भारत किन-किन देशों से अपने नागरिकों को लाएगा और कब? यहां मिलेंगे आपके सभी सवालों के जवाब...

Coronavirus Lockdown: भारत विदेशों में फंसे 14 800 लोगों को वापस लाने के लिए आने वाले सप्ताह तक कम से कम 64 फ्लाइ‍टें संचालित करेगा

भारत किन-किन देशों से अपने नागरिकों को लाएगा और कब? यहां मिलेंगे आपके सभी सवालों के जवाब...

Coronavirus: भारत 7 से 13 मई के बीच 12 देशों से अपने क़रीब 15 हज़ार भारतीयों को स्वदेश वापस लाएगा.

नई दिल्ली:

कोरोना वायरस (Coronavirus) की महामारी के कारण लॉकडाउन (Lockdown) के चलते अन्य देशों में फंसे भारतीयों को वापस लाने के लिए भारत सरकार ने एक बड़ी योजना तैयार की है. इसके तहत विदेशों में फंसे 14,800 लोगों को वापस लाने के लिए आने वाले सप्ताह तक कम से कम 64 फ्लाइ‍ट्स संचालित की जाएंगी. विशेष उड़ानें कई देशों में भेजी जाएंगी. लोगों को वापस लाने के दौरान सोशल डिस्‍टेंसिंग का भी कड़ाई से पालन किया जाएगा और इन विशेष फ्लाइट्स में 200 से 300 यात्रियों को ही बैठने की इजाजत दी जाएगी. सरकार ने विदेशों से लाए जाने वालों की भुगतान दर तय कर दी है. वहां से वापस आने वाले लोगों को खुद किराया देना होगा. इन हवाई यात्राओं को लेकर उठने वाले सवालों के जवाब यहां जानिए-

सवाल : भारत किन देशों से अपने नागरिकों को लाने जा रहा है?
जवाब : 7 मई से 13 मई के बीच एक हफ़्ते में भारत 12 देशों से अपने क़रीब 15 हज़ार भारतीयों को लाने जा रहा है. ये देश हैं संयुक्त अरब अमीरात, सऊदी अरब, क़तर, बहरीन, कुवैत, ओमान, बांग्लादेश, फ़िलिपींस, सिंगापुर, मलेशिया, यूके और अमेरिका.

सवाल : इन देशों से किन नागरिकों को लाया जाएगा?
जवाब : कुल आठ मापदंड निर्धारित किए गए हैं जिनके आधार पर नागरिकों को वापस लाया जा रहा है. इनमें प्रवासी श्रमिक, छोटी अवधि के वीज़ाधारक, गर्भवती महिला, स्वास्थ्य इमरजेंसी, बुजुर्ग, पर्यटक, छात्र, किसी नज़दीकी संबंधी की मृत्यु और डिपोर्टेशन झेल रहे भारतीय शामिल हैं.

सवाल : इनको लाने की प्रक्रिया क्या अपनाई जा रही है. कैसे लाया जा रहा है?
जवाब : ऐसे नागरिकों को पहले अपने आपको रजिस्टर करने के लिए कहा गया. इसके बाद तय मापदंड के हिसाब से उनकी पहचान की गई है. इन्हें चौसठ फ्लाइटों के ज़रिए भारत लाया जा रहा है. सभी को अपना किराया देना है. जैसे अमेरिका से आने वालों को 1 लाख,  यूके से आने वालों को 50 हज़ार और खाड़ी के देशों से आने वालों को 15 हज़ार. इसी तरह कुल 12 देशों से आने वालों के लिए तयशुदा रक़म बताई गई है. इन सभी को मेडिकल जांच होगी. जिनमें लक्षण नहीं हैं उन्हीं को फ़्लाइट लेने दी जाएगा. फ़्लाइट में कोई संक्रमण न हो इसके लिए इनको सुरक्षा किट दिए जाएंगे.

सवाल : इन 12 देशों के अलावा भी कई देशों में भारतीय फंसे हैं. उनको लाने की भी कोई कार्ययोजना है क्या?
जवाब : नेपाल से लैंड बॉर्डर के ज़रिए भारतीयों को लाने की योजना है. लेकिन वो बाद की योजना है. मालदीव से नौसेना के जहाज़ में भारतीयों को लाया जा रहा है. इसे नौसेना ने ऑपरेशन समुद्र सेतु का नाम दिया है. इसी तरह जिन देशों में भी भारतीय फंसे हैं उनकी भी देर सबेर बारी आएगी, ऐसा माना जा रहा है.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

सवाल : किन-किन को लाना संभव नहीं होगा?
जवाब : OIC कार्ड होल्डर या जो भारतीय नागरिक नहीं हैं, उनको लाने का कोई प्रावधान नहीं है. ऐसे भारतीय जो इन देशों में पहले से सेटल हैं और अभी भी उनका रोज़गार और उनकी नौकरी बरकरार है, उन भारतीयों को नहीं लाया जाएगा.

सवाल : इतनी तादाद में लौटकर घर आने वाले भारतीय नागरिकों के लिए यहां भारत में क्या योजना है?
जवाब : लौटकर आने वाले हर भारतीय की मेडिकल जांच होगी और संस्थागत तौर पर उनको 14 दिनों के क्वारेंटाइन में रहना होगा. ये तो एक सामान्य प्रक्रिया है जो हर भारतीय के लिए अपनाई जाएगी. लौटकर आने वाले दक्ष कामगारों के लिए कोशिशें की जा रही हैं कि उनको उनकी दक्षता के हिसाब से देश की फ्लैगशिप परियोजनाओं में काम मिले.