भारतीय सेना में कोरोना वायरस का पहला मामला: पहले पिता पाए गए पॉजिटिव, फिर खुद जवान भी हुआ शिकार

मुंबई में 63 वर्षीय एक व्यक्ति की कोरोना वायरस के कारण हुई मौत के बाद भारत में इसकी वजह से मरने वालों की संख्या मंगलवार को बढ़कर तीन हो गई.

भारतीय सेना में कोरोना वायरस का पहला मामला: पहले पिता पाए गए पॉजिटिव, फिर खुद जवान भी हुआ शिकार

प्रतीकात्मक तस्वीर.

नई दिल्ली:

भारतीय सेना में कोरोना वायरस का पहला मामला सामने आया है. भारतीय सेना ने 34 वर्षीय जवान को आइसोलेशन सेंटर में रखा गया है. पहले जवान के पिता पॉजिटिव पाए गए थे, इसके बाद मंगलवार को जवान के पॉजिटिव होने की बात सामने आई. जवान के पिता ईरान से 27 फरवरी को लौटे हैं. उसके बाद उन्हें 29 मार्च से लद्दाख हार्ट फाउंडेशन में क्वारंटाइन कर दिया गया. इस दौरान वह जवान अपने परिवार की मदद कर रहा था. कुछ समय के लिए वह अपने गांव चुचोट में भी रुके थे. उनके पिता को कोरोना वायरस से संक्रमित होने की पुष्टि 6 मार्च को हुई थी. उसके बाद उन्हें एसएनएम अस्पताल में आइसोलेशन में रख दिया गया. 

फिर जवान को सात मार्च को क्वारंटाइन कर दिया गया और उन्हें 16 मार्च को कोरोना वायरस से संक्रमित पाया गया. इसके बाद उन्हें भी उसी अस्पताल में आइसोलेशन में रखा दिया गया. उनकी बहन, पत्नी और दो बच्चों को भी एसएनएम हार्ट फाउंडेशन में क्वारंटाइन कर दिया गया है. 

वहीं, मुंबई में 63 वर्षीय एक व्यक्ति की कोरोना वायरस के कारण हुई मौत के बाद भारत में इसकी वजह से मरने वालों की संख्या मंगलवार को बढ़कर तीन हो गई. स्वास्थ्य मंत्रालय के अधिकारियों ने कहा कि कोरोना वायरस के पुष्ट मामलों की संख्या बढ़कर 142 हो गई है. सरकार की तरफ से जारी एक अतिरिक्त यात्रा परामर्श के मुताबिक, सरकार ने अफगानिस्तान, फिलिपीन और मलेशिया से आने वाले यात्रियों पर तत्काल प्रभाव से रोक लगा दी है. इससे पहले सोमवार को सरकार ने यूरोपीय संघ के देशों, तुर्की और ब्रिटेन से आने वाले यात्रियों के प्रवेश पर 18 से 31 मार्च तक रोक लगा दी थी.

कुछ दिनों पहले तक ‘सामाजिक दूरी' (सोशल डिस्टेंसिंग) जैसा शब्द जहां बहुत से लोगों ने सुना तक नहीं था वह अचानक से बेहद चर्चा में है क्योंकि ताजमहल जैसे स्मारकों समेत सार्वजनिक स्थल बंद हैं और हजारों लोग अगले कुछ दिनों तक घर में रहने, तथा ऑनलाइन काम या पढ़ाई करने की तैयारी कर रहे हैं.

अधिकारियों ने कहा कि मुंबई का मरीज दुबई गया था और यह महाराष्ट्र में कोविड-19 से हुई मौत का पहला मामला है. राज्य में हालांकि कोरोना वायरस के सबसे ज्यादा 41 मामले सामने आए हैं.  इससे पहले कर्नाटक के कलबुर्गी में 76 वर्षीय एक व्यक्ति की मौत हुई थी और दिल्ली में भी 68 वर्षीय एक महिला की इस वायरस से संक्रमित पाए जाने के बाद मौत हो गई थी. जॉन्स हॉपकिंस विश्वविद्यालय के मुताबिक दुनियाभर में इस वायरस के कारण 7,100 से ज्यादा लोगों की मौत हो चुकी है जबकि 1,82,000 लोग इससे संक्रमित हैं.

वीडियो: कोरोना को लेकर बढ़ी एहतियात, रेलवे ने भी उठाए कई कदम