकी चिंता थी.  

टिप्पणियां

कांग्रेस नेता मनीष तिवारी ने की भगत सिंह, सुखदेव और राजगुरु को भारत रत्न दिए जाने की मांग


मनीष तिवारी (Manish Tewari) ने कहा, 'अगर हम ज्यादा मजबूती के साथ चुनाव लड़ते तो हम हरियाणा में अपनी सरकार बना लेते और महाराष्ट्र में कहीं बेहतर प्रदर्शन करते. कांग्रेस को चुनाव और भी मजबूती तथा ऊर्जा से लड़ना चाहिए था.' कांग्रेस के 2014 और 2019 का लोकसभा चुनाव हारने का जिक्र करते हुए तिवारी ने कहा कि आत्म निरीक्षण करने की जरूरत है. उन्होंने कहा कि आपातकाल एक विशेष समय और संदर्भ में लगाया गया था. उन्होंने कहा कि वर्तमान ‘निरंकुश' सरकार के साथ इसकी तुलना अनुचित है. इस सरकार में चीजें और बदतर हुई हैं.सीबीआई और ईडी के अधिकारियों के पूर्व केंद्रीय मंत्री पी चिदंबरम के घर घुसने वाले दृश्य ये संदेश देते हैं कि अब हम पर कानून का शासन नहीं चलेगा, बल्कि सत्ता में बैठे लोगों की मर्जी चलेगी.  



(इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement