NDTV Khabar

कांग्रेस नेता मनीष तिवारी की मांग, बीजेपी अध्यक्ष के बयान का स्व-संज्ञान ले हाईकोर्ट

कांग्रेस ने साथ ही उच्च न्यायालय से खबर की सच्चाई की जांच कराने का भी आग्रह किया.

9 Shares
ईमेल करें
टिप्पणियां
कांग्रेस नेता मनीष तिवारी की मांग, बीजेपी अध्यक्ष के बयान का स्व-संज्ञान ले हाईकोर्ट

कांग्रेस नेता मनीष तिवारी.

नई दिल्ली: सीबीआई की विशेष अदालत ने गुरमीत राम रहीम को रेप के दो मामलों में 20 साल कैद की सजा सुनाई है. इस पर कई दलों ने अपनी अपनी प्रतिक्रिया दी है.  कांग्रेस ने मंगलवार को पंजाब एवं हरियाणा उच्च न्यायालय से उस खबर पर खुद संज्ञान लेने का अनुरोध किया, जिसमें भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के अध्यक्ष अमित शाह के हवाले से कहा गया है कि 25 अगस्त को डेरा सच्चा सौदा प्रमुख गुरमीत राम रहीम सिंह को सजा सुनाने के बाद भड़की हिंसा के लिए केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) की विशेष अदालत के न्यायाधीश जिम्मेदार हैं.  कांग्रेस ने साथ ही उच्च न्यायालय से खबर की सच्चाई की जांच कराने का भी आग्रह किया.

कांग्रेस प्रवस्ता मनीष तिवारी ने कहा, "प्रकाशित खबर के अनुसार, अमित शाह ने कहा था कि गुरमीत राम रहीम के मामले की सुनवाई कर रहे सीबीआई की विशेष अदालत के न्यायाधीश सजा सुनाए जाने के बाद पंचकूला में भड़की हिंसा के लिए जिम्मेदार हैं."

यह भी पढ़ें : इमरजेंसी लगाने वाले मौलिक अधिकारों के संरक्षक बन गए हैं: अमित शाह

मनीष तिवारी ने कहा, "उन्होंने (शाह ने) यहां तक कहा कि न्यायाधीश से सुनवाई टालने या संभव हो तो कहीं और अदालत लगाने का अनुरोध किया गया था. अब तक भाजपा या अमित शाह ने इस खबर का खंडन नहीं किया है."

कांग्रेस नेता ने तीन सवाल उठाए, "क्या न्याय व्यवस्था को बाधित करने की स्पष्ट मंशा के चलते भीड़ को अदालत परिसर के बाहर इकट्ठा होने दिया गया? क्या भीड़ को भड़काने में हरियाणा सरकार और भाजपा के शीर्ष लोग शामिल थे? अगर आप न्याय व्यवस्था को भयभीत करने या भयभीत करने की कोशिश के तहत भीड़तंत्र को उकसाते हैं, तो क्या यह फासीवाद का सबसे खराब रूप नहीं है?"
VIDEO: गुरमीत राम रहीम को कोर्ट से मिली सजा

तिवारी ने कहा, "भारतीय लोकतंत्र के लिए यह बेहद विचलित करने वाले पूर्वाभास हैं. हम उच्च न्यायालय से इस खबर पर स्व-संज्ञान लेने और खबर की सत्यता की जांच करवाए जाने का अनुरोध करते हैं. अगर इस खबर में जरा भी सच्चाई है तो भारतीय लोकतंत्र के लिए आने वाले समय में इसके बेहद खतरनाक निहितार्थ होंगे." (IANS की रिपोर्ट)


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement