दिल्ली में बढ़ सकती है COVID-19 पॉज़िटिव मामलों की तादाद, आंकड़ों से हुआ खुलासा

दिल्ली के लिए एक चिंताजनक तथ्य यह है कि सरकारी आंकड़ों के मुताबिक, आने वाले दिनों में COVID-19 पॉज़िटिव मामलों की तादाद बढ़ सकती है, क्योंकि यहां लगभग 14,748 लोगों को घरों में क्वारैन्टाइन किया गया है, जिनमें 754 लोग तो मंगलवार को ही जोड़े गए.

दिल्ली में बढ़ सकती है COVID-19 पॉज़िटिव मामलों की तादाद, आंकड़ों से हुआ खुलासा

प्रतीकात्मक तस्वीर.

नई दिल्ली:

दिल्ली में 17 मई के लॉकडाउन को खोल देने की योजना है, लेकिन बुधवार को राजधानी में COVID-19 पॉज़िटिव मामलों ने लगभग 8,000 का आंकड़ा छू लिया. पिछले 24 घंटों में 359 नए मामले सामने आए, और 20 मौतें हुईं. पिछले 50 दिन से बंद पड़ी दिल्ली के आंकड़ों तक NDTV की पहुंच बनी है, जिससे इशारा मिलता है कि 1,113 पॉज़िटिव मरीज़ अपने घरों से बाहर हैं, जबकि राजधानी में अब तक 1,13,345 परीक्षण किए गए हैं. दिल्ली में प्रति 10 लाख परीक्षणों की संख्या लगभग 5,200 है, जो देशभर में सर्वाधिक है.

दिल्ली के लिए एक चिंताजनक तथ्य यह है कि सरकारी आंकड़ों के मुताबिक, आने वाले दिनों में COVID-19 पॉज़िटिव मामलों की तादाद बढ़ सकती है, क्योंकि यहां लगभग 14,748 लोगों को घरों में क्वारैन्टाइन किया गया है, जिनमें 754 लोग तो मंगलवार को ही जोड़े गए. चिंताजनक पहलू यह है कि तीन सप्ताह पहले तक, यानी 21 अप्रैल तक दिल्ली में क्वारैन्टाइन किए गए लोगों की संख्या सिर्फ 8,637 थी, और अब तीन ही हफ्तों में इनमें 6,000 से अधिक मामले जुड़ चुके हैं.

हालांकि दिल्ली प्रशासन अधिकारियों का कहना है कि क्वारैन्टाइन में मौजूद लोग चिह्नित क्षेत्रों में हैं, और संख्या में वृद्धि अधिक परीक्षणों की वजह से हुई है. अधिकारियों को यह भी उम्मीद है कि आने वाले दिनों में इस बढ़ोतरी पर लगाम लग जाएगी.

दिल्ली सरकार के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया, "केंद्र सरकार ने संकेत दिया है कि नियंत्रण क्षेत्रों को फिर परिभाषित करने की शक्तियां स्थानीय अधिकारियों को दी जाएंगी..." उनके अनुसार दिल्ली में जिला प्रशासन द्वारा पुनर्निर्धारित किए जाने वाले क्षेत्र, मौजूदा क्षेत्रों की तुलना में छोटे होंगे और इनमें निगरानी अधिक सुव्यवस्थित होगी.

बुधवार तक 81 हॉटस्पॉट के साथ समूची दिल्ली रेड ज़ोन में है. अधिकतर हॉटस्पॉट मध्य, दक्षिण-पश्चिम, दक्षिण-पूर्व जिलों में हैं, और राजधानी के 60 प्रतिशत से अधिक मामले इन्हीं तीन जिलों से सामने आए हैं.

पिछले 24 घंटों के दौरान पश्चिमी दिल्ली में सबसे ज़्यादा मामले जोड़े गए, और 316 लोगों को क्वारैन्टाइन किया गया. अब जिले में कुल मामलों की संख्या 913 हो गई है. वैसे, क्वारैन्टाइन किए गए लोगों की तादाद के मामले में मध्य दिल्ली सबसे आगे है, जिसमें 3,818 लोगों को क्वारैन्टाइन किया गया है. 2,097 क्वारैन्टाइन किए गए केसों के साथ दक्षिण-पश्चिम जिला दूसरे तथा 1,299 क्वारैन्टाइन केसों के साथ दक्षिण-पूर्व जिला तीसरे स्थान पर है.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

इस बीच, यह जानकारी भी सामने आई है कि दिल्ली सरकार के स्वास्थ्य विभाग के आंकड़ों के अनुसार, राजधानी में COVID-19 का सबसे ज़्यादा असर 50 साल की उम्र से कम के लोगों में हुआ है. लगभग 70 प्रतिशत COVID-19 पॉज़िटिव मामले इसी आयुवर्ग में पाए गए हैं. 15.39 प्रतिशत मामले 50-59 वर्ष के आयुवर्ग में और 14.87 प्रतिशत मामले 60 वर्ष से अधिक आयु के लोगों में मिले हैं. मृत्यु के मामलों की अधिकतम संख्या उन नागरिकों में दर्ज की गई, जो 60 वर्ष से अधिक उम्र के थे.

वीडियो: पटरी पर लौटेगी रेल, सरकार चलाएगी और विशेष ट्रेनें