NDTV Khabar

CAA के खिलाफ बड़ा आंदोलन खड़ा करने की कूवत कांग्रेस में होती तो पिछला चुनाव न हारती : सलमान खुर्शीद

पूर्व केंद्रीय मंत्री सलमान खुर्शीद जामिया मिल्लिया इस्लामिया विश्वविद्यालय के बाहर CAA के खिलाफ भूख हड़ताल पर बैठे छात्रों से मिलने पहुंचे

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
CAA के खिलाफ बड़ा आंदोलन खड़ा करने की कूवत कांग्रेस में होती तो पिछला चुनाव न हारती : सलमान खुर्शीद

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और पूर्व केंद्रीय मंत्री सलमान खुर्शीद (फाइल फोटो).

खास बातें

  1. कहा- सरकार ने आंदोलनकारियों से बात करने की कोशिश नहीं की
  2. अगर 10-15 लोगों से सरकार बात कर लेती तो ये लोग यहां नहीं बैठे होते
  3. कांग्रेस में इतनी ताकत नहीं है कि वो इस तरह का आंदोलन देश में खड़ा करे
नई दिल्ली:

दिल्ली के जामिया मिल्लिया इस्लामिया विश्वविद्यालय के बाहर संशोधित नागरिकता कानून (CAA) के खिलाफ भूख हड़ताल पर बैठे छात्रों से मिलने के लिए आज कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और पूर्व केंद्रीय मंत्री सलमान खुर्शीद (Salman Khurshid) पहुंचे. खुर्शीद ने एनडीटीवी से कहा कि ''कांग्रेस (Congress) में इतनी ताकत नहीं है कि वो इस तरह का आंदोलन पूरे देश में खड़ा करे. इतनी ही कूवत हमारे अंदर होती तो हम पिछला चुनाव नहीं हारते.''

सलमान खुर्शीद ने कहा कि इतने सारे लोग नागरिकता कानून के खिलाफ महीने भर से बैठे हैं लेकिन सरकार ने इनसे कभी बात करने की कोशिश नहीं की. इनमें से अगर 10 से 15 लोगों से सरकार बात कर लेती तो मुझे पूरा विश्वास है कि ये लोग यहां नहीं बैठे होते.

संशोधित नागरिकता कानून (CAA) के खिलाफ चल रहे आंदोलन को लेकर पूर्व केंद्रीय मंत्री खुर्शीद ने कहा कि ''कांग्रेस में इतनी ताकत नहीं है कि वो इस तरह का आंदोलन पूरे देश में खड़ा करे. इतनी ही कूवत हमारे अंदर होती तो हम पिछला चुनाव नहीं हारते.''


'जामिया' के बाहर बोलीं JNUSU अध्यक्ष आयशी घोष, कहा- इस लड़ाई में कश्मीर को नहीं भूल सकते

गौरतलब है कि आंदोलन के चलते जामिया मिल्लिया इस्लामिया यूनिवर्सिटी में परीक्षाएं रद्द कर दी गई हैं. इसी माह जनवरी में आयोजित की जाने वाली परीक्षाएं अब कब होंगी, फिलहाल यह तय नहीं है. परीक्षाएं रद्द करने का फैसला जामिया विश्वविद्यालय की कुलपति नजमा अख्तर ने लिया है. छात्रों के भारी विरोध व दबाव के चलते विश्वविद्यालय प्रशासन को फिलहाल परीक्षाएं रद्द करने का निर्णय लेना पड़ा है.

हिंसा के मामले में FIR दर्ज कराने के लिए जामिया यूनिवर्सिटी कोर्ट जाएगी

छात्रों का कहना है कि जब तक विश्वविद्यालय परिसर में सुरक्षा की गारंटी नहीं दी जाती तब तक वे परीक्षाओं में शामिल नहीं होंगे.

जामिया में रद्द हुई परीक्षाएं, छात्रों ने कहा- सुरक्षा की गारंटी दिए बिना नहीं हो सकते एग्जाम

टिप्पणियां

VIDEO : जामिया यूनिवर्सिटी के बाहर धरना जारी



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें. India News की ज्यादा जानकारी के लिए Hindi News App डाउनलोड करें और हमें Google समाचार पर फॉलो करें


 Share
(यह भी पढ़ें)... जेल से निकलने के तुरंत बाद हार्दिक पटेल फिर हुए गिरफ्तार, जानें पूरा मामला

Advertisement