यूपी में कांग्रेस को लग सकता है झटका, रीता बहुगुणा जोशी के भाजपा में शामिल होने की अटकलें तेज

यूपी में कांग्रेस को लग सकता है झटका, रीता बहुगुणा जोशी के भाजपा में शामिल होने की अटकलें तेज

पूर्व यूपी कांग्रेस अध्यक्ष रीता बहुगुणा जोशी

नई दिल्ली:

पूर्व कांग्रेसी और अब बीजेपी नेता विजय बहुगुणा आज रीता बहुगुणा से मिलने जाने वाले थे, लेकिन अब वह अपने पिता जी के नाम पर बनी हेमवती नंदन बहुगुणा यूनिवर्सिटी में एक कार्यक्रम में जा रहे हैं. इस कार्यक्रम में केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर भी शामिल होने के लिए उत्तराखंड जा रहे हैं. विजय बहुगुणा ने बताया कि रीता की तबीयत खराब है और वह इसलिए उनसे मिलने जाने वाले थे.

उन्होंने कहा, ये सब अटकलें हैं, लेकिन मेरा यह मानना है कि रीता जी को अपने बारे में बन रहीं इस अफवाहों का साफ करना चाहिए.

माना जा रहा है कि यूपी में एक बार फिर अपनी जड़ें ज़माने की कोशिश में लगी कांग्रेस को जल्द ही एक बड़ा झटका लग सकता है. यूपी कांग्रेस की पूर्व अध्यक्ष रीता बहुगुणा जोशी के बीजेपी में जाने की अटकलें तेज़ हैं. सूत्र बता रहे हैं कि रीता बहुगुणा बीजेपी नेताओं के संपर्क में हैं. हालांकि कांग्रेस ने अभी इस बारे में साफ तौर पर कुछ नहीं कहा है.

उत्तर प्रदेश कांग्रेस की पूर्व अध्यक्ष रीता बहुगुणा जोशी के राज्य में विधानसभा चुनाव से पहले भाजपा में शामिल होने की अटकलें काफी तेज हो गई.

भाजपा के सूत्रों ने अपना नाम गुप्त रखने की शर्त पर कहा कि पूर्व मुख्यमंत्री हेमवती नंदन बहुगुणा की पुत्री रीता और पार्टी नेताओं के बीच बातचीत हुई है. उन्होंने कहा कि उनके पार्टी में शामिल होने पर निर्णय जल्द हो सकता है.

67 वर्षीय बहुगुणा वर्तमान में लखनऊ कैंटोमेंट से विधायक हैं. इस संबंध में टिप्पणी के लिए उनसे सम्पर्क नहीं हो सका.

कहा जाता है कि वह शीला दीक्षित को कांग्रेस का मुख्यमंत्री पद का उम्मीदवार पेश करने के कांग्रेस नेतृत्व के निर्णय को लेकर अप्रसन्न हैं और राज बब्बर को उत्तर प्रदेश पार्टी प्रमुख बनाये जाने के बाद वह स्वयं को और अधिक उपेक्षित महसूस करती हैं.

उनका मानना है कि एक ब्राह्मण मुख्यमंत्री चेहरे के तौर पर पेश करने के लिए उनमें शीला दीक्षित से अधिक पात्रता है. राज्य के आगामी चुनाव में कांग्रेस के एक उम्मीदवार के तौर पर वह कड़ी चुनावी का सामना कर रही हैं.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

सपा ने घोषणा की है कि मुलायम सिंह यादव की पुत्रवधु अपर्णा यादव लखनऊ कैंट विधानसभा सीट से चुनाव लड़ेंगी. रीता बहुगुणा के भाई एवं उत्तराखंड के पूर्व मुख्यमंत्री विजय बहुगुणा कुछ महीने पहले ही भाजपा में शामिल हुए थे.

रीता बहुगुणा का भाजपा में शामिल होना पार्टी के लिए लाभकारी होगा क्योंकि पार्टी को ब्राह्मण वोट को एकजुट करने में मदद मिलेगी. कांग्रेस ने ब्राह्मण वोट को देखते हुए ही शीला दीक्षित को अपना मुख्यमंत्री पद का उम्मीदवार घोषित किया था.