निजामुद्दीन मरकज़ से जुड़े 300 से ज्यादा लोग कोरोनावायरस से संक्रमित, सिर्फ तमिलनाडु में 190 मामले

निजामुद्दीन मरकज़ (Nizamuddin Markaz) से निकाले गए लोगों में से 300 से अधिक कोरोनावायरस (Coronavirus) से संक्रमित पाए गए हैं. इनमें से सबसे ज्यादा मामले तमिलनाडु के हैं, जहां 190 लोग COVID-19 पॉजिटिव मिले हैं. 

निजामुद्दीन मरकज़ से जुड़े 300 से ज्यादा लोग कोरोनावायरस से संक्रमित, सिर्फ तमिलनाडु में 190 मामले

Nizamuddin Markaz News: निजामुद्दीन मरकज से निकाले गए 300 से ज्यादा लोग कोरोनावायरस से संक्रमित.

नई दिल्ली:

निजामुद्दीन मरकज़ (Nizamuddin Markaz) से निकाले गए लोगों में से 300 से अधिक कोरोनावायरस (Coronavirus) से संक्रमित पाए गए हैं. इनमें से सबसे ज्यादा मामले तमिलनाडु के हैं, जहां 190 लोग COVID-19 पॉजिटिव मिले हैं. मरकज से जुड़ा आंकड़ा 323 तक पहुंच गया है. तमिलनाडु के बाद सबसे ज्यादा 70 लोग आंध्रप्रदेश के है, वहीं, दिल्ली के 24, तेलंगाना के 10, अंडमान के 10, असम के पांच, पुड्डुचेरी के दो और कश्मीर से एक मामला सामने आया है. बता दें कि देशभर में 1600 से ज्यादा लोग कोरोनावायरस से संक्रमित हो चुके हैं और 38 लोगों की जान जा चुकी है. मालूम हो कि मरकज से 2300 लोगों को बाहर निकाला गया. इसके साथ-साथ आज सुबह 4 बजे मरकज को खाली कराया गया. हालांकि, मरकज़ से जुड़े लोगों का दावा था कि अंदर महज़ 1000 लोग थे. तेलगांना के 6 समेत सात कोरोनावायरस संक्रमितों की मौत के बाद सोमवार को निजामुद्दीन मरकज में रुके लोगों को बाहर निकालने की कार्रवाई शुरू की गई थी. दिल्ली पुलिस ने मरकज़ प्रशासन के खिलाफ एफआईआर दर्ज की है.  

बता दें कि राजधानी दिल्ली के हजरत निजामुद्दीन स्थित मरकज में 8 से 10 तक तबलीगी जमात में हिस्सा लेने के लिए काफी संख्या में लोग पहुंचे थे. इसमें देश के अलग-अलग राज्यों और विदेश से कुल 1830 लोग मरकज़ में शामिल हुए, जबकि मरकज़ के आसपास व दिल्ली के करीब 500 से ज्यादा लोग थे. तबलीगी जमात के इस कार्यक्रम में 200 से ज्यादा विदेशी लोगों के शामिल होने की खबर है.

लॉकडाउन के बाद भी निजामुद्दीन मरकज में भीड़ : 7 की मौत, इन 6 सवालों के जवाब कौन देगा?

मरकज़ में शामिल लोगों के इतने बड़ी संख्या में संक्रमित पाए जाने के बाद देश के विभिन्न राज्यों से इस कार्यक्रम में शामिल होने वाले लोगों की तलाश शुरू कर दी गई है. साथ ही उन्हें क्वारंटाइन में रखने और उनका परीक्षण करने को आदेश दिया गया है. बताया जा रहा है कि मरकज़ में उत्तर प्रदेश समेत कई राज्यों के लोग शामिल हुए थे. अब इन लोगों की तलाश की जा रही है ताकि कोरोनावायरस के संक्रमण को और फैलने से रोका जा सके. 

निज़ामुद्दीन मरकज़ पर केंद्रीय मंत्री मुख्तार अब्बास नक़वी बोले - तबलीगी जमात का जुर्म तालिबानी...

दक्षिण दिल्ली की वह इमारत जहां निजामुद्दीन मरकज़ के तहत कई देशों के लोग पहुंचे थे. उसे केंद्र द्वारा कोरोनावायरस हॉटस्पॉट (जहां संक्रमित लोगों की संख्या ज्यादा है) घोषित किया गया है. जानकारी के मुताबिक, 28 मार्च को गृह मंत्रालय ने राज्य सरकार को पत्र लिखकर बताया था कि हमें सूचना मिली है कि तबलीगी जमात में एक धार्मिक कार्यक्रम चल रहा है, हमें आशंका है कि अन्य देशों से आए लोगों से कोरोनावायरस का संक्रमण फैल सकता है. तबलीग-ए-जमात 100 साल से ज्यादा पुरानी संस्था है, जिसका हेडक्वार्टर दिल्ली की बस्ती निज़ामुद्दीन में है. यहां देश-विदेश से लोग लगातार साल भर आते रहते है. 

VIDEO: देश में कोरोना वायरस से मुकाबला करने के लिए सेफ्टी वेयर की कमी

 
Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com