यूपी के मेरठ से सामने आया वीडियो, लॉकडाउन के दौरान सब्‍जी के ठेलों को पलटाते दिखे पुलिसकर्मी, जांच के आदेश

मेरठ में एक इलाके में एक छत से शूट किए गए 40 सेकंड के इस वीडियो में एक पुलिसकर्मी, जो कथित तौर पर इलाके में एक पुलिस चौकी का इंचार्ज था, भीड़भाड़ वाले इलाके में पुलिस टीम की टुकड़ी के साथ देखा जा सकता है.

यूपी के मेरठ से सामने आया वीडियो, लॉकडाउन के दौरान सब्‍जी के ठेलों को पलटाते दिखे पुलिसकर्मी, जांच के आदेश

वीडियो में पुलिसवालों को सब्‍जी के ठेले पलटाते हुए देखा जा सकता है

मेरठ:

Coronavirus Lockdown: उत्‍तरप्रदेश पुलिस (UP Police) के वरिष्ठ अधिकारियों ने उस मोबाइल फोन वीडियो को देखने के बाद जांच का आदेश दिया है जिसमें पश्चिमी यूपी के मेरठ (Meerut) के एक इलाके में पुलिसवालों की टीम सब्जी की गाड़ियों को पलटते हुए नजर आ रही है. यह वीडियो रविवार को वायरल हुआ. मेरठ में सराय बेहलीम ( Sarai Behleem) इलाके में एक छत से शूट किए गए 40 सेकंड के इस वीडियो में एक पुलिसकर्मी, जो कथित तौर पर इलाके में एक पुलिस चौकी का इंचार्ज था, भीड़भाड़ वाले इलाके में पुलिस टीम की टुकड़ी के साथ देखा जा सकता है. इस 'टीम' में शामिल कई पुलिसकर्मी सड़क के किनारे खड़ी सब्जी की गाड़ियों को पलट देते हैं. इसके बाद इस 'टीम' का नेतृत्व करने वाला पुलिसकर्मी इशारों में अपने अधीनस्थों को आगे बढ़ने के लिए कहता है

एसपी (सिटी) मेरठ डॉ. अखिलेश नारायण ने कहा, "यह एक कोविड-19 हॉटस्पॉट के करीब के इलाके से है. यह शहर के कोतवाली पुलिस स्टेशन से संबंधित है. मैंने इस क्षेत्र के एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी से औपचारिक पूछताछ करने के लिए कहा है. इस वीडियो के कई पहलू सामने आए हैं और मैंने इन सभी को पूछताछ के दौरान संज्ञान में लेने को कहा है. 

गौरतलब है कि COVID-19 के 242 मामलों के साथ मेरठ, यूपी के सबसे प्रभावित 5 जिलों में से एक है. यूपी सरकार ने मामले में कोरोना वायरस से प्रभावित 72 जिलों में 300 से अधिक हॉटस्पॉट की पहचान की थी. सरकार का कहना है कि इन क्षेत्रों में स्थानीय प्रशासन दूध और सब्जियों के लिए आवश्यक सामानों की होम डिलीवरी का इंतजाम करेगा. इस बीच, हॉटस्पॉट के करीब इस इलाके में सब्जियों की गाड़ियों को पलटने वाले पुलिस के मोबाइल फोन के वीडियो पर इलाके के नेताओं में नाराजगी है. इस इलाके के समाजवादी पार्टी (SP) के विधायक हाजी रफीक अंसारी ने कहा, "लॉकडाउन को करीब दो माह हो रहे हैं. कोई भोजन नहीं है, कोई काम नहीं कर पार रहा है. फिर भी सभी को लाठियां मिल रही हैं. मैं प्रशासन से निष्पक्ष जांच की अपील करता हूं. यदि पुलिस इस ढंग से काम करती है तो भोजन और आवश्यक चीजें किसी तक कैसे पहुंचेंगी?

VIDEO:  Red Zone में कुछ इस तरह से आगे बढ़ रही है जिंदगी

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com