NDTV Khabar

राष्ट्रपति चुनाव: पवार के पीएम मोदी के साथ अच्छे संबंध, उन्हें अपनी उम्मीदवारी पर बात करनी चाहिए: अठावले

केंद्रीय मंत्री रामदास अठावले ने शनिवार को अगर राकांपा अध्यक्ष शरद पवार राकांपा के राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार बनना चाहें तो गठबंधन के भीतर उनके लिए आम-सहमति बनाने का प्रयास किया जा सकता है.

1.1K Shares
ईमेल करें
टिप्पणियां
राष्ट्रपति चुनाव: पवार के पीएम मोदी के साथ अच्छे संबंध, उन्हें अपनी उम्मीदवारी पर बात करनी चाहिए: अठावले

केंद्रीय मंत्री रामदास अठावले ने अगर पवार चुनाव लड़ना चाहते हैं तो उन्हें राजग के साथ आना चाहिए.

खास बातें

  1. अठावले ने कहा कि पवार हारने के लिए चुनाव नहीं लड़ेंगे
  2. कहा - अगर वह चुनाव लड़ना चाहते हैं तो उन्हें राजग के साथ आना चाहिए
  3. कहा - संप्रग उम्मीदवार के तौर पर चुनाव नहीं लड़ना चाहिए
नागपुर: केंद्रीय मंत्री रामदास अठावले ने शनिवार को कहा कि अगर राकांपा अध्यक्ष शरद पवार राकांपा के राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार बनना चाहें तो गठबंधन के भीतर उनके लिए आम-सहमति बनाने का प्रयास किया जा सकता है. केंद्रीय सामाजिक न्याय मंत्री रामदास अठावले ने यहां कहा कि पवार एक बुद्धिमान राजनेता हैं और वह हारने के लिए नहीं लड़ेंगे. अगर वह चुनाव लड़ना चाहते हैं तो उन्हें राजग के साथ आना चाहिए. इससे पहले विपक्षी खेमा राष्ट्रपति पद के लिए पवार के नाम पर विचार-विमर्श कर चुका है. महाराष्ट्र के दिग्गज नेता ने तब कहा था कि वह राष्ट्रपति चुनाव में किस्मत नहीं आजमाएंगे.

अठावले नागपुर के रवि भवन में संवाददाताओं से बातचीत कर रहे थे. वह केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी के जन्मदिन समारोह में शामिल होने आए थे. अठावले ने राष्ट्रपति चुनावों के उम्मीदवार के सवाल पर कहा, "केवल राजग उम्मीदवार ही चुनाव जीतेगा. पवार के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ अच्छे संबंध हैं और उन्हें प्रधानमंत्री मोदी और भाजपा अध्यक्ष अमित शाह से अपनी उम्मीदवारी पर बात करनी चाहिए." केंद्रीय सामाजिक न्याय मंत्री ने कहा, "अगर वह राजग के उम्मीदवार के रूप में चुनाव लड़ेंगे तो हम उनका समर्थन करेंगे. हालांकि उन्हें संप्रग उम्मीदवार के तौर पर चुनाव नहीं लड़ना चाहिए."" अठावले ने राजग सरकार के तीन साल पूरे होने पर प्रधानमंत्री मोदी की प्रशंसा की.

उन्होंने कहा कि मोदी का रख दलित समर्थक है और बड़ी संख्या में दलित भी भाजपा के लिए वोट दे रहे हैं. कई राज्यों में हाल ही में हुए चुनावों में मिली सफलता में यह चीज देखी जा सकती है. अठावले ने उत्तर प्रदेश के सहारनपुर में दलितों के घरों पर हुए कथित हमलों की निंदा की और कहा कि उन्हें सुरक्षा मिलनी चाहिए. उन्होंने यह भी कहा कि मौजूदा राज्य सरकार को हिंसा के लिए जिम्मेदार नहीं ठहराया जा सकता.    

(हेडलाइन के अलावा, इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है, यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement