CM अरविंद केजरीवाल बोले, दिल्‍ली के अधिकांश लोग रेस्‍टारेंट, ऑटो-टैक्‍सी शुरू करने के पक्ष में, इन सेवाओं पर अभी कहा-नो

मुख्‍यमंत्री ने कहा कि इस बात पर लोगों की आम सहमति है कि जितना भी खोला जाए कि सोशल डिस्टेंसिंग का सख्ती से पालन होना चाहिए और मॉस्क अनिवार्य हो.लोगों का कहना है कि सुबह पार्क में मॉर्निंग वॉक की इजाजत होनी चाहिए. ज्‍यादातर लोगों का यह भी मानना है कि ऑटो टैक्सी खुलनी चाहिए लेकिन डिस्‍टेसिंग के साथ. ऑटो में एक सवारी, टैक्सी में बस चलनी चाहिए

CM अरविंद केजरीवाल बोले, दिल्‍ली के अधिकांश लोग रेस्‍टारेंट, ऑटो-टैक्‍सी शुरू करने के पक्ष में, इन सेवाओं पर अभी कहा-नो

सीएम केजरीवाल ने लॉकडाउन के बारे में लोगों से सुझाव मांगे थे

नई दिल्ली:

Coronavirus Cases in India: कोरोना वायरस (Corona virus)की महामारी के कारण देश में इस समय 17 मई तक लॉकडाउन जारी है. देश में लॉकडाउन जारी रहेगा या कुछ शर्तों के साथ इसमें रियायत दी जाएगी, इस बारे में केंद्र सरकार जल्‍द ही फैसला करेगी. राज्‍यों के सीएम के साथ बैठक में पीएम नरेंद्र मोदी ने लॉकडाउन की स्थिति के बारे में विस्‍तार से चर्चा की थी और इस बारे में खास सुझाव 15 मई तक भेजने का आग्रह किया था. दिल्‍ली के सीएम अरविंद केजरीवाल (Arvind Kejriwal) ने इस बारे में दिल्‍ली (Delhi) की जनता से सुझाव मांगे थे. बड़ी संख्‍या में लॉकडाउन को लेकर सुझाव मिलने के बाद सीएम केजरीवाल गुरुवार को मीडिया से मुखातिब हुए. उन्‍होंने बताया कि ज्‍यादातर लोगों ने इस बारे में स्‍कूल-कॉलेज अभी नहीं खोलने का सुझाव दिया है. ज्‍यादातर लोगों की राय यह थी कि अभी होटल नहीं खोले जाएं लेकिन रेस्टोरेंट खोल दीजिए.रेस्टोरेंट में बैठकर न खाएं, खाने की चीजें लेकर चले जाएं. अधिकतर लोगों ने कहा कि नाई की दुकान नहीं खुलने चाहिए उसमें सबसे ज्यादा संक्रमण का खतरा है


दिल्ली के सीएम ने कहा कि लॉकडाउन को लेकर मैंने आपसे सुझाव मांगे थे और एक दिन का समय दिया था. हम आज शाम तक अपना प्रस्ताव प्रधानमंत्री के पास भेजना चाहते हैं और उसके बाद केंद्र सरकार निर्णय लेगी की कहां-कहां से किस तरह लॉक डाउन को लेकर रियायत दी जाए. सीएम ने बताया कि पिछले 24 घंटे में 4.75 लाख लोगों ने व्हाट्सएप,  10,700 ने ईमेल, 39,000 लोगों ने फोन के जरिये सुझाव दिए. उन्‍होंने बताया कि सैलून और सिनेमाहॉल के बारे में अधिकतर लोगों ने कहा है कि ये अभी नहीं खुलना चाहिए. इसके अलावा लोगों का कहना था कि शाम 7:00 बजे के बाद लोग घर से बाहर नहीं निकलेंगे यह टाइम लिमिट नहीं होनी चाहिए क्योंकि इसका कोई मतलब नहीं है. हालांकि उन्‍होंने कहा कि बुजुर्गो-बच्‍चों को अभी घर से बाहर निकलना नहीं चाहिए. इसके अलावा जिनको पहले से ही कोई बीमारी है उनके लिए कोरोना जानलेवा हो जाता है.


मुख्‍यमंत्री ने कहा कि इस बात पर लोगों की आम सहमति है कि जितना भी खोला जाए कि सोशल डिस्टेंसिंग का सख्ती से पालन होना चाहिए और मॉस्क अनिवार्य हो.लोगों का कहना है कि सुबह पार्क में मॉर्निंग वॉक की इजाजत होनी चाहिए. ज्‍यादातर लोगों का यह भी मानना है कि ऑटो टैक्सी खुलनी चाहिए लेकिन डिस्‍टेसिंग के साथ. ऑटो में एक सवारी, टैक्सी में बस चलनी चाहिए क्योंकि दफ़्तर खुले हैं और लोगों के पास साधन नहीं है.शॉपिंग मॉल भी धीरे-धीरे खोलने की तरफ बढ़ना चाहिए. इसके अलावा ज्‍यादातर लोगों की राय थी कि कंस्ट्रक्शन की इजाज़त भी मिलनी चाहिए. उन्‍होंने कहा कि आज शाम 4 बजे आपके सुझावों के साथ DDMA की बैठक LG साहब के साथ होगी.उसके बाद केंद्र सरकार को सारे सुझाव भेजेंगे फिर केंद्र सरकार लॉकडाउन पर सरकार फैसला लेगी. इस बीच दिल्ली में कोरोना के मामले बढ़कर 8470 हो गए हैं. पिछले 24 घंटों में 472 नए मामले सामने आए, पिछले 24 घंटों में आया अब तक का सबसे बड़ा उछाल है.

VIDEO: पीएम मोदी ने किया 20 लाख करोड़ के आर्थिक पैकेज का ऐलान

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com