दिल्‍ली में टेस्टिंग बढ़ी लेकिन एक हफ्ते में सिर्फ एक हजार एक्टिव केस का हुआ इजाफा: CM केजरीवाल

सीएम ने कहा कि आज से ठीक 1 हफ्ता पहले दिल्ली में 24000 एक्टिव केस थे और एक हफ्ते में केवल एक हजार एक्टिव केस बढ़े. इसका मतलब यह है कि जितने लोग बीमार हुए उतने ही लोग ठीक हुए. मुख्‍यमंत्री ने कहा कि हमने पिछले दिनों में टेस्टिंग तीन गुना से भी ज्यादा बढ़ा दी है.

दिल्‍ली में टेस्टिंग बढ़ी लेकिन एक हफ्ते में सिर्फ एक हजार एक्टिव केस का हुआ इजाफा: CM केजरीवाल

सीएम अरविंद केजरीवाल ने बताया, दिल्‍ली में इस समय 25 हजार एक्टिव केस हैं

नई दिल्ली:

Covid-19 Pandemic: दिल्ली के मुख्‍यमंत्री अरविंद केजरीवाल (Arvind Kejriwal) ने देश की राजधानी में कोरोना को लेकर (Corona Cases In Delhi) स्थिति कुछ बेहतर होने का दावा किया. डिजिटल प्रेस कॉन्फ्रेंस के जरिये मीडिया से बात करते हुए उन्‍होंने कहा, आज दिल्ली मैं लगभग 25 हजार एक्टिव केस है. 33000 लोग ठीक होकर अपने घर जा चुके हैं अस्पताल में 6000 लोग हैं जबकि होम आइसोलेशन में 12,000 लोग हैं. सीएम ने कहा कि आज से ठीक 1 हफ्ता पहले दिल्ली में 24000 एक्टिव केस थे और एक हफ्ते में केवल एक हजार एक्टिव केस बढ़े. इसका मतलब यह है कि जितने लोग बीमार हुए उतने ही लोग ठीक हुए. मुख्‍यमंत्री ने कहा कि हमने पिछले दिनों में टेस्टिंग तीन गुना से भी ज्यादा बढ़ा दी है. उन्‍होंने कहा कि बीच में कुछ लोगों को अपना टेस्ट कराने में दिक्कत आ रही थी लेकिन मैं समझता हूं कि अब दिक्कत नहीं आ रही.

केजरीवाल ने बताया कि पहले 5010 रोजाना हो रहे थे अब 18000 रोजाना हो रहे हैं. उन्‍होंने बताया कि कुछ लैब में गड़बड़ करने की कोशिश की थी उनके खिलाफ कार्रवाई की गई है. कुछ टेस्‍ट की रिपोर्ट नेगेटिव होने के बाद भी पॉजिटिव दिखा रही थीबातचीत के दौरान मुख्‍यमंत्री ने बताया कि केंद्र सरकार की मदद से दिल्ली में रैपिड एंटीजन टेस्ट भी शुरू किए गए हैं जिससे 15 से 30 मिनट में पता चल जाता है. जिन लोगों का इलाज हम घर पर करते हैं जो हाल के लक्षण वाले होते हैं या जिनको बुखार होता है, खांसी होती है या कोई लक्षण नहीं होता ऐसे लोगों का इलाज उनके घर में रहकर ही होता है. रोजाना हमारी टीम उनको फोन करके उनकी हालत पूछती है और सलाह देती है. उन्‍होंने कहा कि कोरोना में एक समस्या सबसे ज्यादा होती है कि मरीज को सांस लेने में दिक्कत आती है और मरीज को तुरंत ऑक्सीजन की जरूरत पड़ती है. अगर मरीज को तुरंत ऑक्सीजन मिल जाए तो मरीज को बता बचाया जा सकता है. उन्‍होंने बताया कि दिल्ली सरकार अब हर होम आइसोलेशन वाले केस को एक पल्स ऑक्सीमीटर देगी जब आप ठीक हो जाएं तो सरकार को वापस कर दीजिए. इससे आप अपनी ऑक्सीजन जांचते रहिए और अगर ऑक्सीजन कम हो तो आप सूचित करिए और हमारी टीम ऑक्सीजन कंसंट्रेटर लेकर तुरंत पहुंच जाएगी. सीएम ने यह भी कहा कि जरूरत पड़ेगी तो ऐसे पेशेंट्स को अस्पताल में शिफ्ट कर दिया जाएगा. हर जिला स्तर पर ऑक्सीजन कंसंट्रेटर रख रहे हैं.

उन्‍होंने बताया कि 12 जून को दिल्ली के सारे अस्पतालों में मिलाकर 5300 बेड्स भरे थे, आज 6200 बेड्स भरेहै. इसक तरह 10 दिन में 900 बेड्स भरे जबकि 23,000 नायर मरीज़ आये. इनमें से केवल अस्पताल में गए यानी जितने लोग अस्पताल में एडमिट हो रहे हैं उतने ही लोग ठीक हो कर घर जा रहे हैं. दूसरी अहम बात यह है कि जितने मामले में आ रहे हैं उसमें ज्यादातर हल्के लक्षण वाले हैं. बड़े पैमाने पर बेड्स की जरूरत फिलहाल नहीं पड़ रही. आज की तारीख में करीब 7000 बेड खाली हैं.इस दौरान हमें केंद्र सरकार से काफी सहयोग मिल रहा है. दिल्ली सरकार और केंद्र सरकार मिलकर कोरोना पर काबू पाने में लगे हुए हैं.

पूर्वी लद्दाख में भारत-चीन के सैनिकों के बीच हिंसक संघर्ष को लेकर उनहोंने कहा कि आज देश दो तरह के युद्ध लड़ रहा है. पहला वायरस के खिलाफ और दूसरा बॉर्डर पर चाइना के खिलाफ. देश डॉक्टर और हमारे सैनिकों दोनों के साथ खड़ा हुआ. इन दोनों मामलों में कोई राजनीति नहीं होनी चाहिए कोई पार्टी बाजी नहीं होनी चाहिए.हमारे 20 जवान पीछे नहीं हटे थे देश भी पीछे नहीं हटेगा.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com