NDTV Khabar

जेएनयू की घटना के लिए अमित शाह और रमेश पोखरियाल निशंक जिम्मेदार, कुलपति को हटाया जाए : कांग्रेस

जयराम रमेश ने कहा कि इस हिंसा में शामिल लोगों की तत्काल गिरफ्तारी होनी चाहिए तथा कुलपति एम जगदीश कुमार को तत्काल हटाया जाना चाहिए.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
जेएनयू की घटना के लिए अमित शाह और रमेश पोखरियाल निशंक जिम्मेदार, कुलपति को हटाया जाए : कांग्रेस

जयराम रमेश का केंद्र सरकार पर हमला

खास बातें

  1. कांग्रेस का अमित शाह और रमेश पोखरियाल निशंक पर हमला
  2. हिंसा में शामिल लोगों की तत्काल गिरफ्तारी होनी चाहिए- कांग्रेस
  3. कुलपति एम जगदीश कुमार को तत्काल हटाया जाए- जयराम रमेश
नई दिल्ली:

कांग्रेस ने जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय (जेएनयू) में पिछले दिनों हिंसा को लेकर गुरुवार को आरोप लगाया कि इस घटना के लिए गृह मंत्री अमित शाह एवं मानव संसाधन विकास मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक जिम्मेदार हैं. पार्टी के वरिष्ठ नेता जयराम रमेश ने कहा कि इस हिंसा में शामिल लोगों की तत्काल गिरफ्तारी होनी चाहिए तथा कुलपति एम जगदीश कुमार को तत्काल हटाया जाना चाहिए. उन्होंने कहा, ‘‘जेएनयू की घटना के पीछे मानव संसाधन विकास मंत्री और गृह मंत्री दोनों शामिल हैं. यह आधिकारिक रूप से प्रयोजित गुंडागर्दी थी. 72 घंटे हो गए, लेकिन कोई गिरफ्तारी नहीं हुई.''

JNU हिंसा पर बोले लद्दाख से BJP सांसद- लोकतंत्र का सदुपयोग करो, दुरुपयोग नहीं

कांग्रेस नेता ने कहा, ‘‘हमारी मांग है कि जिनकी पहचान हो गयी है उनको गिरफ्तार किया जाए. यह भी साफ है कि इस कुलपति के रहते सामान्य स्थिति नहीं हो सकती. इस कुलपति का त्याग पत्र लेना जरूरी है.'' रमेश ने यह भी कहा कि छात्रों की जो मांगें हैं उन पर भी विचार होना चाहिए. संशोधित नागरिकता कानून (सीएए) के खिलाफ विरोध प्रदर्शनों के दौरान मुंबई में ‘फ्री कश्मीर' वाले पोस्टर पर उन्होंने कहा कि जो भी कानून के दायरे से बाहर होगा, कांग्रेस उसके खिलाफ है.


JNU हिंसा मामला: दीपिका पादुकोण के समर्थन में आए अनुराग कश्यप, कहा - उन्होंने साबित कर दिया कि उन्हें...

टिप्पणियां

गौरतलब है कि कांग्रेस CAA, अर्थव्यवस्था और जेएनयू की घटना को लेकर सरकार पर हमलावर रही है. कांग्रेस नेता प्रियंका गांधी ने भी ट्वीट कर गुरुवार को अर्थव्यवस्था के मुद्दे पर सरकार को घेरा था. उन्होंने कहा था सरकार को सबसे ज्यादा ध्यान अर्थव्यवस्था पर देना चाहिए था, लेकिन अर्थव्यवस्था के सुधार के मामले को 'ठंडे बस्ते' में डाल दिया गया है. उन्होंने ट्विटर के साथ एक न्यूज रिपोर्ट को टैग करते हुए कहा था, "अर्थव्यवस्था पर भाजपा सरकार को सबसे ज्यादा ध्यान देना चाहिए था लेकिन अब अर्थव्यवस्था सुधारने का मामला ठंडे बस्ते में बंद है. जीडीपी वृद्धि के अनुमान बताते हैं हालात ठीक नहीं हैं. इसका सबसे ज्यादा असर व्यापार, गरीबों, दिहाड़ी पर काम करने वाले मजदूरों और रोजगार पर पड़ रहा है."

VIDEO: JNU Violence: JNU हिंसा में जख्मी हुईं JNUSU अध्यक्ष ऐशी घोष के खिलाफ केस दर्ज



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें. India News की ज्यादा जानकारी के लिए Hindi News App डाउनलोड करें और हमें Google समाचार पर फॉलो करें


 Share
(यह भी पढ़ें)... नेहा कक्कड़ और आदित्य की शादी पर पापा उदित नारायण बोले- मेरे परिवार में फीमेल सिंगर का आना...

Advertisement