विदेशों में फंसे भारतीयों को वापस लाएगी सरकार- योजना पर विदेश मंत्रालय कर रहा काम लेकिन टिकटों के लिए...

कोरोनावायरस लॉकडाउन (Lockdown) की वजह से भारत के कई नागरिक दूसरे देशों में फंसे हैं, जिन्हें वापस लाने के लिए सरकार योजना बना रही है.

विदेशों में फंसे भारतीयों को वापस लाएगी सरकार- योजना पर विदेश मंत्रालय कर रहा काम लेकिन टिकटों के लिए...

कोरोनावायरस की वजह से 3 मई तक देशव्यापी लॉकडाउन है.

नई दिल्ली:

भारत के साथ-साथ दुनिया के 185 से ज्यादा देशों में कोरोनावायरस (Coronavirus) कहर जारी है. दुनियाभर में कोविड-19 से 2 लाख से ज्यादा लोगों की मौत हो चुकी, वहीं भारत में भी 800 से ज्यादा लोग अपनी जान गंवा चुके हैं. कोरोना को फैलने से रोकने के लिए भारत के साथ-साथ दुनिया के कई देशों में लॉकडाउन (Lockdown) लगा दिया गया है. भारत में 3 मई तक लॉकडाउन लागू है. लॉकडाउन की वजह से भारत के कई नागरिक दूसरे देशों में फंसे हैं, जिन्हें वापस लाने के लिए सरकार योजना बना रही है. विदेश मंत्रालय इसके लिए नागरिक उड्डयन मंत्रालय, एयर इंडिया, राज्य सरकारों और विदेशों में स्थित भारतीय मिशन से संपर्क कर उन भारतीयों को वापस लाने की योजना पर काम करना शुरू कर दिया है जो वापस स्वदेश लौटना चाहते हैं.

सरकारी सूत्रों ने NDTV को बताया कि विचार-विमर्श जारी है, लेकिन देशव्यापी लॉकडाउन के खत्म होने के बाद ही इन्हें वापस लाया जाएगा. सूत्रों ने बताया कि विदेश में फंसे भारतीय को वापस लाने के लिए विशेष उड़ानों और नियमित उड़ानों का ही सहारा लिया जाएगा, लेकिन लॉकडाउन की स्थिति के आधार पर अलग-अलग राज्यों के लिए इसे अलग-अलग तरीकों से अमल में लाया जाएगा. इसके लिए नागरिकों को टिकटों के पैसे देने होंगे.

बता दें कि बीते 24 मार्च से हजारों भारतीय विदेशों में फंसे हैं, खासतौर पर खाड़ी देशों में. उधर, खाड़ी देशों द्वारा अपने नागरिकों को वापस ले जाने के लिए भारतीय राजनयिकों पर दबाव डाला जा रहा है. 

Newsbeep

उन क्षेत्रों में काम करने वाले लोगों की वापसी के लिए भारत में विशेष रूप  से राजनीतिक मांगें आई हैं खासतौर पर केरल से. इस मुद्दे पर विदेश मंत्रालय राज्य सरकारों और विदेश में स्थित भारतीय मिशन के साथ मिलकर काम कर रहा है और जो भारतीय वापस लौटना चाह रहे हैं उनका पंजीकरण करवा रहा है. कई देशों में फंसे भारतीयों को वापस लाया जाएगा, लेकिन उड़ान टिकटों के पैस नागरिकों को खुद वहन करने पड़ेंगे.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


लॉकडाउन की वजह से सभी घरेलू और अंतरराष्ट्रीय उड़ानों पर रोक लगी हुई है. भारत ने लॉकडाउन लागू होने से पहले विदेशों में फंसे कई भारतीय नागरिकों को वापस लाया है.  COVID-19 के प्रसार को कम करने के लिए भारत में एक महीने से अधिक समय से लॉकडाउन है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा 3 मई तक लॉकडाउन बढ़ाया गया है, क्योंकि अत्यधिक संक्रामक रोगों के मामले बढ़ गए थे. देश में अभी 26,000 से अधिक कोरोनोवायरस के मामले हैं, 824 लोगों की मौत हो चुकी है.