Coronavirus: महाराष्ट्र में कैसे खुले लॉकडाउन? शरद पवार ने सीएम उद्धव ठाकरे को दिए सुझाव

Maharashtra Lockdown: शरद पवार के पोते रोहित पवार और पूर्व मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस में कोरोना महामारी से लड़ने में राज्य सरकार की भूमिका पर चला लंबा ट्वीटर वॉर

Coronavirus: महाराष्ट्र में कैसे खुले लॉकडाउन? शरद पवार ने सीएम उद्धव ठाकरे को दिए सुझाव

Maharashtra Lockdown: एनसीपी प्रमुख शरद पवार और सीएम उद्धव ठाकरे (फाइल फोटो).

मुंबई:

Maharashtra Coronavirus: देश मे कोरोना वायरस संक्रमण से सबसे बुरी तरह प्रभावित महाराष्ट्र में लॉकडाउन खोलना भी बड़ी चुनौती है. ऐसे में सरकार में शामिल पार्टी एनसीपी के मुखिया शरद पवार ने राज्य के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे से चर्चा करके कई सुझाव दिए. शरद पवार ने खुद ही एक के बाद एक कई ट्वीट करके इस बात की जानकारी दी है.

महाराष्ट्र में कोरोना का कहर जारी है. लॉकडाउन के चलते उद्योग-धंधे और स्कूल, सब बंद हैं. ऊपर से लाखों मजदूरों का पलायन भी जारी है. इन हालात में राज्य सरकार और जनता दोनों के लिए आने वाला समय बहुत चुनौतीपूर्ण है. ऐसे में एनसीपी नेता शरद पवार ने मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे से चर्चा करके उन्हें कई अहम सुझाव दिए.

शरद पवार के मुताबिक सबसे बड़ी चुनौती शैक्षणिक संस्थाओं के सामने आने वाली है. महामारी और लॉकडाउन के कारण अगले शैक्षणिक वर्ष में देरी होगी. शिक्षकों और विद्यार्थियों की संख्या भी घटेगी. शैक्षणिक संस्थान वित्तीय घाटे में जा सकते हैं. कुछ शैक्षणिक संस्थान बंद भी हो सकते हैं. इसलिए जरूरी है कि सरकार एक अध्ययन समिति बनाकर होने वाले नुकसान को रोकने के उपाय तलाशे.

एनसीपी प्रमुख के मुताबकि राज्य में उद्योगों को भी भारी नुकसान का सामना करना पड़ेगा. इसलिए कारखानों को फिर से शुरू करने के लिए रणनीति बनानी होगी. मजदूरों के पलायन से फैक्ट्रियों का काम प्रभावित होगा, इसलिए मजदूरों को वापस लाने की भी योजना बनाने की जरूरत है. राज्य में बंदरगाहों और अन्य उद्योगों को खोलने के लिए भी जरूरी कदम उठाए जाना जरूरी है. लॉकडाउन से  बधित रोड ट्रांसपोर्ट को भी धीरे धीरे खोलने के साथ हवाई और रेल यात्रा शुरू करने की भी योजना बनानी होगी.

शरद पवार ने एक के बाद एक कई ट्वीट करके आने वाली चुनौती से निपटने के लिए जरूरी सुझावों के साथ एहतियात बरतने की भी हिदायत दी है. यह भी कहा है कि कोरोना का संकट इतनी जल्दी खत्म नहीं होगा इसलिए हमें कोरोना के साथ ही जीने की आदत डालनी होगी. 

शरद पवार के ये सुझाव तब आए हैं जब उनके पोते रोहित पवार और पूर्व मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस में कोरोना महामारी से लड़ने में राज्य सरकार की भूमिका पर लंबा ट्वीटर वॉर चला. देवेन्द्र फडणवीस ने प्रधानमंत्री को नसीहत देने के बजाय राज्य के मुख्यमंत्री को नसीहत देने की हिदायत दी थी.

 
Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com