गाजियाबाद में क्वारंटाइन में रखे गए तब्लीगी जमात के लोगों पर गंभीर आरोप, प्रशासन से की शिकायत

अस्पताल परिसर में नग्न घूमने, नर्सों के साथ छेड़छाड़ और अश्लील इशारे करने, अस्पताल स्टाफ से बीड़ी सिगरेट मांगने के आरोप

गाजियाबाद में क्वारंटाइन में रखे गए तब्लीगी जमात के लोगों पर गंभीर आरोप, प्रशासन से की शिकायत

प्रतीकात्मक फोटो.

नई दिल्ली:

कोरोना वायरस (Coronavirus) संक्रमण को रोकने के लिए निजामुद्दीन के मरकज से लाए गए लोग समस्या खड़ी कर रहे हैं. गाजियाबाद जिला एमएमजी अस्पताल में भर्ती कराए गए जमाती मरीजों पर गंभीर आरोप लगाए गए हैं. उन पर अस्पताल परिसर में बिना पैंट नग्न घूमने, नर्सों के साथ छेड़छाड़ और अश्लील इशारे करने, अस्पताल स्टाफ से बीड़ी सिगरेट मांगने के भी आरोप हैं. 

मुख्य चिकित्सा अधिकारी ने डीएम, एसएसपी और स्थानीय पुलिस को इसकी लिखित शिकायत दी है. दिल्ली के निजामुद्दीन मरकज में तब्लीगी जमात में शामिल हुए लोगों को आइसोलेशन में रखा गया है. कल स्टाफ ने सीएमओ से इस बारे में लिखित शिकायत की थी.

इससे पहले दिल्ली सरकार ने दिल्ली पुलिस से अपने कोरोना अस्पतालों और क्वारंटाइन सेंटर के लिए पर्याप्त सुरक्षा देने की मांग की है. दिल्ली की स्वास्थ्य सचिव ने इस बारे में दिल्ली के पुलिस कमिश्नर को चिट्ठी लिखी है. इस चिट्ठी में स्वास्थ्य सचिव पद्मिनी सिंघला ने निजामुद्दीन के मरकज से लाए गए लोगों के चलते हो रही समस्या के बारे में बताया है और पर्याप्त पुलिस बल तैनात करने की मांग की है.

स्वास्थ्य सचिव ने कहा है कि निजामुद्दीन के मरकज से लाए गए लोग कानून व्यवस्था के लिए समस्या खड़ी कर रहे हैं. अस्पताल के स्टाफ के लिए उनको संभालना बहुत मुश्किल हो रहा है.

चिट्ठी में बताया गया है कि कल दिल्ली सरकार के राजीव गांधी सुपर स्पेशलिटी हॉस्पिटल में मरकज से लाए गए एक मरीज ने आत्महत्या करने की कोशिश की. उसको अस्पताल के स्टाफ ने समय रहते रोक लिया. नरेला क्वारंटाइन सेंटर से दो लोग भाग गए जिनको बाद में पटपड़गंज से पकड़ा गया. मांग की गई है कि पर्याप्त पुलिस बल इन सभी अस्पतालों और क्वारंटाइन सेंटरों में तैनात किया जाए. दिल्ली सरकार के 5 अस्पताल कोरोना के इलाज में लगे हुए हैं जबकि दिल्ली सरकार ने 7 जगहों पर क्वारंटाइन सेंटर बनाए हैं.

गुरुवार को ही दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर जानकारी दी कि निजामुद्दीन के मरकज से कुल 2346 लोगों को निकाला गया था जिनमें से कुल 536 लोगों को अस्पताल में भर्ती कराया गया था और 1810 लोग क्वारंटाइन सेंटरों में भेजे गए थे. जो 536 लोग अस्पताल में भेजे गए थे उनमें से अब तक 108 लोगों को कोरोना  संक्रमण की पुष्टि हो गई है. दिल्ली में अब तक कोरोना के 219 मामले सामने आ चुके हैं जिसमें से करीब 50 फ़ीसदी यानी 108 मामले अकेले निजामुद्दीन के मरकत से निकाले गए लोगों के हैं.

 
Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com