भारत में सुस्त शुरुआत के बावजूद एक हफ्ते में करीब 16 लाख लोगों को लगी कोरोना की वैक्सीन

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने कहा कि टीका लगने के बाद अब तक कुल 6 लोगों की मौत हुई है. अब तक हुई किसी भी मौत का टीकाकरण से कोई संबंध नहीं पाया गया है. 

भारत में सुस्त शुरुआत के बावजूद एक हफ्ते में करीब 16 लाख लोगों को लगी कोरोना की वैक्सीन

23 जनवरी तक 15.82 लाख लोगों को लगाई गई वैक्सीन (प्रतीकात्मक तस्वीर)

नई दिल्ली:

भारत में दुनिया का सबसे बड़ा कोरोना वैक्सीनेशन अभियान (Vaccination Drive) चल रहा है. भारत में टीकाकरण की अभियान शुरुआत 16 जनवरी को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने की. धीमी गति से शुरू हुआ टीकाकरण अभियान अब तेजी पकड़ने लगा है. 16 जनवरी से अब तक (23 जनवरी तक) 27,920 सेशन में 15.82 लाख लोगों को कोरोनावायरस वैक्सीन (Coronavirus Vaccine) लगाई गई है. स्वास्थ्य मंत्रालय के मुताबिक, अकेले शनिवार को 3,512 सत्रों में 1.91 लाख लोगों को वैक्सीन दी गई. 

सरकार ने कहा कि कुल 1,283 लोगों में अब तक प्रतिकूल असर (Adverse Effect) दिखने की घटना समाने आई है, जो कि कुल टीकाकरण का महज 0.08 प्रतिशत है. सिर्फ 11 लोगों यानी 0.0007 प्रतिशत लोगों को वैक्सीन लगने के बाद अस्पाताल में भर्ती करना पड़ा. 

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने कहा कि टीका लगने के बाद अब तक कुल 6 लोगों की मौत हुई है. अब तक हुई किसी भी मौत का टीकाकरण से कोई संबंध नहीं पाया गया है. 

पहले हफ्ते में सुस्त शुरुआत के बाद, भारत में टीकाकरण की संख्या धीरे-धीरे बढ़ रही है. सातवें दिन तक करीब 3.5 लाख स्वास्थ्य कर्मियों को वैक्सीन लगाई जा चुकी है. कोरोना वैक्सीन के लिए खासतौर पर तैयार किए गए को-विन (CoWin) के डेटाबेस में बदलाव करने से वाक-इन वैक्सीनेशन की अनुमति मिलने से संख्या में वृद्धि हुई है. उदाहरण के लिए, ऐसे स्वास्थ्यकर्मी, जो कि एक निश्चित तारीख पर नहीं आए, वे भी आकर वैक्सीन लगवा सकते हैं. 


दिल्ली में 23 जनवरी को कुल 6,957 लोगों को टीके लगे. 23 जनवरी को टीके का लक्ष्य 8100 था. लक्ष्य के 86 प्रतिशत लोगों को टीके लगाए गए. दिल्ली सरकार के चार बड़े अस्पतालों में 100 प्रतिशत टीकाकरण हुआ.

वीडियो: देश में अब तक 15 लाख से अधिक लोगों को लगाई गई कोरोना की वैक्सीन

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com