यूपी सरकार ने खुले ट्रक में मजदूरों के शव के साथ घायलों को भेजा तो झारखंड के CM ने किया गुस्‍से का इजहार..

ये शव शनिवार सुबह लखनऊ से 200 किमी. दूर औरैया में सड़क दुर्घटना में मारे गए प्रवासी मजदूरों के थे. एक दिन बाद, ट्रक की तस्‍वीरें जिसमें मृतकों और घायलों को एक साथ ले जाया जा रहा था, सोशल मीडिया में वायरल हो गए थे.

लखनऊ/पटना:

Coronavirus Pandemic:  उत्तर प्रदेश में घायल प्रवासी मजदूरों (Migrant Labour) की खुले ट्रक में टारपोलिन में लिपटे शवों के साथ यात्रा करने की सामने आईं तस्‍वीरों को लेकर झारखंड के सीएम हेमंत सोरेन ने गुस्‍से का इजहार किया है. उन्‍होंने इसे जीवित और मृत इंसानों, दोनों के लिहाज से गरिमा के खिलाफ बताया है. ये शव शनिवार सुबह लखनऊ से 200 किमी. दूर औरैया में सड़क दुर्घटना में मारे गए प्रवासी मजदूरों के थे. एक दिन बाद, ट्रक की तस्‍वीरें जिसमें मृतकों और घायलों को एक साथ ले जाया जा रहा था, सोशल मीडिया में वायरल हो गए थे.झारखंड के सीएम (Jharkhand Chief Minister) हेमंत सोरेन (Hemant Soren) ने एक ट्वीट करके कहा, "हमारे प्रवासी श्रमिकों के इस अमानवीय व्यवहार से संभवतः बचा जा सकता था. मैं झारखंड की सीमा तक मृत मजदूरों को उपयुक्त तरीके से पहुंचाने की व्यवस्था करने का यूपीसरकार के ऑफिस और नीतीश कुमार जी से अनुरोध करता हूं. हम बोकारो में उनके घरों को पर्याप्त व्यवस्था सुनिश्चित करेंगे."

Newsbeep

गौरतलब है कि शनिवार को सुबह करीब 3.30 बजे औरैया में सड़क हादसे में 26 प्रवासी मजदूरों की मौत हो गई और 30 से अधिक घायल हो गए. हादसा उस समय हुआ जब पंजाब और राजस्‍थान से आ रहे दो ट्रक राजमार्ग पर आपस में टकरा गए थे. मृतकों में से 11 झारखंड के और बाकी पश्चिम बंगाल के थे. हादसे में जान गंवाने वाले झारखंड के मृतकों में से एक पलामू का था जबकि शेष बोकारो के थे. इसके एक दिन अधिकारियों ने झारखंड के बोकारो और पश्चिम बंगाल के पुरुलिया के लिए ट्रकों पर शवों और घायला लोगों को उनके राज्‍य भेज दिया था. हालांकि शवों के इस तरह से भेजे जाने के मामले में झारखंड के सीएम की प्रतिक्रिेया के बाद प्रयागराज के राजमार्ग पर इन ट्रकों को रोक दिया गया और शवों को एम्बुलेंस के जरिये भेजा गया था.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


झारखंड में सत्‍तारूढ़ गठबंधन सरकार का हिस्‍सा कांग्रेस ने इस मुद्दे पर कहा कि यात्रा के दौरान शव से 'खराब' होने शुरू हो गए थे. वरिष्‍ठ कांग्रेस नेता प्रमोद तिवारी ने कहा कि मेडिकल नियमों के अनुसार भी मजदूरों को ऐसी परिस्थितियों में यात्रा करने के लिएक मजबूर किया जाना "आपराधिक कृत्‍य" था. इस बीच औरैया के जिला मजिस्ट्रेट अभिषेक सिंह ने कहा, "जो फोटो वायरल हुई, उसकी जांच की जाएगी." इस बीच, औरैया में प्रवासी मजदूरों की मौत को लेकर यूपी में सियासी घमासान शुरू हो गया है. यूपी के सीएम योगी आदित्‍य नाथ ने इस बात की ओर से इशारा करते हुए कि दोनों ट्रक कांग्रेस शासित राज्‍यों में अवैध रूप से चल रहे थे, पार्टी पर निशाना साधा, वहीं कांग्रेस ने भी पलटवार करने में देर नहीं लगाते हुए यूपी के सीएम के इस्‍तीफे की मांग कर डाली थी.