कांग्रेस नेता सचिन पायलट का पार्टी के लिए एकता का संदेश, गांधी परिवार की तारीफ की

कांग्रेस नेता सचिन पायलट, जिन्होंने लगभग एक महीने तक राजस्थान में अपने बागी तेवरों से अशोक गहलोत सरकार की नाक में दम कर दिया था, ने सोनिया गांधी और राहुल गांधी के समर्थन में ट्वीट किया है.

कांग्रेस नेता सचिन पायलट का पार्टी के लिए एकता का संदेश, गांधी परिवार की तारीफ की

राहुल गांधी के साथ सचिन पायलट (फाइल फोटो).

नई दिल्ली:

कांग्रेस नेता सचिन पायलट, जिन्होंने लगभग एक महीने तक राजस्थान में अपने बागी तेवरों से अशोक गहलोत सरकार की नाक में दम कर दिया था, ने सोनिया गांधी और राहुल गांधी के समर्थन में ट्वीट किया है. दरअसल कांग्रेस के 20 से अधिक नेताओं के हस्ताक्षर वाले एक पत्र पर पार्टी में विवाद छिड़ गया है. यह पत्र 7 अगस्त को लिखा गया है जिस दौरान पार्टी पायलट और उनके 18 विधायक साथियों को को वापस पटरी पर लाने की कोशिश कर रही थी. 

यह भी पढ़ें: पार्टी के शीर्ष पद को स्वीकार नहीं करना चाहते राहुल गांधी और प्रियंका गांधी : सूत्र

पत्र में व्यापक सुधार, आत्मनिरीक्षण और "एक पूर्णकालिक नेतृत्व" की मांग की गई है. पार्टी में सुधार के लिए सामूहिक रूप से मार्गदर्शन करने के लिए "संस्थागत नेतृत्व " की स्थापना का सुझाव दिया गया है. यह भी कहा कि नेतृत्व के मुद्दे पर "अनिश्चितता" और पार्टी में "बहाव" पार्टी कार्यकर्ताओं को निराश कर रहा है और पार्टी को कमजोर कर दिया है. पत्र ने कहा कि नेहरू-गांधी परिवार, जो आजादी के बाद से मुख्य रूप से पार्टी का नेतृत्व कर रहे हैं, सामूहिक नेतृत्व का एक अभिन्न हिस्सा होना चाहिए.

अपने ट्वीट में, पायलट ने पत्र को लेकर स्पष्ट तरीके से असहमत जाहिर की है. उन्होंने ट्वीट किया, "श्रीमती गांधी और राहुल-जी ने दिखाया है कि लोगों और पार्टी की भलाई के लिए बलिदान देने का क्या मतलब है. अब आम सहमति बनाने और एकजुट होने का समय है. जब हम एकजुट होंगे तो हमारा भविष्य मजबूत होगा. अधिकांश कांग्रेस कार्यकर्ता चाहेंगे कि राहुल जी पार्टी का नेतृत्व करें. ”

यह भी पढ़ें: सोनिया गांधी खेमे ने पत्र लीक होने पर जताई नाराजगी, असहमति पत्र के बाद बुलाई गई CWC बैठक

इस पत्र ने कांग्रेस को विभाजित कर दिया है, जिसमें अमरिंदर सिंह, भूपेश बघेल और सिद्धारमैया जैसे वरिष्ठ नेता गांधी परिवार के समर्थन में हैं. पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह ने सूत्रों के हवाले से कहा, "सोनिया गांधी को जब तक वह चाहें तब तक अध्यक्ष रहना चाहिए साथ ही राहुल गांधी को पूरी तरह से सक्षम होने के बाद जिम्मेदारी देनी चाहिए."

सूत्रों ने यह भी कहा कि राहुल गांधी और उनकी बहन प्रियंका गांधी वाड्रा भी अध्यक्ष बनने के लिए अनिच्छुक हैं. पिछले साल पद से हटते समय, राहुल गांधी ने पार्टी नेताओं से नेहरू गांधी परिवार के बाहर एक नए नेता की तलाश करने के लिए कहा था. उन्होंने यह भी कहा कि पार्टी को अध्यक्ष पद के लिए सोनिया गांधी और  प्रियंका गांधी के सामने नहीं झुकना चाहिए.

यह भी पढ़ें:कांग्रेस नेताओं का पत्र दुर्भाग्यपूर्ण, सोनिया गांधी संभाले रहें पार्टी का नेतृत्व : अशोक गहलोत

पायलट ने महीने भर के गतिरोध के दौरान प्रियंका गांधी वाड्रा के साथ कई बैठकें कीं. इसके अंत में राहुल गांधी के साथ उनकी कुछ मुलाकातें भी हुईं. 

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

पार्टी ने बाद में एक तीन सदस्यीय टीम बनाई जिसमें प्रियंका गांधी वाड्रा शामिल थीं और राजस्थान सरकार की स्थिरता सुनिश्चित करने के लिए महत्वपूर्ण बदलाव किए गए थे. पायलट ने प्रियंका गांधी वाड्रा को "सुनने" के लिए धन्यवाद दिया था. इसके तुरंत बाद, कांग्रेस सरकार ने विधानसभा में एक विश्वास मत जीता, जिसने अगले छह महीनों के लिए अपनी सुरक्षा सुनिश्चित की.

कांग्रेस वर्किंग कमेटी की अहम बैठक कल