लॉकडाउन के दौरान दिहाड़ी मजदूरों के पलायन को लेकर दायर याचिका पर आज सुनवाई करेगा सुप्रीम कोर्ट

सुप्रीम कोर्ट में जनहित याचिका दाखिल कर दिशा- निर्देश जारी करने की मांग की गई है. वकील अलख आलोक श्रीवास्तव ने याचिका में कहा है कि कोरोना के चलते लॉकडाउन होने से हजारों की संख्या में प्रवासी मजदूर अपने परिवार के साथ सैकड़ों किलोमीटर पैदल चल रहे हैं.

लॉकडाउन के दौरान दिहाड़ी मजदूरों के पलायन को लेकर दायर याचिका पर आज सुनवाई करेगा सुप्रीम कोर्ट

लॉकडाउन ने कई परिवारों को संकट में डाल दिया है

नई दिल्ली:

Coronavirus updates: कोरोना वायरस के प्रकोप के चलते देशभर में बड़े शहरों से पलायन कर रहे प्रवासी मजदूरों को लेकर दाखिल याचिका पर सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) सोमवार को सुनवाई करेगा. CJI एस ए बोबड़े और जस्टिस एल नागेश्वर राव की पीठ वीडियो कांफ्रेसिंग के जरिए सुनवाई करेगी. सुप्रीम कोर्ट में जनहित याचिका दाखिल कर दिशा- निर्देश जारी करने की मांग की गई है. वकील अलख आलोक श्रीवास्तव ने याचिका में कहा है कि कोरोना के चलते लॉकडाउन होने से हजारों की संख्या में प्रवासी मजदूर अपने परिवार के साथ सैकड़ों किलोमीटर पैदल चल रहे हैं. इनमें बुजुर्ग, बच्चे, महिलाएं और दिव्यांग भी शामिल हैं. उनके पास ना तो रहने की सुविधा है और ना ही खाने पीने व ट्रांसपोर्ट की. इसलिए सुप्रीम कोर्ट देश भर में प्रशासन को आदेश दे कि इन लोंगों को हर जगह शेल्टर होम में रखकर सुविधाएं दी जाएं. 

देश में कोरोनावायरस (Coronavirus) संक्रमण के मामले बढ़कर 1024 हो गए हैं. स्वास्थ्य मंत्रालय के आंकड़ों के मुताबिक इस बीमारी से अब तक 27 लोगों की मौत हो चुकी है. राहत वाली बात ये है कि 96 मरीज इस बीमारी से ठीक भी हो चुके हैं. रविवार शाम तक 106 नए मामले सामने आए हैं.

वहीं, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) ने रविवार को कोरोनावायरस लॉकडाउन (Coronavirus Lockdown) की वजह से देश की जनता को रही परेशानियों के लिए क्षमा मांगते हुए कहा कि यह फैसला जरूरी था. उन्होंने कहा, 'ये लॉकडाउन आपके खुद के बचने के लिए है. आपको खुद को और अपने परिवार को बचाना है. आपको लक्ष्मण रेखा का पालन करना ही है. कोई कानून, कोई नियम नहीं तोड़ना चाहता लेकिन कुछ लोग अभी भी ऐसा कर रहे हैं, वो परिस्थितियों की गंभीरता को नहीं समझ रहे हैं." बता दें कि पूरी दुनिया में कोरोनावायरस से अबतक 30 हजार से ज्यादा मौतें हो चुकी हैं.

कोरोना: बसों से भेजना अब बंद

 
Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com