कोरोनावायरस (Coronavirus) की जांच किट पुणे की लैब ने बनाई, वैक्सीन की खोज के लिए पूरी दुनिया में होड़

Coronavirus testing Kit : कोरोनावायरस की वैक्सीन ढूंढ़ने में मची होड़ और वर्चस्व के बीच भारत को भी इस बीमारी से लड़ने का पहला अहम हथियार मिल गया  है.

कोरोनावायरस (Coronavirus) की जांच किट पुणे की लैब ने बनाई, वैक्सीन की खोज के लिए पूरी दुनिया में होड़

Coronavirus News : पुणे की लैब ने बनाई Covid19 टेस्टिंग किट

खास बातें

  • कोरोनावायरस की जांच के लिए देसी किट
  • पुणे की लैब ने बनाई टेस्टिंग किट
  • अब जल्द हो सकेगी रोगियों की पहचान
नई दिल्ली:

भारत में कोरोना वायरस के संक्रमित मरीजों की संख्या 600 पार हो गई है लेकिन आज कोरोना के 70 नए मामले सामने आए हैं. अब तक करीब 10 लोगों की जान चुकी है. वहीं ठीक होने वाले मरीजों की संख्या 43 है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज वाराणसी के लोगों को संबोधित करते हुए कहा है कि  महाभारत का युद्ध 18 दिनों में जीता गया था. आज कोरोना के खिलाफ जो युद्ध पूरा देश लड़ रहा है, उसमें 21 दिन लगने वाले हैं. हमारा प्रयास है इसे 21 दिन में जीत लिया जाए. वहीं आज एक राहत वाली खबर भी मिली है. कोरोनावायरस  (Coronavirus) की वैक्सीन ढूंढ़ने में मची होड़ और वर्चस्व के बीच भारत को भी इस बीमारी से लड़ने का पहला अहम हथियार मिल गया  है. पुणे की माईलैब डिस्कवरी सैल्युएशन ने कहा है कि उसने COVID19 की टेस्टिंग किट बना ली है और इसको भारतीय अनुसंधान परिषद यानी (ICMR) की ओर से मंजूरी भी मिल गई है. माई लैब डिस्कवरी सोल्यूशन के  बोर्ड ऑफ डायरेक्टर के सदस्य श्रीकांत पटोले ने NDTV को बताया कि एक किट की कीमत  1 लाख 20 हजार रुपए है और इसमें प्रति जांच का खर्चा 1200 रुपये आएगा. एक किट से 100 जांचें की जा सकेंगी. उन्होंने बताया कि लैब ने हर हफ्ते 2 लाख किट का उत्पादन कर सकती है. उन्होंने बताया कि अभी हो रही हैं जांच में पहले स्क्रीनिंग होती है, फिर रिपोर्ट आती है. इस पूरी प्रक्रिया में उसमें औसतन 7 से घन्टे लग जाते हैं.जबकि इस प्रक्रिया में स्क्रीनिंग और और कन्फर्मेशन ढाई घन्टे में हो जाएगा. इसके अलावा ICMR ने एक जर्मनी की एक कंपनी की किट को भी मंजूरी दी है.

गौरतलब है कि इस किट के आ जाने से एक बड़ी राहत मिलेगी और रोगियों की जांच की रिपोर्ट का ज्यादा इंतजार नहीं करना पड़ेगा. इसका फायदा ये होगा कि जल्द से जल्द कोरोनावायरस के रोगियों की पहचान की जा सकेगी.  इस बीमारी को वैक्सीन खोजने के लिए चीन, अमेरिका, इंग्लैंड और जापान सहित तमाम देशों  के बीच होड़ शुरू हो गई है और दुनिया भर के वैज्ञानिक इसके लिए दिन रात एक किए हुए हैं. कई दावों के बीच अभी तक कोई ठोस नतीजा नहीं निकल पाया है.

आपको बता दें कि देश में कोरोना वायरस संक्रमण के मामले बढ़कर बुधवार को 562 हो गए जबकि मृतकों में एक व्यक्ति के वायरस से संक्रमित नहीं होने का पता चलने के बाद मरने वालों की संशोधित संख्या कम होकर नौ रह गई. इस वायरस के संक्रमण को बचाने के लिए  प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने लॉकडाउन की घोषणा के बाद बुधवार से देश की 130 करोड़ की जनता तीन हफ्तों के लिए पूरी तरह से एक तरह घरों में बंद रहेगी. पीएम मोदी ने मंगलवार को देश को संबोधित करते हुए कहा, "आज मध्य रात्रि से, पूरा देश लॉकडाउन होगा. भारत को, भारत के हर नागरिक को, आपको, आपके परिवार को बचाने के लिए... हर सड़क को बंद किया जा रहा है.