भारत को चीन की Covid-19 टेस्ट किट के लिए चुकाने पड़े दोगुने दाम? कानूनी मुकदमेबाजी में हुआ खुलासा

मामला उस समय गरमाया जब तमिलनाडु सरकार ने दूसरे डिस्ट्रीब्यूटर शान बायोटेक के जरिये इसी आयातक मैट्रिक्स से किटों को 600 रुपये प्रति किट के हिसाब से खरीदा.

भारत को चीन की Covid-19 टेस्ट किट के लिए चुकाने पड़े दोगुने दाम? कानूनी मुकदमेबाजी में हुआ खुलासा

दिल्ली हाइकोर्ट पहुंच लड़ाई के बाद हुआ खुलासा (फाइल फोटो)

नई दिल्ली:

कोरोनावायरस की जांच (Coronavirus Test) में इस्तेमाल होने वाली चीन की रैपिड एंटीबॉडी टेस्ट किट (Rapid Antibody Test Kit) के लिए भारत को दोगुनी कीमत चुकानी पड़ी है. भारतीय डिस्ट्रीब्यूटर रीयल मेटाबॉलिक्स ने भारत सरकार को Covid-19 टेस्ट किट ऊंचे दामों पर बेचा है. वितरक और आयातक के बीच कानूनी मुकदमेबाजी होने और यह मामला दिल्ली उच्च न्यायालय (Delhi High Court) पहुंचने के बाद इस बात का खुलासा हुआ है. फिलहाल, गलत नतीजे देने से बाद कई राज्यों ने इस टेस्ट किट के उपयोग पर रोक लगा रखी है. 

सरकार ने ICMR के जरिये 27 मार्च को चीन की कंपनी वांडफो को 5 लाख रैपिड एंटीबॉडी टेस्ट किट का ऑर्डर दिया था. NDTV को खरीदार ICMR और आर्क फार्मा के बीच हुए करार के दस्तावेज मिले हैं. चीन में भारतीय राजदूत विक्रम मिश्री ने 16 अप्रैल को ट्वीट में लिखा था- रैपिड एंटीबॉडी टेस्ट किट और आरएनए एक्सट्रेक्शन किट समेत 6.50 लाख किट्स को भारत भेज दिया गया है. 

pgqibhhg

इन टेस्ट किट्स को आयातक कंपनी मैट्रिक्स ने चीन से 245 रुपये प्रति किट के हिसाब से खरीदा था. डिस्ट्रीब्यूटर रीयल मेटाबॉलिक्स और आर्क फार्मास्यूटिकल्स ने इसी किट को सरकार को 600 रुपये के भाव पर बेचा था. मामला उस समय गरमाया जब तमिलनाडु सरकार ने दूसरे डिस्ट्रीब्यूटर शान बायोटेक के जरिये इसी आयातक मैट्रिक्स से किटों को 600 रुपये प्रति किट के हिसाब से खरीदा. एनडीटीवी को तमिलनाडु सरकार और शान बायोटेक के बीच हुए करार के दस्तावेज भी मिले हैं. 

qklrk3fo

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

रीयल मेटाबॉलिक्स ने मैट्रिक्स द्वारा आयात की गई किट के लिए एक्सक्लूसिव डिस्ट्रीब्यूटर होने का दावा करते हुए इस मामले को लेकर दिल्ली उच्च न्यायालय का दरवाजा खटखटाया है. रीयल मेटाबॉलिक्स का आरोप है कि तमिलनाडु में किट की आपूर्ति के लिए किसी दूसरे डिस्ट्रीब्यूटर को जोड़ना करार का उल्लंघन है. मामले की सुनवाई करते हुए कोर्ट ने पाया कि किट के दाम "काफी ऊंचे" हैं. न्यायालय ने किट्स की कीमत को घटाकर 400 रुपये प्रति किट रखने का निर्देश दिया है. 

वीडियो: IIT दिल्ली ने तैयार की सबसे सस्ती कोरोना टेस्ट किट